Followers

Thursday, January 16, 2020

ताशकंद यात्रा – ८ आइये चलते हैं बुखारा – १



समरकंद की रोचक, रोमांचक और उत्साहवर्धक यात्रा के बाद बुखारा देखने की ललक और बढ़ गयी थी ! बुखारा के बारे में पहले से ही बहुत कुछ सुना हुआ था कि यह अद्भुत शहर है ! इसका धार्मिक महत्त्व बहुत अधिक है ! दूर दूर के देशों में मस्जिदों के लिए इमाम यहीं के मदरसों से बुलाये जाते हैं ! हमारे यहाँ दिल्ली की जामा मस्जिद के इमाम सैयद अब्दुल्ला बुखारी के पूर्वज भी बुखारा से ही आये थे ! इसीलिये उनके नाम के आगे ‘बुखारी’ उपाधि लगाई जाती है ! करीमबेग के यहाँ से डिनर के बाद हम लोग सीधे रेलवे स्टेशन पहुँचे ! समरकंद से बुखारा की यह यात्रा भी हमें ट्रेन से ही करनी थी ! उज्बेकिस्तान में जनसंख्या बहुत अधिक नहीं है तो रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड या हवाई अड्डा कहीं पर भी लोगों का जमघट और भीड़भाड़ नहीं होती ! हम सब लोग बहुत ही आराम से समय पर स्टेशन पहुँच गए और ट्रेन में सभी आराम से अपने स्थान पर बैठ गए ! रात का वक्त था, दिन में समरकंद के सिटी टूर के बाद सब थके भी हुए थे, अँधेरे की वजह से खिड़की के बाहर भी कुछ देखने के लिए दिलकश नज़ारा नहीं था ! खाना खाने के बाद वैसे भी नींद जल्दी आने लगती है ! इसलिए कुछ ऊँघते कुछ सोते सब विश्राम की मुद्रा में आ गए ! समरकंद से बुखारा की दूरी बहुत अधिक नहीं है ! हम लोग साढ़े दस बजे तक बुखारा पहुँच गए थे !
यहाँ भी स्टेशन के बाहर हमारे बुखारा के गाइड अपनी शानदार बस के साथ हम लोगों के स्वागत के लिए हमें स्टेशन के बाहर खड़े मिले ! मेहमान नवाज़ी में उज्बेकिस्तान के लोग बहुत ही दक्ष हैं इसमें कोई दो राय नहीं हो सकतीं ! बस में सवार हो हम लोग जल्दी ही अपने गंतव्य पर पहुँच गये ! हमारे होटल का नाम था ल्याबी हाउस !
ताशकंद और समरकंद के मुकाबले में बुखारा का वह हिस्सा, जिसमें हम ठहरे थे, कुछ पुरातन अवस्था में दिखा ! होटल पतली गली में होने की वजह से बस ने हमें काफी दूर उतारा था ! सड़कों में गड्ढे थे और शाम को ही बारिश हो जाने कारण उनमें पानी भरा था ! बिलकुल नए शहर में अपना सामान खुद ही लेकर होटल तक पहुँचना रात के उस वक्त में चुनौती भरा लग रहा था ! शायद थके हुए थे, नींद से बोझिल हो रहे थे और अनजान जगह पर वैसे भी हर मंजिल दूर ही लगती है ! अगली सुबह यही सब कुछ बिलकुल विपरीत प्रतीत हो रहा था ! सारा आलम बड़ा ही खुशनुमां और जाना पहचाना सा लग रहा था ! असली चैलेन्ज तो होटल में था झेलने के लिए ! यहाँ लिफ्ट नहीं थी ! तीन मंज़िल के इस होटल में हम लोगों के कमरे तीनों फ्लोर्स पर बुक थे ! लेकिन सबका आग्रह यही था कि ग्राउंड फ्लोर पर ही कमरा मिले ! होटल के सारे कमरे भरे हुए थे ! ग्राउंड फ्लोर पर केवल चार ही कमरे हमारे ग्रुप के नाम अलॉटेड थे ! सब बहुत थके हुए थे और बिना लिफ्ट के ऊपर चढ़ना कोई नहीं चाहता था ! रिसेप्शन काउंटर पर होटल का जो कर्मचारी बैठा था इतने शोर शराबे से घबरा कर वह चाबियाँ संतोष जी को सौंप कर अंतर्ध्यान हो गया ! हम शान्ति से अपनी चाबी का इंतज़ार कर रहे थे ! सबसे आखीर में संतोष जी के पास अंतिम चाबी जो रह गयी वह हमें मिली और वह थी तीसरे फ्लोर की ! नींद के मारे हालत खराब हो रही थी ! जैसे तैसे हिम्मत करके यह हिमालय भी हम चढ़ गए ! लेकिन ऊपर कमरे में पहुँच कर मन प्रसन्न हो गया ! खूब बड़ा कमरा था और उसका इंटीरियर देखने लायक था ! कमरे से ज़रा ही छोटा बाथरूम था ! बिलकुल साफ़ और आरामदेह ! कमरे में wi fi काम कर रहा था ! जल्दी जल्दी दिन भर के मैसेजेज़ चेक किये और बिना समय गँवाए सुबह पहनने वाले कपड़े बाहर निकाल हम फ़ौरन सोने के मूड में आ गए !
सुबह का आलम बहुत ही खूबसूरत था ! ल्याबी हाउस होटल बुखारा के जिस इलाके में है यह पूर्व में यहूदियों के रहने का मोहल्ला हुआ करता था ! एक से एक अमीर और धनवान यहूदी यहाँ अपनी बेशकीमती हवेलियों और शाही भवनों में रहा करते थे ! विश्व युद्ध के बाद में वे सब तो अमेरिका, यूरोप, कैनेडा आदि देशों में बसने के लिए चले गए लेकिन अपनी इन हवेलियों को उचित रख रखाव के साथ सजा संवार कर होटलों में तब्दील कर गए ! जिस होटल में हम ठहरे थे, ल्याबी हाउस, यह भी पूर्व में किसी बहुत धनी यहूदी का अपना रिहाइशी महल था जिसे बाद में होटल में तब्दील कर दिया गया ! हमारे यहाँ भारत में भी तो राजस्थान व अन्य अनेकों प्रदेशों में राजे महाराजों के महलों को होटल में कन्वर्ट कर दिया गया है ! घर के बीच में बड़ा सा आँगन ! आँगन में बड़े बड़े डबल बेड के साइज़ के खूबसूरत कालीनों व मसनदों से सजे तखत ! एक साइड में रिसेप्शन उसके सामने डाइनिंग हॉल एक तरफ खूब विशाल प्रवेश द्वार ! और तीसरी तरफ नीचे व ऊपर की मंजिलों में अतिथियों के ठहरने के लिए बड़े बड़े आराम देह कमरे ! तीसरी मंज़िल तक जाने के लिए सीढ़ियां लकड़ी की बनी हुई थीं ! होटल में हमारा आना जाना पीछे के छोटे द्वार से हो रहा था ! कदाचित इसलिए कि बुखारा के जिन दर्शनीय स्थलों को हमें देखना था वे वहाँ से बिलकुल पास थे !
ऊपर से नीचे का नज़ारा बहुत ही खूबसूरत लग रहा था ! जल्दी जल्दी तैयार होकर हम भी नीचे पहुँचे ! गरमागरम नाश्ता सर्व हो रहा था ! बाहर सहन में भी टेबिल चेयर्स लगी हुई थीं और अन्दर डाइनिंग हॉल में भी खाने का प्रबंध था ! बाहर भी खुशगवार वातावरण था ! अन्दर की सज्जा और दीवारों पर हुई कलात्मक कारीगरी देखने लायक थी ! हर दीवार, हर स्तम्भ, हर खिड़की, हर दरवाज़े और हर पैनल पर अद्भुत इनले वर्क हो रहा था ! हम अपनी नाश्ते की प्लेट्स लेकर अंदर ही बैठ गए ! नाश्ता इतना लज़ीज़ था कि मज़ा आ गया ! नाश्ता समाप्त कर समय का सदुपयोग मैंने तस्वीरें खींचने में किया ! होटल की हर एंगिल से तस्वीरें लीं ! पूरे वक्त इसी कल्पना में खोई हुई थी कि जो परिवार इसमें रहता होगा वह किस तरह से इस घर के हर कमरे हर साजो सामान का इस्तेमाल करता होगा ! यहाँ की क्रोकरी भी बहुत ही खूबसूरत थी !
नाश्ता समाप्त हो चुका था ! अब घूमने जाने का वक्त हो गया था ! हमारे गाइड महोदय आ चुके थे ! सब बस में बैठने के लिए उत्सुक थे ! बस कितनी दूर खड़ी है सब यह जानना चाहते थे ! जैसे ही पता चला कि आज बस से नहीं जाना है पैदल ही घूमना होगा तो निराशा की एक समवेत ध्वनि कोरस में हर गले से फूट पड़ी ! लेकिन जब घूमने के लिए ल्याबी हौज़ पहुँचे तो समझ में आ गया कि वाकई यहाँ बस का कोई काम न था ! मात्र पाँच मिनिट की दूरी पर होटल से यह स्थान था और उसके आस पास ही बुखारा के वे सभी दर्शनीय स्थल थे जिन्हें देखने के लिए हमारा ग्रुप भारत से उज्बेकिस्तान पहुँचा था !
तो क्या ख़याल है आपका ! इन स्थानों की सैर अगली कड़ी में करें तो अधिक आनंद आयेगा ना ? अभी तो आप भी हमारे साथ इस तीन मंज़िला ल्याबी हाउस होटल में ऊपर नीचे चढ़ उतर कर थक गए होंगे ! तो आनंद लीजिये इन तस्वीरों का ! मैं जल्दी ही मिलती हूँ आपसे ढेर सारी नई जानकारी के साथ अगली कड़ी में ! तब तक के लिए मुझे इजाज़त दीजिये !
फिलहाल शुभ रात्रि !


साधना वैद

Monday, January 13, 2020

ताशकंद यात्रा – ७ तैमूर का समरकंद -२



तैमूर का मकबरा, ‘गुर ए अमीर’ देख कर हमारा काफिला रेगिस्तान स्क्वेयर की ओर चला ! गर्मी बहुत ज़बरदस्त थी ! गर्मी से राहत पाने के लिए कैप छाते जो साथ में लाये थे बस के लगेज केबिन में अटेची में बंद रखे थे ! हमने अपने गाइड से अनुरोध किया कि ड्राइवर से कह कर यह सामान वह निकलवा दे ! सबकी मन की मुराद पूरी हुई ! बस से सबने अपना अपना सामान निकाला ! कैप छातों से लैस होकर हम सब समरकंद का एक और प्रसिद्ध स्थान रेगिस्तान स्क्वेयर देखने के लिए चल पड़े !

यहाँ पन्द्रहवीं और सत्रहवीं शताब्दी के बने हुए तीन मदरसे हैं जो बहुत ही शानदार हैं और तत्कालीन स्थापत्य के बेहतरीन उदाहरण हैं ! सबसे बड़ा और सबसे पुराना मदरसा उलुगबेग मदरसा है जिसे तैमूर के पोते उलुगबेग ने सन १४१७ से सन १४२० के बीच बनवाया ! इसकी कारीगरी और खूबसूरत मोजेक और टाइल वर्क देखते ही बनता है ! इसके चारों कोनों पर सुन्दर मीनारें बनी हुई हैं ! उलुगबेग स्वयं बहुत विद्वान् था ! खगोल विद्या में उसकी बहुत दिलचस्पी थी ! उसके इस मदरसे में छात्रों को विज्ञान, गणित और खगोलशास्त्र जैसे विषय भी पढ़ाये जाते थे ! यहाँ पर छात्रावास की व्यवस्था भी थी ! छात्र यहाँ आकर उसी तरह रहते थे जैसे आजकल होस्टल में रहते हैं !


दूसरा मदरसा शेर डोर मदरसा है जिसका निर्माण यलन्गतूश बक्दूर ने सत्रहवीं शताब्दी में सन १६१९ से सन १६३६ के बीच करवाया ! इसके मुख्य द्वार पर हिरन और शेर की आकृतियाँ बनी हुई हैं ! शेर के शरीर पर उदित होते सूर्य की आकृति भी बनी हुई है ! एक मदरसे के द्वार पर इस तरह की आकृतियों का बनाया जाना हैरान कर जाता है क्योंकि इस्लामी धार्मिक मान्यताओं के अनुसार किसी भी स्थान पर जीवित प्राणी की छवि को उकेरना या बनाना निषिद्ध माना जाता है !


तीसरा मदरसा तिल्या कोरी मदरसा है जिसका निर्माण सन १६४६ से सन १६६० के बीच हुआ ! यह बहुत ही विशाल दोमंज़िला इमारत है ! जहाँ हर जुम्मे के दिन समरकंद की सारी आबादी नमाज़ पढ़ने के लिए एकत्रित होती थी ! सारे शाही फरमानों की घोषणा यहाँ से की जाती थी और दूर दूर से पढ़ने के लिए छात्र यहाँ आते थे ! यहाँ भी छात्रों के रहने का समुचित प्रबंध था और यह अपने युग का सबसे मशहूर मदरसा माना जाता था !
रेगिस्तान स्क्वेयर की सैर बहुत ही बढ़िया रही ! हम लोग अगस्त के अंतिम सप्ताह में ताशकंद गए थे ! सितम्बर के प्रथम सप्ताह में उज्बेकिस्तान का स्वतन्त्रता दिवस आने वाला था ! सब जगह बड़ी ज़ोर शोर से उस उत्सव के लिए सजावट और सुरक्षा की चाक चौबंद तैयारियाँ चल रही थीं ! रेगिस्तान स्क्वेयर पर भी टूरिस्ट पुलिस का एक बड़ा दस्ता मुस्तैदी से तैनात था ! खूब लम्बे चौड़े खूबसूरत नौजवान ज़र्क वर्क पोशाक में बड़े ही आकर्षक लग रहे थे ! इस दस्ते में महिला पुलिसकर्मी भी शामिल थीं ! मैंने उनसे फोटो लेने की इज़ाजत माँगी तो उन्होंने बड़े प्यार से हमें अपने साथ खड़ा कर खूब सारी तस्वीरें खींचीं भी और खिंचवाई भी !


रेगिस्तान स्क्वेयर देखते देखते काफी देर हो गयी थी ! सुबह ताशकंद से बड़े सवेरे नाश्ता करके चले थे ! इस समय तक खूब भूख लग आई थी ! लंच के लिए हम सब बीबी मोबारो के घर पर जाने वाले थे ! उज्बेकिस्तान के किसी निवासी का अपना घर देखने का यह दुर्लभ अवसर था ! उनका जीवन, उनका रहन सहन, उनके तौर तरीके देखने की मुझे सच में बड़ी उत्सुकता और जिज्ञासा थी ! बीबी मोबारो ८० वर्ष की वृद्ध महिला हैं और साठ वर्षों से वे अपने घर में ही खानसामों और कर्मचारियों की सहायता से रेस्टोरेंट चला रही हैं जहाँ अतिथियों को सुस्वादिष्ट भोजन वे उपलब्ध कराती हैं ! उनके यहाँ बुटीक में तैयार किये गए सुंदर परिधान भी मिलते हैं ! 


बीबी मोबारो के घर का रास्ता बहुत ही खूबसूरत था ! रिहाइशी इलाके में जाने का यह हमारा पहला अवसर था ! यहाँ की सड़क मुख्य मार्ग से कुछ कम चौड़ी थी ! दोनों तरफ मकान बने हुए थे और उनमें अहातों में लगे हुए फलों के पेड़ों से सारा वातावरण सुरभित था ! बीबी मोबारो के घर के आगे पूरी सड़क को कवर करते हुए लोहे का बड़ा ऊँचा गेट सा बना हुआ था जिसमें अंगूरों के असंख्य गुच्छे लटक रहे थे ! बीबी मोबारो ने स्वयं गेट पर हम लोगों की अगवानी की ! उनका दोमंज़िला घर बहुत खूबसूरत था ! सामने दालान में दो बड़ी बड़ी टेबिल्स लगी हुई थीं जहाँ हमें शुद्ध शाकाहारी भोजन परोसा गया ! अत्यंत स्वादिष्ट दाल का सूप, चावल, उज्बेकिस्तान की स्पेशल नान, अनेकों तरह के अति स्वादिष्ट फल, सलाद, बेकरी आइटम्स और कोल्ड ड्रिंक्स ! मन और आत्मा तृप्त हो गयी ! वहाँ की उँगली के साइज़ की ककड़ी (खीरा) मुझे बहुत अच्छी लगीं ! बमुश्किल तीन चार इंच की लम्बाई और अँगूठे के बराबर मोटी ! उन्हें छीलने की ज़रुरत भी नहीं होती और स्वाद एकदम ग़ज़ब का !
बीबी मोबारो के यहाँ पले हुए बड़े सुन्दर पंछियों को भी देखा ! उनके घर के अन्दर के बरामदे में उनके परिवार के सदस्यों के साथ कुछ पल भी बिताये और खूब तस्वीरें भी लीं ! मन में खूब मधुर स्मृतियाँ लेकर हम बीबी मोबारो के घर से चले !


 ग्रुप में सब चर्चा कर रहे थे कि ताशकंद और समरकंद में सड़क पर कोई भी कुत्ता बिल्ली या जानवर नहीं दिखा ! मुझे एक घर के बगीचे में एक कुत्ता सोता हुआ दिखाई दिया तो मैंने उसकी तस्वीर ले ली ! लेकिन वह चौंक कर उठ गया ! मेरी हरकत शायद उसे पसंद नहीं आयी और वह उठ कर दूसरी जगह चला गया !

हमारा अगला पड़ाव उलुगबेग द्वारा बनवाई गयी ऑब्ज़र्वेटरी था ! लेकिन समय हमारे पास कम था ! अन्य मशहूर स्थल देखने बाकी थे और उसी रात बुखारा के लिए हमें ट्रेन भी पकड़नी थी ! इसलिए ऑब्ज़र्वेटरी के बाहर प्लेटफार्म पर लगी उलुगबेग की भव्य प्रतिमा को देख कर और उसकी तस्वीरें खींच कर ही हमने संतोष कर लिया ! और हम चल पड़े एक और मशहूर पर्यटन स्थल ‘शाह ए ज़िंदा’ देखने के लिए ! यह भी बहुत ही पुराना और ऐतिहासिक स्थान है ! इसका गेट उलुगबेग ने पंद्रहवीं सदी में बनवाया था ! 


इस जगह का नाम शाह ए ज़िंदा इसलिए पड़ा कि मशहूर किंवदंती के अनुसार सातवीं शताब्दी में पैगम्बर मोहोम्मद साहेब के रिश्ते के भाई कुसम इब्न अब्बास इस्लाम धर्म के प्रचार के लिए जब यहाँ आये तो उनका सर कलम कर दिया गया और उन्हें इस स्थान पर दफना दिया गया ! लेकिन कहा जाता है कि वे यहाँ कब्र से अपना सर लेकर एक गहरे कूएँ में प्रवेश कर गए जो बाग़े हयात में है ! लोगों का विश्वास है कि वो आज भी ज़िंदा हैं और वहाँ रहते हैं ! यहाँ पर अनेकों मकबरे हैं जिनमें कुछ कब्रें तैमूर की बहनों की हैं ! कुछ महत्वपूर्ण सेना के पदाधिकारियों या धर्म गुरुओं की हैं ! हमें सच में बड़े गर्व का अनुभव हुआ जब हमारे गाइड ने हमें बताया कि इनमें से कई मकबरों के निर्माण में राजस्थान के मकराना का संगमरमर इस्तेमाल किया गया है ! मकबरों में से वर्तमान में कुछ तो काफी खंडहर अवस्था में हैं लेकिन कई एक की मरम्मत कर उन्हें रेस्टोर करने का प्रयास किया गया है ! इस स्थान का निर्माण बारहवीं सदी से लेकर उन्नीसवीं सदी तक हुआ ! यह एक पहाड़ी पर बना हुआ है और सिलसिलेवार तीन मुकामों पर तीन ग्रुप्स में ये मकबरे बनाए गए हैं ! इसमें ऊपर तक जाने के लिए कई सीढ़ियाँ हैं ! यदि आपको सारी कब्रें और उनका स्थापत्य देखना हो तो ऊपर तक जाना पड़ता है ! ग्रुप के कई सदस्य तो ऊपर गए ही नहीं ! हमने लेकिन इसे पूरा देखा ! 

नीचे उतर कर आये तो अनेकों स्थानीय निवासियों ने हम लोगों के साथ खूब तस्वीरें खिंचवाईं ! सड़क किनारे हरे सेव का पेड़ लगा हुआ था ! फल छोटे थे तो समझ में नहीं आ रहा था कि कौन सा फल है ! तब एक लोकल बन्दे ने हम सबको छाँट छाँट कर बड़े बड़े सेव तोड़ कर खाने के लिए दिए ! सच में वहाँ के लोग बहुत ही आत्मीय और सज्जन हैं !

शाह ए ज़िंदा देखने के बाद हमें शॉपिंग के लिए बाज़ार जाना था ! सबसे अधिक मज़ा यहीं आया ! हालाँकि बस ने हमें काफी नीचे उतार दिया था लेकिन रास्ता रमणीक था और जगह खूबसूरत थी तो चल दिए उत्साह के साथ ! मार्केट के अन्दर पहुँच कर देखा कि केवल खाने के सामान का बाज़ार ही खुला था उस दिन ! लेकिन बाज़ार के आस पास जो अन्य दुकानें थीं वहाँ हर चीज़ मिल रही थी ! बहुत बड़े एरिया में यह बाज़ार था लेकिन कितना व्यवस्थित और साफ़ सुथरा ! ऊपर से पूरी तरह कवर्ड ! यहाँ हर प्रकार के मेवे मिल रहे थे ! सूखे मेवों का समरकंद सबसे बड़ा निर्यातक है ! काग़ज़ी बादाम का छिलका इतना नर्म और मुलायम कि अपने यहाँ की मूँगफली के छिलके भी उनसे कड़े लगें ! बाकी सब तो यहाँ भी खूब मिलता है लेकिन इतने बढ़िया बादाम यहाँ नहीं मिलते इसलिए हमने बादाम और अखरोट खरीदे वहाँ से ! आसपास की सोवेनियर शॉप्स से कुछ चीनी के प्लैटर्स खरीदे और समरकंद की यादगार स्वरुप कुछ शॉपिंग बैग्स लिए ! मेरा मोबाइल फोन वहाँ एक दूकान पर छूट गया ! लेकिन इतने शरीफ और सज्जन लोग हैं ! उन्होंने तुरंत लाकर हमें दे दिया ! मैंने उन्हें उपहार स्वरुप कुछ सोम देने की पेशकश भी की लेकिन उन्होंने विनम्रता के साथ लेने से मना कर दिया ! मेरा मन कृतज्ञता से भर उठा !

शाम उतर आई थी ! हमें डिनर के लिए भी जाना था और रात को बुखारा के लिए ट्रेन भी पकड़नी थी ! सारा सामान लेकर हम पहाड़ी से नीचे उतर कर एक स्थान पर बस का इंतज़ार करने के लिए बैठ गए ! आस पास का नज़ारा खूबसूरत था ! यहीं कहीं पास में बीबी खानम का मकबरा था लेकिन वहाँ जाने के लिए समय नहीं था ! बस के आते ही उसमें सवार होकर डिनर के लिए समरकंद के मशहूर करीमबेग होटल में हम लोग पहुँचे ! हम लोगों का २९ लोगों का ग्रुप था ! एक बहुत बड़ी टेबिल पर हम लोगों के लिए शाकाहारी भोजन का प्रबंध था ! जगह सुन्दर, भोजन स्वादिष्ट और सभी साथियों का सुखद सान्निध्य ! यात्रा का हर पल बहुत ही आनंद दायक था ! गुज़रने वाला हर पल हमें नयी ऊर्जा, नए अनुभव और नए ज्ञान से समृद्ध करता जा रहा था ! सबने खूब मज़े लेकर खाना खाया ! यहाँ से हमें सीधे स्टेशन जाना था बुखारा के लिए ट्रेन पकड़ने के लिए !


तो चलिए समरकंद का क़िस्सा यही ख़त्म करते हैं ! अगली कड़ी में आपसे मुलाक़ात होगी बुखारा में ! तब तक के लिए इजाज़त दीजिये और इन तस्वीरों का मज़ा लीजिये !



साधना वैद

Friday, January 10, 2020

विरासत



अपने सारे जीवन भर 
घर, परिवार, समाज, नियति इन सबसे 
असंख्य चोटों, गहरे ज़ख्मों और 
अनगिनती छालों की 
जो दौलत मैंने विरासत में पाई है   
उसे आज मैं तुम्हें 
हस्तांतरित करने के लिए तत्पर हूँ, 
तुम चाहो तो उसे ले लेना ! 


आज मैं पूर्णत: जागृत और सचेत हूँ !
घर आँगन में उगे अनजाने, अनचीन्हे, अदृश्य
कैक्टसों के असंख्यों विषदंशों ने
मुझे हर क्षण, हर पल
एक तीव्र पीड़ा के साथ झकझोर कर जगाया है
और हर चुभन के साथ मेरी मोहनिंद्रा भंग हुई है ।
उस अभिशप्त आँगन में
मेरा पर्यंक आज भी रिक्त पड़ा हुआ है ।
तुम चाहो तो उस पर सो लेना ।

आज मैं सर्वथा प्रबुद्ध और शिक्षित हूँ !
बाल्यकाल से ही जिन संस्कारों, आदर्शों और मूल्यों को
अनमोल थाती मान सगर्व, सोल्लास
अपने आँचल में फूलों की तरह समेट
मैं अब तक सहेजती, सम्हालती, सँवारती रही
वर्तमान संदर्भों में वे
निरे पत्थर के टुकड़े ही तो सिद्ध हुए हैं
जिनके बोझ ने मेरे आँचल को
तार-तार कर छिन्न-विच्छिन्न कर दिया है !
आज भी घर के किसी कोने में
मेरी साड़ी का वह फटा आँचल कहीं पड़ा होगा
तुम चाहो तो उसे सी लेना ।

आज मुझे सही दिशा का बोध हो गया है !
भावनाओं की पट्टी आँखों पर बाँध
टूटे काँच की किरचों पर नंगे पैर अथक, निरंतर, मीलों
जिस डगर पर मैं चलती रही
उस पथ पर तो मेरी मंज़िल कहीं थी ही नहीं !
लेकिन आज भी उस राह पर
रक्तरंजित, लहूलुहान मेरे पैरों के सुर्ख निशान
अब भी पड़े हुए हैं
तुम चाहो तो उन पर चल लेना ।

आज मेरी आँखों के वे दु:स्वप्न साकार हुए हैं
जिन्हें मैंने कभी देखना चाहा ही नहीं !
कहाँ वे पल-पल लुभावने मनोरम सपनों में डूबी
मेरी निश्छल, निष्पाप, निष्कलुष आँखें !
कहाँ वो बालू को मुट्ठी में बाँध
एक अनमोल निधि पा लेने के बाल सुलभ हर्ष से
कँपकँपाते मेरे अबोध हाथ !
कहाँ वो दिग्भ्रमित, दिशाहीन
हर पल मरीचिकाओं के पीछे
मीलों दौड़ते थके हारे मेरे पागल पाँव !
और कहाँ इन सारी सुकुमार कल्पनाओं में
झूठ के रंग भरते
पल-पल बहलाते, भरमाते, भावनाओं से खिलवाड़ करते
आडम्बरपूर्ण वक्तव्यों के वो मिथ्या शब्द जाल !
इन सारी छलनाओं के अमिट लेख
अग्निशलाकाओं से आज भी
मेरे हृदय पटल पर खुदे हुए हैं
तुम चाहो तो उन्हें पढ़ लेना ।

साधना वैद

Thursday, January 9, 2020

ताशकंद यात्रा – ६ - तैमूर का शहर समरकंद



ग्रुप के कुछ साथियों का टिकिट किसी कारणवश बुलेट ट्रेन से नहीं हो पाया था इसलिए उन्हें बाद की ट्रेन से आना पड़ा ! हम सभी बस में बैठ कर उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे ! अनजान देश ! ग्रुप से अलग हो गए कुछ सदस्य ! उद्विग्नता भी बनी हुई थी और चिंता भी हो रही थी ! दिन का तापमान बढ़ता जा रहा था और अच्छी खासी गर्मी हो गयी थी ! लेकिन हमें बहुत अधिक प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ी ! जल्दी ही वे लोग भी आ गए और हमारा कारवाँ चल पड़ा समरकंद की सड़कों पर उन ऐतिहासिक इमारतों को देखने के लिए जो सदियों से अपना मस्तक उठाये बड़ी शान से आज भी खड़ी हुई हैं !
समरकंद दो हज़ार सात सौ साल पुराना शहर है ! अगर हम इसकी प्राचीनता का आकलन करें तो यह बेथलीहैम और रोम का समकालीन शहर है ! अमीर तैमूर ने इस शहर को अपनी राजधानी बना कर इसमें एक से बढ़ कर एक खूबसूरत इमारतों और भवनों को बनाने की परम्परा डाली जिसके लिए धन उसने टर्की, ईरान, भारत व अन्य अनेकों देशों में अपने वृहद् लूट के अभियानों द्वारा संचित किया ! इसके पूर्व इस शहर को चंगेज़ खान और सिकंदर ने हमला करके एक तरह से ध्वस्त ही कर दिया था ! तैमूर जितना बहादुर और महत्वाकांक्षी था उतना ही वह क्रूर और निरंकुश भी था ! उसने दो करोड़ निरपराध लोगों की बड़ी बर्बरतापूर्वक हत्या की थी ! उसके नाम का अर्थ ही है ‘फौलाद’ ! वह फौलाद सा ही कठोर और भावना शून्य था ! भारत में उसके द्वारा की गयी दिल्ली की लूट और नृशंस कत्ले आम इतिहास के काले पन्नों में दर्ज़ है ! उसने अनेकों लड़ाइयाँ बड़ी बहादुरी से लड़ीं और विश्व में अपने वर्चस्व का झंडा गाढ़ दिया ! समरकंद का पुनर्निर्माण कर इसे भव्य और सुन्दर बनाया ! इसीलिये बाकी दुनिया वाले उसके बारे में जो भी सोचें या कहें तैमूर को उज्बेकिस्तान में बड़े ही आदर और सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है ! उसका एक पैर युद्ध में स्थायी रूप से चोटिल हो गया था इसलिये वह लंगड़ा कर चलता था ! भारत में उस आतातायी को ‘तैमूर लंग’ के नाम से पुकारते हैं लेकिन समरकंद में उसे बड़े आदर मान के साथ ‘अमीर तैमूर’ कहा जाता है ! वर्तमान में समरकंद शहर प्राचीन युग की भव्य इमारतों और आधुनिक ज़माने के शहरीकरण और मनमोहक साज सज्जा का अनोखा सम्मिश्रण है !
समरकंद की साफ़ सुथरी चौड़ी-चौड़ी सड़कों पर हमारी बस हौले-हौले चल रही थी ताकि हम खिड़की से शहर की खूबसूरती का लुत्फ़ उठा सकें ! मुझे शहर के सड़कों के दोनों और सुन्दर फूलों से सजे गमलों के स्टैंड बहुत ही आकर्षक लगे ! ये स्टैंड्स लोहे के थे और इनमें किसी में तीन किसी में चार पाँच किसी में छ: सात गमले बने हुए थे जिनमें बड़े ही आकर्षक फूल खिले हुए थे ! यह आइडिया मुझे बहुत अच्छा लगा ! अलग अलग शेप्स और साइज़ में ये स्टैंड्स ज़मीन में गढ़े हुए थे जिनमें कम जगह में ही रंग बिरंगे खूबसूरत फूलों के कई गमले आ गए थे और वातावरण को खुशनुमां और सुरभित बना रहे थे ! चलती बस से फोटो लेना संभव नहीं हो पा रहा था लेकिन अपने मन में मैंने इनकी फोटो सहेज ली थी !
सबसे पहला स्थल जो हमने देखा वह था रेगिस्तान रोड पर स्थित अमीर तैमूर स्क्वेयर जहाँ अमीर तैमूर की एक बहुत विशाल एवं भव्य प्रतिमा एक बड़े से चबूतरे पर रखी हुई है ! उसकी नक्काशी और जीवंत भाव भंगिमा देखते ही बनती है ! उसका जालीदार मुकुट, उसकी पोशाक की सिलवटें और उसका बॉर्डर, उसकी कामदार जूती सब देखने लायक हैं ! उसने किसी युद्ध में अपना दाहिना पैर घुटने के नीचे से गँवा दिया था ! यहाँ भी मूर्ति का एक ही पैर बना हुआ है ! इस स्थल पर भी सबने अमीर तैमूर की मूर्ति के साथ खूब तस्वीरें खीचीं और खिंचवाईं ! यहाँ का हॉल्ट छोटा ही था ! हम लोग बस में बैठ कर चल पड़े तैमूर के मकबरे की ओर !
तैमूर के मकबरे को गुर ए आमिर भी कहा जाता है ! अंग्रेज़ी में इसका नाम तैमूर मुसोलियम है ! मध्य युगीन स्थापत्य और कलाकारी का यह अद्भुत नमूना है ! सन १४०३ में इसका निर्माण कार्य आरम्भ हुआ था ! अमीर तैमूर ने अपने सर्वाधिक प्रिय पोते मुहम्मद सुलतान के लिए इसे बनवाया था जिसकी मृत्यु २७ वर्ष की अवस्था में किसी युद्ध में लड़ते हुए हो गयी थी ! लेकिन बाद में यह तैमूर के परिवार के कई सदस्यों की अंतिम ख्वाबगाह बन गया ! तैमूर के दोनों बेटे शाहरुख और मीरान शाह, दोनों पोते मुहम्मद सुलतान और उलुगबेग, स्वयं अमीर तैमूर और उनके परिवार के धर्म गुरु सैयद बारक्का को भी इसी मुसोलियम में दफनाया गया !
इसकी भव्य अष्टकोणीय इमारत और ऊपर की बहुत ही खूबसूरत गुम्बद देखते ही बनती है ! अष्टकोणीय इस चेंबर में चारों तरफ दीवारों पर अत्यंत सुन्दर इनले वर्क हो रहा है ! इसका प्रवेशद्वार एक बेहद प्राचीन और बहुत ही खूबसूरत नक्काशी वाला लकड़ी का दरवाज़ा है जिसे उलुगबेग ने १५ वीं सदी में बनवाया था ! गुम्बद में ६४ रिब्स हैं जो पैगम्बर मोहोम्मद साहेब के जीवन काल के चौंसठ वर्षों की प्रतीक हैं ! अमीर तैमूर की कब्र पर गहरे हरे रंग का जेड (पन्ना) पत्थर रखा हुआ है जिसके बारे में कहा जाता है कि यह विश्व का सबसे बड़ा जेड स्टोन है ! इसकी कहानी भी बड़ी रोचक है ! तैमूर के पोते उलुगबेग ने १५ वीं सदी में इसे मुगलिस्तान से लाकर अपने दादा जी की कब्र पर लगाया था ! कहते हैं कि इस पत्थर में उस वक्त जादुई शक्तियाँ थीं ! चीन में पहले इसकी पूजा हुआ करती थी फिर यह चंगेज़ खान के उत्तराधिकारी चुगताई खान के सिंहासन के रूप में प्रयोग में लाया जाने लगा वहाँ से लूट कर उलुगबेग इसे समरकंद ले आया और अपने दादा तैमूर की कब्र पर लगा दिया ! बाद में १७ वीं शताब्दी में नादिर शाह ने जब समरकंद पर आक्रमण किया तो इस पत्थर को उखाड़ कर वह अपने साथ ले गया और उसने अपने सिंहासन के सामने इसे एक सीढ़ी की तरह उपयोग में लाने के लिए लगा दिया ! लेकिन इसके बाद ही नादिर शाह पर विपत्तियों का सिलसिला शुरू हो गया और उसके बुरे दिन आ गए ! तब लोगों ने उसे सलाह दी कि ये सारी मुसीबतें इस पत्थर की वजह से आ रही हैं और उसे यह पत्थर वापिस समरकंद ले जाकर तैमूर की कब्र पर रख देना चाहिए ! नादिर शाह इसे समरकंद ले जाने के लिए तैयार हो गया ! लेकिन समरकंद ले जाते वक्त यह पत्थर एक दुर्घटना में टूट गया ! इस पत्थर पर अरबी भाषा में लिखा हुआ है “जब मुझे किसी मृतक के ऊपर से हटाया जाएगा तो सारा संसार थर्रायेगा !”
तैमूर के इसी मुसोलियम के कॉम्प्लेक्स में भव्य प्रवेश द्वार के अलावा एक मदरसा और एक खानका भी था ! खानका में उन दिनों प्रिंस मुहम्मद सुलतान का परिवार रहा करता था ! मकबरे की बड़ी खूबसूरत चार मीनारें थीं ! लेकिन अब वहाँ देखने योग्य बस विशाल एवं भव्य प्रवेश द्वार, मकबरा और दो मीनारें ही बची हैं ! खानका, मदरसा और दो मीनारें ध्वस्त हो चुकी हैं ! इसके कोर्टयार्ड में एक बड़ा सा पत्थर रखा हुआ है जो उस ज़माने में सुल्तानों के गद्दीनशीन होने के वक्त काम में लाया जाता था !
आजकल यहाँ मकबरे के पीछे के खंडहरों में पर्यटकों की दिलचस्पी के सोवेनियर्स, कपडे, स्कार्फ, पर्स, फ्रिज मैगनेट आदि सामान बिकते हैं !
तैमूर मुसोलियम का कॉम्प्लेक्स काफी बड़ा है ! वाश रूम्स भी हैं जो काफी दूरी पर हैं ! एक बार उसे इस्तेमाल करने के लिए एक हज़ार सोम की फीस चुकानी पड़ती है ! भारत में दो रुपये पाँच रुपये सुनने के आदी कान एक हज़ार सोम सुन कर झनझना गए ! लेकिन देना तो थे ही ! उस समय कौन एक्चेंज रेट का हिसाब लगाता है ! ऐसा लगा कहीं ठगे तो नहीं जा रहे ! लेकिन थोड़ी देर बाद ही सब भूल गये ! ग्रुप के सभी लोग शायद बाहर चले गये थे ! अलका चौधरी जी हमारे साथ थीं ! हम बाहर निकले तो कोई भी दिखाई नहीं दे रहा था ! न बस ना ही ग्रुप के सदस्य ! अभी तक किसी होटल में भी नहीं रुके थे कि वहीं से कुछ पता लगाने का प्रयास करते ! धीरे-धीरे हम उसी दिशा में चल पड़े जहाँ बस ने उतारा था ! दूर तक कहीं कोई दिखाई नहीं दे रहा था ! स्थानीय निवासी सिर्फ इशारों में बात समझते थे ना वो हिन्दी जानते थे ना अंग्रेज़ी ! और उनसे पूछते भी क्या जब स्वयं हमें ही अपना पता ठिकाना मालूम न था ! माथे पर चिंता की लकीरें उभरने लगी थीं ! तभी सड़क किनारे के हरे भरे उद्द्यान में कुछ भगवा रंग की झलक सी दिखाई दी ! यह रंग जाना पहचाना सा लगा ! हमारे ग्रुप के ही डॉ. स्वामी विजयानंद जी ऐसे ही भगवा परिधान पहनते हैं ! उनके पीछे हमने दौड़ लगा दी तो ग्रुप के और सदस्य भी दिखाई दिये और पास में बस भी दिखाई दे गयी ! हमारी जान में जान आई ! भटकते-भटकते बच गए ! सब हम लोगों का ही इंतज़ार कर रहे थे ! मन कृतज्ञता से भर आया !
चलिए आप भी आराम करिए अब ! बहुत रात हो चुकी ! अगले स्थानों की सैर अगले अंक में ! तो चलती हूँ ! श्रंखला की इस कड़ी के लिखने में बड़े व्यवधान आ गए थे तो देर हुई लेकिन अब अगली कड़ियाँ जल्दी जल्दी आयेंगी यह वादा रहा ! आप साथ में चल तो रहे हैं ना मेरे ?
साधना वैद

Sunday, January 5, 2020

राग - वैराग्य


हमने था शामिल किया अपनी दुआओं में तुझे
पर न शामिल हो सके तेरी दुआओं में कभी,
दूर था तेरा ठिकाना रास्ता दुश्वार था
हम जतन करते रहे तुझ तक पहुँचने के सभी !

पर मिली ना मंज़िलें, ना रास्तों का था पता
हम तेरी गलियों में यूँ बेआसरा भटका किये
आँख में तस्वीर तेरी, दिल में तेरी आरज़ू
बस तेरे साए को छूने का भरम मन में लिए !

अब ना तेरी आरज़ू, ना याद, ना कोई गिला
आज मन का राग ज्यों वैराग्य ही से युक्त है
नाम था तेरा मेरी जिन प्रार्थनाओं में कभी
पंक्तियाँ सारी वो उन गीतों से बिलकुल मुक्त हैं !

साधना वैद



Thursday, January 2, 2020

मुझे अच्छा लगता है




इन दिनों
मन की खामोशियों को
रात भर गलबहियाँ डाले
गुपचुप फुसफुसाते हुए सुनना
मुझे अच्छा लगता है !  

अपने हृदय प्रकोष्ठ के द्वार पर
निविड़ रात के सन्नाटों में
किसी चिर प्रतीक्षित दस्तक की
धीमी-धीमी आवाज़ों को
सुनते रहना
मुझे अच्छा लगता है !
  
रिक्त अंतरघट की  
गहराइयों में हाथ डाल
निस्पंद उँगलियों से
सुख के भूले बिसरे
दो चार पलों को  
टटोल कर ढूँढ निकालना
मुझे अच्छा लगता है !

अतीत की वीथियों में क्रमश: 
धीमी होती जाती अनगिनती 
जानी अनजानी ध्वनियों के 
कोलाहल के बीच 
प्राणों से भी प्रिय 
और साँसों से भी अनमोल
गिनी चुनी चंद दुआओं की ध्वनि को  
बड़ी एकाग्रता से सुनने की चेष्टा करना 
मुझे अच्छा लगता है ! 
  
थकान के साथ
शिथिलता का होना  
अनिवार्य है ,
शिथिलता के साथ
पलकों का मुँदना भी
तय है और
पलकों के मुँद जाने पर
तंद्रा का छा जाना भी
नियत है ! 

लेकिन सपनों से खाली
इन रातों में
थके लड़खड़ाते कदमों से  
खुद को ढूँढ निकालना
और असीम दुलार से
खुद ही को निज बाहों में समेट  
आश्वस्त करना  
मुझे अच्छा लगता है !



साधना वैद  





Wednesday, December 25, 2019

अपनी-अपनी औकात



सरला की काम वाली बाई आज अनमनी सी दिख रही थी ! रोज़ की तरह उसने आज सरला से राम-राम भी नहीं की ! सरला ने उसे अपने पास बुलाया और प्यार से पूछा, “क्या बात है रानी आज तुम कुछ परेशान लग रही हो ! घर में सब ठीक तो है ना” ?

सरला की सहानुभूति रानी की आँखों में आँसू ले आई !

“क्या बताऊँ बहू जी ! बड़ी लड़की सीमा, चार महीने पहले जिसका ब्याह किया था, ससुराल में सबसे लड़ झगड़ कर वापिस घर आ गयी है ! मैंने और उसके बापू ने उसे बहुत समझाया लेकिन वापिस जाने को तैयार ही नहीं है ! और पेट से है सो अलग ! 

अरे ! तो उसे कोई परेशानी होगी ! ससुराल वाले तंग करते होंगे तभी तो वापिस आई होगी ना ! क्या बताया उसने ? मारते पीटते थे ? ऐसे लोगों से दूर रहे तभी ठीक है ! हमारी बेटी वैशाली भी तो आ गयी है ना अपनी ससुराल से वापिस ! जैसे हमने उसे सम्हाला है तू भी आसरा दे अपनी बेटी को ! ससुराल वालों का अत्याचार सहना गलत बात है !” अपनी बेटी वैशाली का दृष्टांत देकर सरला ने उसका मनोबल बढ़ाने की कोशिश की !

“आप लोगन की बात और है बहू जी ! आपके साहब खूब कमात हैं ! वैशाली दीदी भी खूब पढ़ी लिखी हैं ! वो भी अच्छी नौकरी करत हैं ! आपके दोनों बेटवा सरकारी अफसर हैं ! हम क्या करें ? हमारा मरद दिहाड़ी पर काम करता है ! रोज़ तो काम मिलता नहीं है ! जिस दिन काम नहीं करता सारा दिन दारू पीकर घर में किचकिच करता है ! सीमा के बियाह में जो करजा लिया था वो ही नहीं निबटा है कि यह घर वापस आ गयी ! घर में सीमा से छोटे तीन बच्चा और हैं ! उनको भर पेट रोटी नहीं मिलती सीमा को कहाँ से खबाऊँ ! बहू जी बुरा मत मानना ! आप बड़े लोगन की देखा देखी हम गरीबन की लड़कियों ने भी घर तोड़ना और लड़ झगड़ कर पीहर आके बैठ जाना तो खूब सीख लिया है लेकिन ना तो वो आप लोगन की तरह पढ़ी लिखी और कमाऊ हैं ना हमारी औकात इतनी है कि गिनी चुनी रोटियों में और हिस्सेदार बढ़ा लें !”

रानी आँखों से आँचल लगाए रोये जा रही थी और सरला बिलकुल निरुत्तर हो चुप हो गयी थी ! उसके पास रानी की समस्या का कोई निदान नहीं था !  


साधना वैद