Followers

Thursday, January 10, 2019

मेरा विकास - देश का विकास




 आ रहे हैं चुनाव   
नेता जी भी आ रहे हैं 
भाषण देने, नई घोषणाएं करने
वादे करने, वोट माँगने और
नए नए नारे लगवाने
हवाई अड्डे से सभास्थल तक
सारी रोड चमक गयी है
गड्ढे भर गए हैं
कूड़ा उठ गया है
रंग रोगन हो गया है
नेताजी के चरण जिन सड़कों पर पड़ेंगे
उनका उद्धार हो गया
समझ लो समूचे शहर का 
उद्धार हो गया !
सिर्फ समझने की ही तो बात है !
अगर समय रहते समझ जायेंगे
आपके सारे संशय, सारे संताप
पलक झपकते ही दूर हो जायेंगे !

चुनाव प्रचार के लिये
चार पाँच शहरों का दौरा हुआ
चार पाँच शहरों के
थोड़े-थोड़े हिस्से चमक गए
समझ लीजिये कि समूचे प्रदेश के
सब हिस्से चमक गए और
स्वच्छ भारत का सपना भी
जैसे पूर्णत: साकार हो गया !
सिर्फ समझना ही तो है
समझ लीजिये ना
इसमें हर्ज़ ही क्या है !

जबसे मंत्री बने हैं
नेताजी ने जनता के भले के लिए
क्या कुछ नहीं किया  
एड़ी चोटी का ज़ोर लगा कर
सब सरकारी सौदे, नौकरियाँ, ठेके, टेंडर
अपने सारे कुटुम्बियों को बँटवा दिये
सब चचेरे, तयेरे, ममेरे, फुफेरे, मौसेरे भाई
सारे बहन बहनोई साले सालियाँ
रातों रात अकूत दौलत के स्वामी हो गये
जो आधे पेट खाना खाकर सोते थे
दो जोड़ी कपड़ों में सारे मौसम गुज़ार देते थे
अब राजा महाराजाओं की तरह
शान शौकत के साथ रहने लगे !

अब यहाँ ज़रा अपनी सोच को
थोड़ा सा माँजने की ज़रुरत है
नेता जी जनता के
जनता नेता जी की
अलग थोड़े ही हैं सब उनके कुटुंब से
कुटुंब के सब लोगों का बैंक बेलेंस बढ़ा
धन दौलत, ज़मीन जायदाद में इजाफा हुआ
समझिये सबका जीवन स्तर सुधर गया
सिर्फ समझने की ही तो बात है
नेताजी के रिश्तेदारों का भला हुआ    
समझ जाइए सबका भला हो गया
सबका विकास माने देश का विकास !
अरे क्यों चिंतामग्न हैं भाई !
अब खुश भी हो जाइये
अच्छे दिन आ गये !


साधना वैद





No comments :