Followers

Wednesday, January 19, 2011

आहट

कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

घटाटोप अन्धकार में
आसमान की ऊँचाई से
मुट्ठी भर रोशनी लिये
किसी धुँधले से तारे की
एक दुर्बल सी किरण
धरा के किसी कोने में टिमटिमाई है !
कहीं यह तुम्हारी आने की आहट तो नहीं !

गहनतम नीरव गह्वर में
सुदूर ठिकानों से
सदियों से स्थिर
सन्नाटे को चीरती
एक क्षीण सी आवाज़ की
प्रतिध्वनि सुनाई दी है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

सूर्य के भीषण ताप से
भभकती , दहकती
चटकती , दरकती ,
मरुभूमि को सावन की
पहली फुहार की एक
नन्हीं सी बूँद धीरे से छू गयी है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

पतझड़ के शाश्वत मौसम में
जब सभी वृक्ष अपनी
नितांत अलंकरणविहीन
निरावृत बाहों को फैला
अपनी दुर्दशा के अंत के लिये
प्रार्थना सी करते प्रतीत होते हैं
मेरे मन के उपवन में एक
कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !


साधना वैद

12 comments :

  1. मेरे मन के उपवन में एक
    कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

    यह कोमल अहसास और किसी के आने कि आस ही जिलाए रखती है जिजीविषा....बहुत ही ख़ूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  2. yah aahat vatvriksh tak aaye , intzaar hai... achhi rachna kisi nadi ki manind saagar se mil jaye

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  5. पतझड़ के शाश्वत मौसम में
    जब सभी वृक्ष अपनी
    नितांत अलंकरणविहीन
    निरावृत बाहों को फैला
    अपनी दुर्दशा के अंत के लिये
    प्रार्थना सी करते प्रतीत होते हैं
    मेरे मन के उपवन में एक
    कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !


    बहुत गहन और सुन्दर शब्दों में अभिव्यक्त किया है इस आहट को ...सुन्दर ...

    ReplyDelete
  6. वाह जी बहुत सुंदर आहट ओर उस पर यह सुंदर अहसास. धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. मेरे मन के उपवन में एक
    कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं
    komal si kavita bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  8. ह्र्दय की गहराई से निकली अनुभूति रूपी सशक्त रचना

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर कविता.अहसास ही तो कविता को जीवित करता है

    ReplyDelete
  10. सूर्य के भीषण ताप से
    भभकती , दहकती
    चटकती , दरकती ,
    मरुभूमि को सावन की
    पहली फुहार की एक
    नन्हीं सी बूँद धीरे से छू गयी है !
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं ...

    वाह ... उनके आने से पहले उनकी आहट हर शे में नज़र आती है ... बहुत ही मधुर स्मृतियों से ले जाती है ये रचना ..

    ReplyDelete
  11. कोमल सी कोपल की तरह ही कोमल भावों वाली इस सुदर रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  12. पतझड़ के शाश्वत मौसम में
    जब सभी वृक्ष अपनी
    नितांत अलंकरणविहीन
    निरावृत बाहों को फैला
    अपनी दुर्दशा के अंत के लिये
    प्रार्थना सी करते प्रतीत होते हैं
    मेरे मन के उपवन में एक
    कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !


    बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना -
    बधाई

    ReplyDelete