Followers

Friday, November 26, 2010

अनुनय

सुबह सुबह जब घरेलू काम वाली बाइयों के साथ उनकी छोटी-छोटी लडकियों को सर्दी से बचने के लिये बगल में हाथ दबाये अपनी माँओं के साथ काम पर जाता हुआ देखती हूँ तो मन में दर्द की लकीर सी खिंच जाती है ! जिन छोटे-छोटे हाथों में कॉपी किताबें होनी चाहिए वे ठिठुरन भरी सर्दी में बर्तन घिसने के लिये विवश हैं ! लगभग पन्द्रह बीस वर्ष पहले मेरे यहाँ एक महरी काम करती थी मुन्नी ! उसके साथ उसकी बेटी अनीता भी आती थी उसका हाथ बँटाने ! जब भी मौक़ा मिलता वह कभी बच्चों की कहानी की किताब या कोई पत्रिका उठा लेती और उसके पन्ने पलटने लगती ! मुझे लगा वह रंगीन तस्वीरें देखने के लिये मैग्जीन उठा लेती है ! पर एक दिन गौर से देखा तो वह कुछ बुदबुदा रही थी ! मैंने ऐसे ही कौतुहलवश उससे पूछ लिया, “ तुम्हें पढ़ना आता है ? “
और उसका प्रत्युत्तर आशातीत था, “ हाँ, थोड़ा-थोड़ा आता है ! “
मेरे कहने पर कुछ गलत-सलत कुछ सही उसने मुझे थोड़ा सा पढ़ कर दिखाया ! मेरी सोच को दिशा देने के लिये वह एक टर्निंग पॉइंट था ! मैंने उसकी माँ से पूछा इसे पढ़ाती क्यों नहीं हो तो उसकी अंतहीन दुःख भरी कहानी शुरू हो गयी ! पति शराब पी पी कर इतना बीमार है कि उसके दवा इलाज में ही सारे रुपये खर्च हो जाते हैं ! अनीता के अलावा तीन बच्चे और भी हैं ! बस एक बेटे का दाखिला कराया है स्कूल में ! अनीता को साथ ले आती है मदद के लिये ! दूसरी लड़की घर और छोटे बच्चे को सम्हालती है ! सुन कर मुझे दुःख हुआ !
मैंने अनीता से पूछा, “क्या तुम पढ़ना चाहती हो ?” और उस वक्त उसकी आँखों में जो चमक मैंने देखी थी वह अभी तक मेरे ज़ेहन में बिलकुल सुरक्षित है ! मैंने पहले घर पर रोज उसे दिन में एक दो घण्टे पढ़ा कर तैयारी करवाई और नया सत्र आरम्भ होते ही पास के एक अच्छे स्कूल में वहाँ की प्रधानाध्यापिका से मिल कर उसका दाखिला तीसरी कक्षा में करा दिया ! उसकी फीस, स्कूल यूनीफ़ॉर्म, कॉपी किताबें और अन्य सभी चीज़ों का दायित्व मैंने स्वयम् सम्हाल लिया ! रोज घर पर बुला कर उसे पढ़ाना, होम वर्क कराना, उसके हैण्ड क्राफ्ट के काम में उसकी मदद करना यह सब मेरी दिनचर्या के अनिवार्य अंग हो चुके थे ! बीच-बीच में स्कूल जाकर मैं उसकी टीचर्स से मिल कर उसकी रिपोर्ट भी लेती रहती थी ! बहुत बढ़िया तो नहीं लेकिन वह क्लास में ठीक-ठीक चल रही थी ! इसी तरह दो साल गुजर गये और अनीता पाँचवी कक्षा में आ गयी ! मेरे मन में बड़ा संतोष था कि मैं एक पुण्य का काम कर रही हूँ ! और सोचा था कि इसे कम से कम ग्रेजुएट तो ज़रूर बना दूँगी ! सब कुछ मन के मुताबिक़ चल रहा था कि एक दिन मुन्नी खूब सजी-धजी एक निमंत्रण पत्रिका हाथ में लिये चौड़ी सी मुस्कान बिखेरती उपस्थित हो गयी, “ अनीता की सगाई कर दी है बहूजी आज ! अगले महीने में ब्याह की तारीख निकली है ! आपको ज़रूर आना है ! “
क्या कहूँ समझ नहीं पा रही थी ! इस बालिका वधु के ब्याह की खबर पर खुशी व्यक्त कर उसे बधाई दूँ या एक संभावना से भरपूर आकार लेते व्यक्तित्व के मटियामेट हो जाने के लिये दुःख मनाऊँ ! और फिर अगले महीने अनीता की शादी हो गयी और वह पढ़ाई अधूरी छोड़ अपनी ससुराल चली गयी ! कुछ दिन के बाद मुन्नी भी मेरा काम छोड़ गयी ! उसके बाद आठ दस साल गुजर गये होंगे ! मेरी उससे मुलाक़ात नहीं हुई ! एक दिन अचानक वह रास्ते में मिल गयी ! मैंने अनीता के हाल चाल पूछे तो बोली राजी खुशी है अपने घर में ! मैंने पूछा, “कुछ पढ़ाई लिखाई आगे की उसने या सब छोड़ दिया !”
“ अरे कहाँ बहूजी ! चार-चार बच्चे हैं उसके पास ! उन्हें पढ़ायेगी कि खुद पढ़ेगी ! “
मन कसैला हो आया था ! मेरे सुंदर सपने का पटाक्षेप हो चुका था !
आज की मेरी यह रचना ऐसी ही बच्चियों के मन की दमित इच्छओं की प्रतिध्वनि है !

अनुनय

माँ तू देख मुझे भी अब तो लिखना पढ़ना आता है,
भैया जैसा मुझको क ख ग घ लिखना आता है !

नहीं भेजती मुझको तू स्कूल मगर ऐसा क्यों है ?
सारे घर का काम सदा मुझको करना पड़ता क्यों है ?

सब कहते मैं भैया से भी ज्यादह बुद्धी वाली हूँ,
फिर क्यों तुझको माँ लगती मैं निपट अकल से खाली हूँ !

मुझको भी अच्छी लगती है पुस्तक में लिक्खी हर बात,
भैया पढ़ता जोर-जोर से, हो जाती हैं मुझको याद !

मैं भी खूब इनाम लाऊँगी भेजेगी जो तू स्कूल,
अव्वल आऊँगी कक्षा में, नहीं करूँगी कोई भूल !

वापिस घर आकर फिर माँ मैं तेरा हाथ बटाऊँगी,
पर पढ़ने दे मुझको माँ मैं बन कर ‘कुछ’ दिखलाऊँगी !

साधना वैद