Followers

Friday, April 30, 2021

पहाड़ी नदी




स्वर्ग से नीचे
धरा पर उतरी
पहाड़ी नदी

करने आई
उद्धार जगत का
कल्याणी नदी

बहती जाती 
अथक अहर्निश
युगों युगों से 

करती रही 
धरा अभिसिंचित 
ये सदियों से 

जीवन यह 
है अर्पित तुमको 
हे रत्नाकर 

उमड़ चली 
मिलने को तुमसे 
मेरे सागर 

सूर्य रश्मि से 
 पिघली हिमनद  
सकुचाई सी 

 हँसती गाती  
छल छल बहती 
इठलाई सी 

उथली धारा
बहती कल कल
प्रेम की धनी

उच्च चोटी से 
झर झर झरती 
झरना बनी 

नीचे आकर 
बन गयी नदिया 
मिल धारा से 

उन्मुक्त हुई
निर्बंध बह चली 
हिम कारा से

बहे वेग से 
भूमि पर आकर 
मंथर धारा 

मुग्ध हिया में 
उल्लास जगत का 
समाया सारा 

एक ही साध
हो जाऊँ समाहित
पिया अंग मैं

रंग जाऊँगी 
इक लय होकर 
पिया रंग मैं 

मेरा सागर 
मधुर या कड़वा 
मेरा आलय 

सुख या दुःख 
अमृत या हो विष
है देवालय 

चाहत बस 
पर्याय प्रणय की
मैं बन जाऊँ

मिसाल बनूँ
साजन के रंग में 
मैं रंग जाऊं 



साधना वैद     

12 comments :

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा रविवार ( 02-05-2021) को
    "कोरोना से खुद बचो, और बचाओ देश।" (चर्चा अंक- 4054)
    पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार मीना जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  2. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  3. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे वाह ! हार्दिक स्वागत है अनुपमा जी ! बड़े दिनों के बाद दर्शन हुए आपके ! हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार आपका !

      Delete
  4. सुप्रभात
    शानदार हाइकु बहुत अच्छे लगे

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई एवं अनंत अशेष शुभकामनाएं ! दिल से आभार आपका !

      Delete
  5. बेहतरीन हाइकू ।पहाड़ से उतर साजन के रंग में रंगने तक ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया अनमोल है मेरे लिए संगीता जी ! आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार !

      Delete
  6. हाइकू शैली में नदी की सुंदर यात्रा का अनुपम चित्रण

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! बहुत ही प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है आपको अपने ब्लॉग पर देख कर ! पाठकों के कदम फिर से ब्लॉग्स की राह पर मुड़ने लगे हैं ! शुभ संकेत हैं यह ! दिल से बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete