Followers

Saturday, March 2, 2013

खामोशी की ज़ुबान



 











ग़म के सहराओं से ये आह सी क्यों आती है ,
दिल की दीवारों पे नश्तर से चुभो जाती है !

ये किसका साया मुझे छू के बुला जाता है ,
ये किसकी याद यूँ चुपके से चली आती है !

ये मुद्दतों के बाद कौन चला आया था ,
ये किसके कदमों की आहट कहाँ मुड़ जाती है !

ये किसने प्यार से आवाज़ दे पुकारा था ,
ये किस अनाम अँधेरे से सदा आती है ! 

कि जिनकी खुशबू से मौसम में खुशगवारी थी ,
उन्हीं गुलों को गिराने हवा क्यों आती है ! 

ये हमने प्यार से जिन पत्थरों को पूजा था
उन्हीं के दिल से धड़कने की सदा आती है !

अभी तो तैरना सीखा था तुमसे पानी में  
तुम्हीं बताओ सुनामी कहाँ से आती है ! 

बहा के अश्क जो सदियों में दिल किया हल्का  
तेरे अश्कों की नमी बोझ बढ़ा जाती है !

ये कौन मौन की वादी में यूँ भटकता है 
कि मन की गलियों में चलने की भनक आती है !

कि सूखे पत्तों के दिल में भी दर्द होता है
हर एक चोट बहारों की याद लाती है !  

हमें तो आज भी है तेरी ज़रुरत ऐ दोस्त
तुझीको हाथ झटकने की अदा आती है ! 

हमें पता है तुझे बोलना नहीं भाता 
तेरी खामोशी ही हर बात कह सुनाती है !



साधना वैद
चित्र गूगल से साभार

21 comments :

  1. ख़ामोशी की जुबां...दिल की ख़ामोशी ही सुनती है ..
    उम्दा अहसास !
    मुबारक हो !

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (02-03-2013) के चर्चा मंच 1172 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. बहा के अश्क जो सदियों में दिल किया हल्का तेरे अश्कों की नमी बोझ बढ़ा जाती है !
    .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .आभार छोटी मोटी मांगे न कर , अब राज्य इसे बनवाएँगे .” आप भी जानें हमारे संविधान के अनुसार कैग [विनोद राय] मुख्य निर्वाचन आयुक्त [टी.एन.शेषन] नहीं हो सकते

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत गजले कही है आपने साधना जी
    साभार...........

    ReplyDelete
  7. वाह क्या बात है दिल को छूती भावपूर्ण गजल |
    आशा

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर
    बहुत ही बढ़ियाँ गजल...
    बेहतरीन...
    :-)

    ReplyDelete
  10. हमें तो आज भी है तेरी ज़रुरत ऐ दोस्त
    तुझीको हाथ झटकने की अदा आती है !
    ये लाइने दिल को छू गयी

    ReplyDelete
  11. ये कौन मौन की वादी में यूँ भटकता है
    कि मन की गलियों में चलने की भनक आती है !

    ...वाह! बहुत उम्दा ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  12. बहुत उम्दा पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  13. कि सूखे पत्तों के दिल में भी दर्द होता है
    हर एक चोट बहारों की याद लाती है !

    सार्थक सन्देश देती बहुत सुंदर गज़ल.

    ReplyDelete
  14. शुक्रिया साधना जी . मेरी कविता को पसंद करने के लिए
    आपकी ये ग़ज़ल पढ़ी . बहुत सुन्दर लिखा है .. बधाई स्वीकार करिए
    ज़िन्दगी के हर भाव को आपने इस ग़ज़ल में समाहित किया है .

    विजय
    www.poemsofvijay.blogspot.in

    ReplyDelete
  15. कि जिनकी खुशबू से मौसम में खुशगवारी थी , उन्हीं गुलों को गिराने हवा क्यों आती है !

    बेहतरीन भाव लिए खूबसूरत ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
  16. अभी तो तैरना सीखा था तुमसे पानी में
    तुम्हीं बताओ सुनामी कहाँ से आती है ! ....

    सुनामी का पता हो जाये तो तुमसे कहते हैं
    तुम्हारा नाम भूले से जुबां पर हम न लायेंगे ....

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर अलफ़ाज़. दाद स्वीकारें.

    ReplyDelete
  18. गहन भाव लिये ... बेहतरीन प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  19. हमें पता है तुझे बोलना नहीं भाता
    तेरी खामोशी ही हर बात कह सुनाती है !
    बहुत खूबसूरत अहसास... आभार

    ReplyDelete