Followers

Monday, September 26, 2011

तुम आते तो......


तुम आते तो मन को ज्यों धीरज मिल जाता ,

रिसते ज़ख्मों पर जैसे मरहम लग जाता ,

सुधियों के सारे पंछी नभ में उड़ जाते ,

भावों के तटबंध टूट जैसे खुल जाते !

मन उपवन की मुरझाई कलिका खिल जाती ,

शब्दों को कविता की नव नौका मिल जाती ,

ह्रदय वाद्य पर जलतरंग जैसे बज जाती !

अंतर की सब पीड़ा गीतों में बह जाती ,

जीवन को जीने का ज्यों सम्बल मिल जाता ,

नयनों को सपने जीने का सुख मिल जाता ,

तुम आते तो धड़कन को साँसें मिल जातीं ,

भटके मन को मंजिल की राहें मिल जातीं !

ना आ पाये तब भी कोई बात नहीं है ,

मन मर्जी है यह कुछ शै और मात नहीं है ,

मैंने भी मन को बहलाना सीख लिया है ,

जो कुछ तुमने दिया उसे स्वीकार किया है !

सब कुछ कितना खाली-खाली सा लगता है ,

हर सुख हर सपना जैसे जाली लगता है ,

लेकिन मैंने छल को जीना सीख लिया है ,

विष पीकर अमृत बरसाना सीख लिया है !

साधना वैद

21 comments :

  1. लेकिन मैंने छल को जीना सीख लिया है ,

    विष पीकर अमृत बरसाना सीख लिया है !

    वाह,क्या बात है.
    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  2. वाह ... भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    ReplyDelete
  3. लेकिन मैंने छल को जीना सीख लिया है ,
    विष पीकर अमृत बरसाना सीख लिया है !

    बहुत ही सुन्दर भाव...बड़ी कुशलता से सारे भाव समाहित हैं कविता में.
    सरिता जैसा प्रवाह है कविता में.

    ReplyDelete
  4. आह! सुन्दर भावमय.
    मन को छूती इस सुन्दर अभिव्यक्ति
    के लिए बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  5. सब कुछ कितना खाली-खाली सा लगता है ,
    हर सुख हर सपना जैसे जाली लगता है ,
    लेकिन मैंने छल को जीना सीख लिया है ,
    विष पीकर अमृत बरसाना सीख लिया है !

    kayi bar dil ki khalish aisi bhaavnao par sir chadh kar bolti hai ki shabd-dar-shabd bhawnaayen aisa marmik roop le leti hain aur ham wah kahte hue bhool jate hain ki bhogne wale ne use kitna bhoga...

    aapki har rachna aisi hi ek wah ki hakdar to hoti hai lekin ham sirf wah kah kar bhawnao par tali nahi thok sakte.

    marm ko sparsh karti rachna.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर रचना है मन को छु गयी

    ReplyDelete
  8. साधना जी ,

    आज की रचना दो स्थितियों को जी रही है ... तुम आते तो ...ज़िंदगी में क्या क्या परिवर्तन हो जाते .. बहुत सुन्दर शब्दों में बंधे हैं आपने भाव ..भावों के तट बंधनों का खुलना संबल का मिलना ..सपने जीने का सुख ... यानि बहुत कुछ ...
    नहीं आए तो निष्कर्ष पर पहुंचती हुयी भावनाएं ..बहुत खूबसूरती से अंतिम पंक्तियाँ कह दी हैं ...छल को जीना सीख लिया ..

    सुन्दर शब्दों के चयन के साथ मन के भावों को खूबसूरती से उकेरा है ... सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत मनभावन और सशक्त रचना |
    सुन्दर शब्द चयन |"ना आ पाए तब भी कोइ बात नहीं
    मन मर्जी है यह कोइ ---------जो कुछ तुमने दिया उसे स्वीकार किया है |बहुत सुन्दर पंक्तियाँ |


    बहुत बहुत बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  10. एक बार फिर आपके शब्द कौशल ने मन्त्र मुग्ध कर दिया...नमन है आपकी लेखनी को...अद्भुत

    नीरज

    ReplyDelete




  11. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  12. आपको नवरात्रि की ढेरों शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. मन उपवन की मुरझाई कलिका खिल जाती ,
    शब्दों को कविता की नव नौका मिल जाती ,
    ह्रदय वाद्य पर जलतरंग जैसे बज जाती !
    अंतर की सब पीड़ा गीतों में बह जाती ,
    जीवन को जीने का ज्यों सम्बल मिल जाता ,
    नयनों को सपने जीने का सुख मिल जाता ,
    तुम आते तो धड़कन को साँसें मिल जातीं ,
    भटके मन को मंजिल की राहें मिल जातीं !


    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है...

    ReplyDelete
  14. नई पुरानी हलचल से फिर आपकी इस पोस्ट पर आना हुआ.

    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  15. "मैंने भी मन को बहलाना सीख लिया है ,
    जो कुछ तुमने दिया उसे स्वीकार किया है !"

    और उसके बाद है गहरी शान्ति.....!!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर और मन को छूती रचना....

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. jahan prem hai bahan koi shikwa gila nahi ho sakta..prem ke shashwat mulyon ko sthapit karti ek behtarin rachna hai...aap agar mere blog se judengi to main ise apna saubhagya manooga..aapne likha ki maine asantosh pragat nahi kiya...hamare desh me sahitya rachna ek parampara rahi hai..chote logon ko hamesha apne badon se kuch satat seekhna hi chahiye...asantosh to use hoga jo khud ko sirf guru maan baithega...main apne jeevan paryant ek shishy bana rahna chahta hoon..aaur aap badon se prasad me panjeeri aaur panchamrit bhi chahtaa hoon aaur kadwa dhatura bhi....sadar pranam ke sath

    ReplyDelete