Followers

Sunday, March 14, 2021

कैसे इनके जाल से बच पायेगा देश

 



चलो आज परिचय करें, करें ज़रा कुछ गौर

कर्णधार कैसे मिले, जनता के सिरमौर !


कितना ये सच बोलते, कितनी करते फ़िक्र

कितना इनकी बात में, देश काल का ज़िक्र !


कथनी करनी में बड़ा, अंतर है श्रीमान

जिह्वा पर भगवान हैं, अंतर में शैतान !


मिलते रंगे सियार हैं, धर साधू का वेश

कैसे इनके जाल से, बच पायेगा देश !


बच के रहना भाइयों, शातिर को पहचान

इनके फेंके जाल में, फँसना है आसान !


झूठे वादों का बहुत, इनको है अभ्यास

इनकी बातों पर कभी, मत करना विश्वास !


लुटा रहे हैं गड्डियाँ, जी भर कर उपहार

मिल जाए सत्ता इन्हें, किसी तरह इस बार !


है चुनाव के वास्ते, इनका यह अवतार

फिर तुम इनको ढूँढना, गली-गली हर द्वार !


थोड़ी सी खुशियाँ अभी, फिर भारी नुक्सान

खुद ही करना सीख लो, दुश्मन की पहचान !


झूठे हैं नेता सभी, उथली इनकी सोच

लोकतंत्र के पैर में, इसीलिये है मोच !


जैसे उगते सूर्य का, होता है अवसान

नेता जी के तेज का, अंत निकट लो जान !


साधना वैद  

12 comments :

  1. झूठे हैं नेता सभी, उथली इनकी सोच

    लोकतंत्र के पैर में, इसीलिये है मोच !


    सभी दोहे एक से बढ़ कर एक

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद संगीता जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका केडिया जी ! हृदय से धन्यवाद !

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 15 मार्च 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार प्रिय यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. बहुत सुन्दर सार्थक दोहे दीदी . अक्षरश: सत्य

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद गिरिजा जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  5. सभी दोहे बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद संजय जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  6. वाह , तीखी बात !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज आपको अपने ब्लॉग पर देख कर बहुत उल्लसित हूँ सतीश जी ! स्वागत है आपका ! ह्रदय से धन्यवाद एवं आभार आपका !

      Delete