Followers

Wednesday, December 11, 2019

सर्दी की रात




सर्दी की रात 
ठिठका सा कोहरा 
ठिठुरा गात ! 

मंदा अलाव 
कँपकँपाता तन 
झीने से वस्त्र !

तान के सोया 
कोहरे की चादर 
पागल चाँद ! 

काँपे बदन 
उघड़ा तन मन 
खुला गगन  !

चाय का प्याला 
सर्दी की बिसात पे 
बौना सा प्यादा ! 

लायें कहाँ से 
धरती की शैया पे 
गर्म रजाई ! 

ठंडी हवाएं 
सिहरता बदन
बुझा अलाव ! 

चाय की प्याली 
सर्दी के दानव को 
दूर भगाए ! 

दे दे इतना 
जला हुआ अलाव 
गरम चाय ! 

आँसू की बूँदें 
तारों के नयनों से 
झरती रहीं ! 

तारों के आँसू
आँचल में सहेजे 
धरती माता ! 


साधना वैद  

14 comments :


  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरूवार 12 दिसंबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    1609...होश नहीं तुझको तू कौन दिशा से आया...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुधा जी ! आभार आपका !

      Delete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    १६ दिसंबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार आपका श्वेता जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनुराधा जी ! आभार आपका !

      Delete
  5. बहुत ही मार्मिक सृजन ,सादर नमस्कार आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय तल से आभार आपका कामिनी जी ! रचना आपको अच्छी लगी मन मगन हुआ !

      Delete
  6. वाह बहुत ही सुंदर सटीक एवं सार्थक रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया सुजाता जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  7. तान के सोया
    कोहरे की चादर
    पागल चाँद !
    बहुत ही सुंदर हैं रचना। सभी बन्ध अपनी विशेष आभा के साथ मौजूद है। सादर 🙏🙏

    ReplyDelete
  8. हार्दिक धन्यवाद रेनू जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete