Followers

Tuesday, October 18, 2011

हौसला


क्यों है हताशा साधना का

फल नहीं जो मिल सका ,

क्यों है निराशा वन्दना का

फूल जो ना खिल सका ,

हैं अनगिनत संभावनायें

राह में तेरे लिये ,

दीपक जला ले आस का, तम

दूर करने के लिये !

ले ले दुआ उनकी भरोसा

है जिन्हें तदबीर पर ,

तू थाम उनका हाथ तत्पर

जो कि तेरी पीर पर ,

जो जीतना ही है जगत को

हौसला चुकने ना दे ,

होगी सुहानी भोर भी तू

रात को रुकने ना दे !

साधना वैद

23 comments :

  1. होगी सुहानी भोर भी तू

    रात को रुकने ना दे !

    बहुत ही अच्छा संदेश, और खास बात यह है कि कविता को बार बार पढ़ते रहने का मन होता है।

    सादर

    ReplyDelete
  2. वो सुबहा कभी तो आयेगी ...
    बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  3. जो जीतना ही है जगत को

    हौसला चुकने ना दे ,

    होगी सुहानी भोर भी तू

    रात को रुकने ना दे !
    बहुत ही सुंदर शब्दों मैं लिखी जोश भरती हुई बेमिसाल रचना /बहुत बधाई आपको //मेरे ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद /आशा है आगे भी आपका आशीर्वाद मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /आभार /

    ReplyDelete
  4. कल 19/10/2011 को आपकी यह पोस्‍ट नयी-पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है ... आपके सुझावों का स्‍वागत है ...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव लिए रचना के लिए बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  6. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. जो जीतना ही है जगत को
    हौसला चुकने ना दे ,
    होगी सुहानी भोर भी तू
    रात को रुकने ना दे ...

    बहुत ही ओज़स्वी रचना ... होंसला रहना चाहिए ...

    ReplyDelete
  8. आपकी लेखनी अब छंदों की मुरीद हो गई है साधना दीदी जी। बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  9. Suhani subah zaroor aayegi .

    Insha Allah ...

    ReplyDelete
  10. सार्थक और बेहद खूबसूरत रचना..बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  11. jiwan ki kathinaaiyon me hauslo se marg prashast karti sunder rachna. ham sab ko is se seekh leni chaahiye.

    aabhar.

    ReplyDelete
  12. साधना जी,इस सुंदर पोस्ट के लिए बधाई,आपके इस ब्लॉग में पहली बार आया,सभी रचनाये अच्छी लगी,

    ReplyDelete
  13. जो जीतना ही है जगत को

    हौसला चुकने ना दे ,

    होगी सुहानी भोर भी तू

    रात को रुकने ना दे !

    प्रेरक पंक्तियां !!

    ReplyDelete
  14. जो जीतना ही है जगत को
    हौसला चुकने ना दे ,
    होगी सुहानी भोर भी तू
    रात को रुकने ना दे ...

    sarthak sandesh..

    ReplyDelete
  15. सभी सुधी पाठकों की आभारी हूँ कि आपने इस रचना को सराहा ! सभी नवागंतुकों का स्वागत है ! इसी तरह मेरा उत्साहवर्ध करें यही विनम्र निवेदन है !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर लिखा है आपने बधाई

    ReplyDelete
  17. जो जीतना ही है जगत को

    हौसला चुकने ना दे ,

    होगी सुहानी भोर भी तू

    रात को रुकने ना दे !

    ....बहुत प्रेरक अभिव्यक्ति..दीपावली की अग्रिम हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर भाव से सजी रचना ...

    उम्मीद पर दुनिया कायम है ..

    ReplyDelete