Followers

Saturday, April 25, 2020

चूल्हा




चूल्हे के नाम से ही
माँ याद आ जाती हैं
रसोईघर में चूल्हे के पास पटे पर बैठीं
साक्षात अन्नपूर्णा सी माँ !
जलती लकड़ियों की आँच से तमतमाया
उनका कुंदन सा दमकता चेहरा,
माथे पर रह रह कर उभरते श्रम सीकर,
आँखों में अनुपम अनुराग और
चहरे पर तृप्ति की अनुपम कांति !
हम बच्चों को चूल्हे पर औंटे सौंधे सौधे
गुलाबी दूध के गिलास थमाती माँ !
चूल्हे पर चढ़ी लोहे की भारी सी कढ़ाही में
करारी करारी पूरियाँ कचौड़ियाँ उतारती माँ !
चूल्हे की मद्धम आँच पर लकड़ी से टिका कर
फूली फूली कुरकुरी रोटियाँ सेकती माँ !
बटलोई में खदर बदर की आवाज़ सुन
दक्षता से दाल सब्जी को चलाती माँ
चूल्हे की लकड़ी से बने अंगारों पर
चावलों को दम करती माँ !
कड़कड़ाती ठण्ड में भी माथे पर छलक आये
पसीने को आँचल से सुखाती माँ !
चूल्हे की धीमी आँच में भूनने के लिए
कभी बैंगन, कभी आलू तो कभी बाटियाँ
बड़े ही करीने से दबाती माँ !
सुस्वादिष्ट बैंगन का भरता,
आलू की चाट और दाल बाटी चूरमा
तैयार कर बड़े ही प्यार से परोसती माँ !
माँ ने अपने जीवन में कभी रसोई के
आधुनिक उपकरण नहीं देखे
लेकिन चूल्हे पर ही जितने लाजवाब
व्यंजन उन्होंने पका कर खिलाये
संसार का कोई भी मास्टर शेफ
उनकी बराबरी नहीं कर सकता
माँ तो साक्षात अन्नपूर्णा का रूप थीं
कोई उनसे उनका यह तमगा
नहीं छीन सकता !

साधना वैद 

22 comments :

  1. पते की बात कही है आपने।
    वाकई माँ का स्थान कोई नहीं ले सकता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  2. वैसे शेफ़ के खाने के लिए भुगतान भी तो करना पड़ता है।
    गैस के बर्नर और कूकर से इतर चूल्हे पर बनने वाले पीतल, लोहे और मिट्टी के बर्तनों में पकने वाले खानों की सोंधी यादें ताजा हो गईं।
    इस तरह का माहौल कमोबेश बिहार में मनाए जाने वाले छठ नामक त्योहार में लोग साल में एक बार जी लेते हैं।
    वैसे केवल माँ का नाम लेना ... थोड़ी बेईमानी हो जाएगी ... शायद ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुबोध जी ! यूँ तो हमारे देश के गाँवों में, वो चाहे राजस्थान हो, मध्य प्रदेश हो, उत्तर प्रदेश हो या फिर बिहार या गुजरात हो, चूल्हे पर पके खाने का जायका बदस्तूर चखने के लिए मिल जाएगा ! मेरी स्मृतियाँ अपने बचपन से जुडी हुई हैं ! उन दिनों हमारे यहाँ खाना चूल्हे पर ही बनता था ! मैं बिहार कभी नहीं गयी लेकिन छठ पर्व के बारे में सुना और पढ़ा बहुत है ! आपने रूचि लेकर रचना को पढ़ा आपका बहुत बहुत आभार !

      Delete

  3. जय मां हाटेशवरी.......

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    26/04/2020 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार कुलदीप जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  4. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  5. आदरणीय साधना जी , माँ का अन्नपूर्ण का तमगा सचमुच कोई नहीं छीन सकता | माँ के चूल्हे और चौके को आपने बहुत ही भाव से याद किया है |मन को स्पर्श कर गयी आपकी ये रचना | मेरी एक रचना की कुछ पंक्तियाँ आपकी इस रचना विशेष के नाम --
    माँ अब समझी हूँ प्यार तुम्हारा
    तुम जो रोज कहा करती थी --
    धरती और माँ एक हैं दोनों ,
    अपने लिए नहीं जीती हैं -
    अन्नपूर्णा और नेक हैं दोनों ;
    माँ बनकर मैंने जाना है -
    औरो की खातिर जीना कैसा है ,
    जीवन - अमृत पीने की खातिर -
    मन के आंसूं पीना कैसा है -,
    और टूटा मन सीना कैसा है -?
    खुद को मिटाया तो जाना है -
    अम्बर सा विस्तार तुम्हारा !
    माँ अब समझी हूँ प्यार तुम्हारा !\
    सप्रेम शुभकामनाएं|



    खिड़की से देखा करती हूँ --



    ,

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रेणु जी ! बहुत ही सुन्दर सशक्त रचना साझा की आपने ! अत्यंत भावपूर्ण एवं गहन ! सत्य है माँ बनाने के बाद ही जाना जा सकता है कि माँ बनना क्या होता है !बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  6. बहुत शानदार रचना |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २७ अप्रैल २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. हार्दिक धन्यवाद आपका श्वेता जी ! बहुत बहुत आभार ! सप्रेम वन्दे सखी !

    ReplyDelete
  9. अप्रतीम रचना सखी बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुजाता जी ! आभार आपका !

      Delete
  10. बहुत सजीव चित्रण के लिए बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से आभार आपका जीजी ! बहुत बहुत धन्यवाद जी !

      Delete
  11. वाह!साधना जी ,आपनें पुरानी यादें ताजा कर दी । बहुत ही खूबसूरत सृजन । सही है माँ से अच्छा शेफ तो दुनियाँ में कहीं न मिलेगा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शुभा जी ! रचना आपको अच्छी लगी मेरा श्रम सफल हुआ ! आपका हृदय से बहुत बहुत आभार !

      Delete
  12. मुझे अपना बचपन याद आ गया. ऐसे ही मिटटी के चूल्हे पर लकड़ी के जलावन से मेरी दादी खाना बनाती थी, जब वह गाँव में थी. बहुत अच्छी यादें और अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जेनी जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete