Followers

Tuesday, October 26, 2021

मन की बातें - सायली छंद


 


पुकारूँ

नित्य तुम्हें

कहाँ छिपे हो

मेरे प्यारे

गिरिधारी !

 

जब

मैं बुलाऊँगी

तुम आओगे ना

वादा करो

मुझसे !

 

लगता

कितना प्यारा

तुम्हारा सुन्दर मुखड़ा

बलिहारी जाऊँ

मैं !

 

खिले

रंग बिरंगे

फूल उपवन में

हवा लहराई

मदभरी !

 

विसंगति

कैसी अघोर

कविता कोमल तुम्हारी

किन्तु हृदय

कठोर !

 

जीतना

होगा इसे 

किसी भी तरह  

हारेगा नहीं

मन !  


चित्र - गूगल से साभार  

साधना वैद   

8 comments :

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज मंगलवार 26 अक्टूबर 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है....  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद यशोदा जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  2. सुंदर सृजन😍💓

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से धन्यवाद मनीषा जी !

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (27-10-2021) को चर्चा मंच         "कलम ! न तू, उनकी जय बोल"     (चर्चा अंक4229)       पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  4. उम्दा सृजन के लिए बधाई |

    ReplyDelete