Followers

Thursday, July 8, 2010

दिल दरिया

लम्हा-लम्हा ज़िंदगी,
तिनका-तिनका नशेमन,
कतरा-कतरा हर खुशी,
रेशा-रेशा पैरहन !

जो कुछ है बस
ये ही मेरी पूँजी है,
दो सुर की सरगम से
दुनिया गूँजी है !

यह मेरे सारे
जीवन की बाज़ी है,
इस दौलत पर
दिल भी मेरा राजी है !

अगर तुम्हारे मन को
कुछ भी भाता है,
मुझे किफायत से भी
रहना आता है !

नहीं हटूँगी पीछे
आज कसम ले लो,
चाहो तो इसमें से
आधा तुम ले लो !

साधना वैद

9 comments :

  1. अगर तुम्हारे मन को
    कुछ भी भाता है,
    मुझे किफायत से भी
    रहना आता है !

    वाह...बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  2. जो कुछ है बस
    ये ही मेरी पूँजी है,
    दो सुर की सरगम से
    दुनिया गूँजी है !
    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  3. दो सुर की सरगम पर नाचती झूमती जिंदगी ...
    मेरे सारे जीवन में कमाई इस दौलत से बड़ा कुछ नहीं ...

    जीवन के लिए यह आत्मसंतोष बहुत आवश्यक है ...
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. बीना शर्माJuly 9, 2010 at 10:12 AM

    अगर तुम्हारे मन को कुछ भी भाता है
    मुझे किफायत से भी रहना आता है
    यही तो है मन का संतोश जिससे जिन्दगी की जंग जीती जाती है ।
    बहुत सुन्दर पंक्तिया

    ReplyDelete
  5. बीना शर्माJuly 9, 2010 at 10:12 AM

    अगर तुम्हारे मन को कुछ भी भाता है
    मुझे किफायत से भी रहना आता है
    यही तो है मन का संतोश जिससे जिन्दगी की जंग जीती जाती है ।
    बहुत सुन्दर पंक्तिया

    ReplyDelete
  6. बीना शर्माJuly 9, 2010 at 10:12 AM

    अगर तुम्हारे मन को कुछ भी भाता है
    मुझे किफायत से भी रहना आता है
    यही तो है मन का संतोश जिससे जिन्दगी की जंग जीती जाती है ।
    बहुत सुन्दर पंक्तिया

    ReplyDelete
  7. बीना शर्माJuly 9, 2010 at 10:12 AM

    अगर तुम्हारे मन को कुछ भी भाता है
    मुझे किफायत से भी रहना आता है
    यही तो है मन का संतोश जिससे जिन्दगी की जंग जीती जाती है ।
    बहुत सुन्दर पंक्तिया

    ReplyDelete
  8. बहुत भाव समेटे रचना |सुन्दर शब्द चयन |
    आशा

    ReplyDelete
  9. जो कुछ है बस
    ये ही मेरी पूँजी है,
    दो सुर की सरगम से
    दुनिया गूँजी है !
    बस ये दोनों सुर एक साथ लग जाएँ....फिर किसी और पूँजी की क्या जरूरत...
    सुन्दर नज़्म

    ReplyDelete