Followers

Tuesday, February 15, 2011

कल रात ख्वाब में

कल रात ख्वाब में
मैं तुम्हारे घर के कितने पास
पहुँच गयी थी !
तुम्हारी नींद ना टूटे इसलिये
मैंने दूर से ही तुम्हारे घर के
बंद दरवाज़े को
अपनी नज़रों से सहलाया था
और चुपके से
अपनी भीगी पलकों की नोक से
उस पर अपना नाम उकेर दिया था !
सुबह को जब तुमने दरवाजा खोला होगा
तो उसे पढ़ तो लिया था ना ?

तुम्हारे घर की बंद खिड़की के बाहर
मैंने अपने आँचल में बंधे
खूबसूरत यादों के सारे के सारे पुष्पहार
बहुत आहिस्ता से नीचे रख दिये थे !
सुबह उठ कर ताज़ी हवा के लिये
जब तुमने खिड़की खोली होगी
तो उनकी खुशबू से तुम्हारे
आस पास की फिजां
महक तो उठी थी ना ?

तुम्हारे घर के सामने के दरख़्त की
सबसे ऊँची शाख पर
अपने मन में सालों से घुटती एक
लंबी सी सुबकी को
मैं चुपके से टाँग आई थी
इस उम्मीद से कि कभी
पतझड़ के मौसम में
तेज़
हवा के साथ
उस दरख़्त के पत्ते उड़ कर
तुम्हारे आँगन में आकर गिरें तो
उनके साथ वह सुबकी भी
तुम्हारी झोली में जा गिरे !

तुम अपने बगीचे की क्यारी में
पौधे रोपने के लिये जब
मिट्टी तैयार करोगे तो
तुम वहाँ मेरे आँसुओं की नमी
ज़रूर महसूस कर पाओगे
शायद मेरे आँसुओं से सींचे जाने से
तुम्हारे बाग के फूल और स्वस्थ,
और सुरभित, और सुन्दर हो जायें !

अपने मन में उठती भावनाओं को
गीतों में ढाल कर मैंने
खामोशी के स्वरों में
मन ही मन दोहरा लिया था !
कहीं मेरी आवाज़ से, मेरी आहट से
तुम्हारी नींद ना टूट जाये
मैं चुपचाप दबे पाँव वापिस लौट आई थी !
मेरे वो सारे गीत सितारे बन के
आसमान में चमक रहे हैं
तुम जब आसमान में देखोगे
तो हर तारा रुँधे स्वर में
तुमसे मेरी ही बात करेगा
तुम उन बातों को समझ तो पाओगे ना ?

साधना वैद

37 comments :

  1. तुम जब आसमान में देखोगे
    तो हर तारा रुँधे स्वर में
    तुमसे मेरी ही बात करेगा
    तुम उन बातों को समझ तो पाओगे ना
    bahut dard bhara hai aapne is kavita men.bemisaal hai apki yah shabd rachna...

    ReplyDelete
  2. तुम्हारी नींद ना टूटे इसलिये
    मैंने दूर से ही तुम्हारे घर के
    बंद दरवाज़े को
    अपनी नज़रों से सहलाया था
    और चुपके से
    अपनी भीगी पलकों की नोक से
    उस पर अपना नाम उकेर दिया था !


    बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति..हरेक पंक्ति दिल के दर्द को बहुत प्रभावी ढंग से उकेरती है..बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  3. शब्द और भाव का अनूठा मेल किया है आपने अपनी इस रचना में...बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. दरवाज़े को नज़रों से सहलाना , यादों के पुष्प खिडकी के नीचे रखना ...घुटी सी सुबकी को दरख़्त पर और क्यारी में आसुंओं की नमी ...बहुत सुन्दर शब्दों में बाँधी हैं भावनाएं ...

    मन को छूती हुई नज़्म ....बार बार पढने का मन हो रहा है ..अभी भी कई बार पढ़ चुकी हूँ :)

    ReplyDelete
  5. तुम अपने बगीचे की क्यारी में
    पौधे रोपने के लिये जब
    मिट्टी तैयार करोगे तो
    तुम वहाँ मेरे आँसुओं की नमी
    ज़रूर महसूस कर पाओगे....

    भावुक कर देने वाली रचना ।

    .

    ReplyDelete
  6. मैंने दूर से ही तुम्हारे घर के
    बंद दरवाज़े को
    अपनी नज़रों से सहलाया था
    और चुपके से
    अपनी भीगी पलकों की नोक से
    उस पर अपना नाम उकेर दिया था !
    सुबह को जब तुमने दरवाजा खोला होगा
    तो उसे पढ़ तो लिया था ना ?
    padha hoga to mera chehra kuch pal ko tumhare saath raha hoga

    ReplyDelete
  7. तेज़ हवा के साथ
    उस दरख़्त के पत्ते उड़ कर
    तुम्हारे आँगन में आकर गिरें तो
    उनके साथ वह सुबकी भी
    तुम्हारी झोली में जा गिरे !

    ये क्या लिख डाला साधना जी,...कुछ कहते नहीं बन रहा...
    निस्स्वार्थ-निर्मल प्रेम की परकाष्ठा...
    बेहद ख़ूबसूरत कविता

    ReplyDelete
  8. और चुपके से
    अपनी भीगी पलकों की नोक से
    उस पर अपना नाम उकेर दिया था !
    सुबह को जब तुमने दरवाजा खोला होगा
    तो उसे पढ़ तो लिया था ना ?

    दर्द भरी भीगी भीगी कोमल सुंदर रचना -

    ReplyDelete
  9. साधना जी वेसे तो मुझे कविता कम ही समझ आती हे, लेकिन जब भी आप की कविताये पढता हुं तो बंध सा जाता हुं, ओर तारीफ़ करने के लिये मुझे सही शव्द नही मिलते, आज भी आप की कविता को दो तीन बार पढा... बस यही कहुंगा बहुत सुंदर. एक एक शव्द बेशकिमती हे. धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. इस कविता के माध्यम से आपने जो रुलाने की होल सेल दुकान खोल रखी है, उसका एक बड़ा भाग मैं ले आया हूं।
    अब जी भर कर इस रुदन को जी लूं फिर आऊंगा प्रतिक्रिया देने।

    ReplyDelete
  11. इतनी अच्छी प्रेम कविता मैंने ब्लॉग पर नहीं पढी है। हो सकता है मैंने ब्लॉग पर कविताएं कम पढी हो ... पर इतना भी कम नहीं।
    पहले ये बांट लूं।
    रास्ते में वो मिल गया अच्छा लगा,
    सूना-सूना रास्ता अच्छा लगा।
    कितने शिकवे थे मुझे थे तकदीर से,
    आज क़िस्मत का लिखा अच्छा लगा।
    मुझमें क्या है मुझको कब मालूम है,
    उससे पूछो उसको क्या अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  12. • आपकी इस रचना में प्रेम है तो सिर्फ़ घटना बनकर नहीं है।
    अब ये भी बांट लूं ..
    कोरे काग़ज़ सा बदन, हाथ लगाए कौन,
    मन में बातें सैंकड़ों, पर होंठों पर मौन।

    ReplyDelete
  13. आपसे मुझे जलन हो रही है।
    गुस्सा भी आ रहा है।

    • इसमें लोकगीत जैसी उदासी और शोकांतिका है।
    • इसमें शांत बुनावट है, कहीं कोई हड़बड़ी या अतिरिक्त आवेश नहीं है।
    आपकी भाषा अभिव्यक्ति का माध्यम भर नहीं, जीवन की तहों में झांकने वाली आंख है।
    * इस कविता का काव्य-शिल्प हमें सहज ही कवयित्री की भाव-भूमि के साथ जोड़ लेता है। चित्रात्मक वर्णन कई जगह बांधता है।
    ** शब्दों का चयन, अपनी भिन्न अर्थ छटाओं से कविता को ग्राह्य बनाए रखता है।
    *** और अंत में किया गया प्रश्न ‘तुम उन बातों को समझ तो पाओगे ना ?’ हमारे संवेदन को छूकर आंखों के कोर को गीला कर जाता है?

    ReplyDelete
  14. तुम अपने बगीचे की क्यारी में
    पौधे रोपने के लिये जब
    मिट्टी तैयार करोगे तो
    तुम वहाँ मेरे आँसुओं की नमी
    ज़रूर महसूस कर पाओगे....
    साधना जी मार्मिक अभिव्यक्ति है। कल्पनाओं को ऐसे शब्दों मे समेटने की महारत आप मे है। बहुत अच्छी लगी रचना। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  15. बड़ी ही चमत्कृत करने वाली नवीन कोमल शब्द-योजनाओं से गुम्फित कविता बड़ी मोहक लगी। साधुवाद।

    ReplyDelete
  16. अपने माननीय पाठकों की हृदय से कृतज्ञ हूँ कि उन्होंने कविता के मर्म को समझा और सराहा ! आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद ! अपनी प्रतिक्रियाओं से इसी तरह मुझे प्रोत्साहित करते रहें ! आभारी रहूँगी !

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदरता से मन के भाव प्रदर्शित किये हैं |बहुत बहुत बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  18. रेशमी एहसास भरे .. प्रेम को moun की भाषा में ही कह दिया ... ..
    लाजवाब रचना .

    ReplyDelete
  19. तुम जब आसमान में देखोगे
    तो हर तारा रुँधे स्वर में
    तुमसे मेरी ही बात करेगा
    तुम उन बातों को समझ तो पाओगे ना

    यह प्रश्न अनंत कल से चला आ रहा है..

    अप्प ने एक नए अंदाज में उकेरा..
    बधाइयाँ

    ReplyDelete
  20. विरले ही ऐसी कविता मिलती है,जिसे बार बार पढने को मन करे.
    बहुत ही हृदय स्पर्शी कृति है.
    एक दिन लेट मिली.
    १४ फरवरी को मिलनी चाहिए थी प्रेम की यह अभिव्यक्ति.
    आपकी कलम को ढेरों सलाम

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर ...मनोभावों और शब्दों का कमाल चित्रण .....

    ReplyDelete
  22. .

    कल रात ख्वाब में
    मैं तुम्हारे घर के कितने पास
    पहुँच गयी थी !
    तुम्हारी नींद ना टूटे इसलिये
    मैंने दूर से ही तुम्हारे घर के
    बंद दरवाज़े को
    अपनी नज़रों से सहलाया था
    और चुपके से
    अपनी भीगी पलकों की नोक से
    उस पर अपना नाम उकेर दिया था !
    सुबह को जब तुमने दरवाजा खोला होगा
    तो उसे पढ़ तो लिया था ना ?

    @ अरे, ख्वाब में करते हो इतने हौसले.
    बंद दरवाजे पे खुद का नाम पी के घोंसले.
    नींद में करते हो छिपकर काम स्व-पलकों तले.
    स्वप्न में भी चाहते हो पिय केवल नींद ले.
    प्रेम की इस साधना से व्यक्त होता है सखेद.
    उपजता रतिशून्य भावी भय मिश्रित निर्वेद.

    .... फिलहाल इतना ही.

    .

    ReplyDelete
  23. sadhna ji maafi chahungi aapki kavita par bahut late pahuchi. life ki aur priorities ke aage kayi baar apni icchhaon ko side line karna padta hai, so aapse kshama chaahti hun.

    aapki kavita bahut bahut sunder hai. bahut sunder alankaar prayog kiye jis se kavita ki khoobsurti me char chaand laga diye hain.

    ReplyDelete
  24. तुम्हारी नींद ना टूटे इसलिये
    मैंने दूर से ही तुम्हारे घर के
    बंद दरवाज़े को
    अपनी नज़रों से सहलाया था
    और चुपके से
    अपनी भीगी पलकों की नोक से
    उस पर अपना नाम उकेर दिया था !
    सुबह को जब तुमने दरवाजा खोला होगा
    तो उसे पढ़ तो लिया था ना ?

    बहुत प्रभावी ढंग .बहुत सुन्दर..
    ख़ूबसूरत कविता

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर और दर्द भरी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  26. आपकी पोस्ट की हलचल आज यहाँ भी है

    ReplyDelete
  27. शायद मेरे आँसुओं से सींचे जाने से
    तुम्हारे बाग के फूल और स्वस्थ,
    और सुरभित, और सुन्दर हो जायें !

    आपकी हर कविता की तरह बहुत ही उत्कृष्ट कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  28. सशक्त अभिव्यक्ति है आपकी |

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती.....

    ReplyDelete
  30. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  31. फिर से पढ़ी ..अच्छा लगा पढ़ना ... यह रचना मेरे दिल के करीब है :)

    ReplyDelete
  32. Itni dard bhari panktiyan ki padh ke meri akhein nam si ho gai. Itni gahrai ki laga sab kuch sach mein ho raha meri aakhon ke samne chal raha hai.. bahut hi sundar rachna..

    ReplyDelete
  33. अद्भुत अप्रतिम रचना....
    सादर.

    ReplyDelete
  34. बहुत गहरा अहसाह लिए दर्द भरी कविती |सुन्दर शब्द चयन |

    ReplyDelete