Followers

Tuesday, February 20, 2018

वजह



बड़ा उदास है आज दिल 
मेरी प्यारी बुलबुल 
कुछ तो जी बहला जा 
हर एक शै है दिल पर भारी 
तू कोई तो गीत सुना जा 
न खुशबुएँ मुस्कुराती है 
न फूल गुनगुनाते हैं 
न हवाएँ गुदगुदाती हैं 
न परिंदों के पयाम आते हैं 
दिल के हर हिस्से में 
बस किसीकी चहलकदमी की 
धीमी-धीमी आहट सुनाई देती है 
और मन की गीली ज़मीन पर 
किसीके पैरों के अध मिटे से 
नक्श उभर-उभर आते हैं 
उन्हें देखने से 
उन्हें छूने से भी डरती हूँ 
आँसुओं के उमड़ते आवेग से 
वे कहीं बिलकुल ही न मिट जायें !
अंतर की उमड़ती घुमड़ती नदी को 
इसीलिये मैंने बाँध बना कर 
अवरुद्ध कर लिया है 
कि कहीं लहरों के वेग के साथ 
ये नक़्शे कदम बह न जायें ! 
शेष जीवन जीने के लिए 
कम से कम इतनी वजह तो 
बचा कर रखनी ही होगी ! 
है ना ?


चित्र - गूगल से साभार 


साधना वैद
Post a Comment