Followers

Tuesday, April 28, 2020

मुखौटा




मिथ्या बौद्धिकता,
झूठे अहम और छद्म आभिजात्य
के मुखौटे के पीछे छिपा
तुम्हारा लिजलिजा सा चेहरा
मैंने अब पहचान लिया है
और सच मानो
इस कड़वे सत्य को
स्वीकार कर पाना मेरे लिए
जितना दुष्कर है उतना ही
मर्मान्तक भी है !
मुखौटे के आवरण के बिना
इस लिजलिजे से चहरे को
मैंने एक बार
पहले भी देखा था
पर किसी भी तरह उसे
तुम्हारे लोकरंजित
गरिमामय व्यक्तित्व के साथ
जोड़ नहीं पा रही थी
क्योंकि मैं यह विश्वास
कर ही नहीं कर पा रही थी
कि एक चेहरा तुम्हारा
ऐसा भी हो सकता है !
मेरे लिए तो तब तक
तुम्हारा मुखौटे वाला
चेहरा ही सच था न
और शायद इसीलिये खुद को
छल भी पा रही थी कि
यह लिजलिजा सा चेहरा
तुम्हारा नहीं
किसी और का होगा !
लेकिन अब जब
सारी नग्न सच्चाइयाँ
मेरे सामने उजागर हैं
खुद को छलना मुश्किल है !
और उससे भी मुश्किल है
अपनी इस पराजय को
स्वीकार कर पाना
कि जीवन भर मैंने जिसे
बड़े मान सम्मान,
श्रद्धा और आदर के साथ
अपने अंतर्मन के
सर्वोच्च स्थान पर
स्थापित किया
अपना सबसे बड़ा आदर्श
और पथदर्शक माना
वह सिर्फ और सिर्फ
माटी का एक
गिलगिला सा ढेला है
इससे अधिक कुछ भी नहीं ! 


साधना वैद

20 comments :

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुघवार 29 एप्रिल 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद यशोदा जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सप्रेम वन्दे प्रिय सखी !

      Delete
  2. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी ! आभार आपका !

      Delete
  3. मुखौटा हटने के बाद दिखती सच्चाई को उजागर करती
    बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका ! आप अपनी पहचान गुप्त रखना चाहती हैं यह आपका निर्णय है लेकिन जब ब्लॉगजगत में कदम रख ही दिया है तो अपना परिचय गोपनीय रखने का कोई अर्थ नहीं है ! आपका नाम जान लेती तो आपके नाम से प्रत्युत्तर देती ! कुछ अपनत्व का आभास होता ! खैर आप जो भी हैं बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  4. मालूम नहीं आपने किस व्यक्तिविशेष को लक्ष्य कर के इस रचना को शब्द-रूप दिया है या स्वयं के नश्वर शरीर को लक्ष्य किया है।पर इन सब से इतर अगर व्यक्तिवाचक की जगह जातिवाचक की नजरिए से बात करें तो मुखौटों के इस जंगल में जीवन के सफ़र में कई ऐसी ही सख्शियत से वास्ता पड़ता ही है ... उम्दा कथन ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुबोध जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! यह रचना किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं है ! इसे इस तरह की मानसिकता विशेष के लिए आप मान सकते हैं ! जो लोग इस तरह की मानसिकता रखते हैं यह रचना उनके लिए है ! और ऐसे दोहरे चरित्र के लोग होते हैं यह तो आप भी मानेंगे !

      Delete
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 30.4.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3687 में दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद दिलबाग जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सादर वन्दे !

      Delete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार केडिया जी !

      Delete
  7. वाह !बहुत ही सुंदर सृजन आदरणीया दीदी
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  8. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  9. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार(०३-०५-२०२०) को शब्द-सृजन-१९ 'मुखौटा'(चर्चा अंक-३६९०) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete

  10. मुखौटे के पीछे का सच बताती सुंदर सृजन ,सादर नमन साधना दी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद कामिनी जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete