Followers

Sunday, March 29, 2020

साथी हाथ बढ़ाना




इंसानियत की बात है आगे को आइये,
जन हित के लिए हाथ मदद को बढ़ाइए !
जो दूर हैं घर गाँव से अपनों से दूर हैं,
मुश्किल घड़ी में उनका मनोबल बढ़ाइए !
है देश पे संकट बड़ा विपदा की है घड़ी,
मिलजुल के हराने के लिए साथ आइये !
ज़्यादह नहीं बस कीजिये इतना ही साथियों,
हर घर में थोड़ी रोटियाँ ज़्यादह बनाइये !
होगी क्षुधा जो शांत किसी भूखे पेट की,
पाकर दुआएँ पुण्य का खाता बढ़ाइये !
जाना नहीं है दूर कहीं घर में ही रहें,
घर पर ही रह के आप सबके काम आइये !
जब शत्रु हो बलवान और हो लक्ष्य भी बड़ा,
थोड़ा सा भार अपने कन्धों पर उठाइये !
बीतेंगे ये भी पल गुज़र ही जायेगी घड़ी,
बस फ़र्ज़ देश के लिए अपना निभाइए !

साधना वैद

15 comments :

  1. सार्थक रचना।
    कोरोना से बचिए।
    अपने और अपनों के लिए घर में ही रहिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार आपका शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 30 मार्च 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  3. बीतेंगे ये भी पल गुज़र ही जायेगी घड़ी,
    बस फ़र्ज़ देश के लिए अपना निभाइए
    बिलकुल सही कहा आपने ,ये पल भी गुजर ही जाएंगे ,बहुत ही सुंदर सृजन दी , सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद कामिनी जी ! दिल से आभार !

      Delete
  4. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  5. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (31 -3-2020 ) को " सर्वे भवन्तु सुखिनः " ( चर्चाअंक - 3657) पर भी होगी,
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार कामिनी जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  6. सुंदर सार्थक सामयिक रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद विकास जी ! आभार आपका !

      Delete
  7. सार्थक सर्जन |उम्दा अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete