Followers

Monday, March 30, 2015

जी लेती हूँ

      
                      

                                       
छू लेती हूँ जब मखमल सी यादें 
जैसे एक उम्र को जी लेती हूँ 
बूँद भर इस प्रेम रस की चाहत में 
सागर भर ज़हर भी पी लेती हूँ ! 


साधना वैद