Followers

Friday, March 9, 2012

आक्रोश










क्यों भला आया है मुझको पूजने

है नहीं स्वीकार यह पूजा तेरी ,

मैं तो खुद चल कर तेरे घर आई थी

क्यों नहीं की अर्चना तूने मेरी ?


आगमन की सूचना पर क्यों तेरे

भाल पर थे अनगिनत सिलवट पड़े ,

रोकने को रास्ता मेरा भला

किसलिये तब राह में थे सब खड़े ?


प्राण मेरे छीनने के वास्ते

किस तरह तूने किये सौ-सौ जतन ,

अब भला किस कामना की आस में

कर रहा सौ बार झुक-झुक कर नमन !


देख तुझको यों अँधेरों में घिरा

रोशनी बन तम मिटाने आई थी ,

तू नहीं इस योग्य वर पाये मेरा ,

मैं तेरा जीवन बनाने आई थी !


मैं तेरे उपवन में हर्षोल्लास का

एक नव पौधा लगाने आई थी ,

नोंच कर फेंका उसे तूने अधम

मैं तेरा दुःख दूर करने आई थी !


मार डाला एक जीवित देवी को

पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,

किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का

चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !


है नहीं जिनके हृदय माया दया

क्षमा उनको मैं कभी करती नहीं ,

और अपने हर अमानुष कृत्य का

दण्ड भी मिल जायेगा उनको यहीं !



साधना वैद

26 comments :

  1. बीना शर्माMarch 10, 2012 at 9:44 AM

    बहुत ही सार्थक प्रस्तुति दिल बहुत बैचेन हो रहा था कि साधना जी नाभी तक्महिला दिवस को लेकर कुछ क्यों नहीं लिखा बस आपका ये आक्रोश्मुझामे चेतना जगा गया |

    ReplyDelete
  2. मार डाला एक जीवित देवी को पूजते हो पत्थरों की मूर्ती , किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !
    बहुत सुंदर रचना, बेहतरीन सार्थक प्रस्तुति.......साधना जी,.... बधाई

    MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...:बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  3. चेतावनी देती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  5. मार डाला एक जीवित देवी को

    पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,

    किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का

    चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !

    निःशब्द हूँ...
    भीतर तक उतर गये एक एक शब्द...

    सादर.

    ReplyDelete
  6. yathart ko darshati.......bhawpoorn kavita,bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  7. @ आज बहुत दिन बाद आपके दर्शन हुए हैं मेरे ब्लॉग पर बीना जी ! कृतार्थ हुई ! इसी तरह मुझे प्रोत्साहित करती रहा करें ! आभारी रहूँगी !

    ReplyDelete
  8. सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  9. मार डाला एक जीवित देवी को

    पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,

    किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का

    चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !

    Nice .

    ReplyDelete
  10. सार्थक प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  11. sundar rachna ..shandar

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्‍छी रचना....

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  14. आदरणीय मौसीजी सादर वन्दे, सार्थक पोस्ट है ।किसी भी तरह के अमानुष कृत्य को कभी क्षमा नहीं किया जा सकता है फिर यह तो निज स्वार्थ की पूर्ति के लिए किया जाने वाला पाप है। इस सार्थक आलेख के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  15. आदरणीय मौसीजी सादर वन्दे, सार्थक पोस्ट है ।किसी भी तरह के अमानुष कृत्य को कभी क्षमा नहीं किया जा सकता है फिर यह तो निज स्वार्थ की पूर्ति के लिए किया जाने वाला पाप है। इस सार्थक आलेख के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  16. .


    आक्रोश पूरी तरह मुखर है आपकी रचना में …
    समाज में व्याप्त दोहरेपन से नारी और पुरुष दोनों त्रस्त हैं …
    लेकिन उत्तरदायी कोई और नहीं , आप-हम स्वयं ही हैं ।


    भावों की अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई !
    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  17. मार डाला एक जीवित देवी को
    पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,

    प्रश्न उठाती, चुभती हुयी सार्थक रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  18. itna dard ..itna gussa jayaj hai .... maine har bas puja hi tujhe devii kaha kar jab bari aayi haq dene ki muh mod liya ...

    sabd vandan ke yogya hai

    ReplyDelete
  19. सुन्दर और सार्थक रचना |बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  20. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति.....समाज का ये चेहरा हम सबको व्यथित करता ही है...

    ReplyDelete
  21. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स वीकली मीट (३४) में शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह मेहनत और लगन से हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/34-brain-food.html

    ReplyDelete
  22. बहुत बढ़िया सार्थक प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  23. मार डाला एक जीवित देवी को

    पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,

    किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का

    चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !

    ....दुर्गा पूजक देश में कन्या की भ्रूण हत्या निश्चय ही निंदनीय है...रचना के भाव अंतस को झकझोर देते हैं...यथार्थ को चित्रित करती बहुत सटीक और मर्मस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
  24. bahut suddar likha , ye unake munh par ek tamacha hai jo patthar kee devi ko poojate hain kis liye ek beta pane ke lie, betiyan to jaise unake dvar par bojh bankar padi rahati hain. aise logon ke liye karara kataksh . bahut bahut aabhar isa rachna ke liye.

    ReplyDelete
  25. आदरणीय साधना जी
    नमस्कार !
    बहुत सटीक रचना के भाव अंतस को झकझोर देते मर्मस्पर्शी रचना..!
    होली की सादर बधाईयाँ...
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    ReplyDelete
  26. मार डाला एक जीवित देवी को
    पूजते हो पत्थरों की मूर्ती ,
    किसलिये यह ढोंग पूजा पाठ का
    चाहते निज स्वार्थों की पूर्ती !" रोमांच हो आया , बहुत अच्छी रचना

    ReplyDelete