Followers

Saturday, April 11, 2020

बँटवारा


खिंच गयी थी मेरे दिल पर भी एक गहरी लकीर
जब बँटवारे के प्रस्ताव को अंजाम देने की खातिर

अधिकारियों की टीम नाप जोख करने
हमारे घर में आई थी
और कुदाल की हर चोट के साथ हो गए थे
मेरे दिल के भी कई टुकड़े
जब घर के आँगन के बीचों बीच
दीवाल उठाने को मिस्त्री ने
बुनियाद की पहली ईंट लगाई थी !
वही आँगन जहाँ सालों हमने मिल कर
जाने कितने मनों बड़ी, मंगौड़ी,
कचरी, पापड़, चिप्स, सेव बनाए
वही आँगन जहाँ धूप में बैठ हँसते गाते
जाने कितने स्वेटर, मफलर, शॉल बुने
जाने कितने मर्तबान भर आम, मिर्च,
नीबू, कटहल के अचार बनाए !
जहाँ न जाने कितने जगराते हुए
जाने कितनी ढोलकें बजीं
जाने कितने गीत संगीत हुए
जाने कितनी पायलें बजीं !
जहाँ नन्हे शिशुओं ने चलना सीखा
छोटे बच्चों ने साइकिल चलाई,
जहाँ खेल खेल में हुए कई घमासान
और बड़ों ने बीच बचाव कर सुलह कराई !
कई साल पहले जिस जगह पर
नई बहू के स्वागत के लिए
सासू जी ने मेरी आरती उतारी थी
आज ठीक उसी जगह से
विभाजन की यह रेखा गुज़री है,
तब शायद मेरे पैर ही रेखा के इधर उधर थे
आज मेरे समूचे अस्तित्व को दो भागों में
विभक्त करती हुई यह रेखा गुज़री है !
नहीं जानती सब किस नज़रिए से देखते हैं
और झेल जाते हैं इन सब विघटनकारी बातों को,
हम तो बने रह गए ‘इमोशनल फूल’
सबकी नज़रों में, नहीं सह पाए
आलगाव की इन घातों प्रतिघातों को !


चित्र - गूगल से साभार


साधना वैद

20 comments :

  1. बहुत दमदार ,बेहद प्रभावित करने वाली रचना ,हमेशा की तरह

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अजय जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  2. एक भूली हुई दास्तां याद आ गई दीदी, आपकी कलम से कोई भी विषय अछूता नहीं रहा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद आपका मीना जी ! यह शायद हर घर की कहानी है ! आभार आपका !

      Delete
  3. आज के जीवन में जो घट रहा वही लिखा है लेकिन कल सबका एक ही था संयुक्त और सम्मिलित लोगों का परिवार । बहुत अच्छा लिखा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ! बहुत बहुत आभार आपका रेखा जी ! हर्षित हूँ और आशान्वित भी कि ब्लॉग के पुराने और सुहाने दिन लौटने को हैं ! हृदय से धन्यवाद आपका !

      Delete
  4. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में रविवार 12 अप्रैल 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  5. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी ! आभार आपका !

      Delete
  6. बहुत शानदार अभिव्यक्ति |
    |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  7. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  8. कितना दर्द है आपकी रचना में, मगर यह हकीकत है इससे मुंह भी नहीं मोड़ा जा सकता। बहुत अच्छी रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शानू जी ! बहुत बहुत स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग पर ! आपका आगमन सुखद अनुभूति दे गया ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  9. आदरणीय साधना जी, बंटवारा वो भी घर का जीवन की सबसे मर्मांतक घटना या कहूँ दुर्घटना है । संयुक्त परिवार के संवेदनशील व्यक्ति के लिए ये हमेशा हरा रहने वाला घाव है , तो स्वार्थी लोगों के लिए सबसे बड़ा जख्म। सार्थक रचना को मार्मिकता से भरपूर है। 👌👌👌 हार्दिक शुभकामनायें। सादर ---

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रेणु जी ! सत्य कहा आपने बँटवारे का जख्म नासूर बन जाता है जो कभी नहीं भर पाता !

      Delete
  10. स्वार्थी लोगों के लिए सबसे बड़ा जश्न पढ़ें | गलती के लिए खेद है |

    ReplyDelete