Followers

Saturday, May 18, 2013

जब आवै संतोष धन..........





समाज में व्याप्त वैषम्य और विसंगतियों पर आक्रोश व्यक्त करने वालों को पहले एक दोहा सुनाकर नसीहत दी जाती थी कि उनके पास जो है जितना है उसीमें संतुष्ट रहना सीखें और दूसरों की थाली की चुपड़ी रोटी देख कर अपनी मन में लालच को स्थान न दें !

देख पराई चूपड़ी, मत ललचावे जी,
रूखा सूखा खाय के, ठंडा पानी पी ! 

समय के साथ-साथ प्रचलित मान्यताओं एवँ मूल्यों में कैसे परिवर्तन आ जाता है यह वाकई में कई समाजशास्त्रियों के लिये भी शोध का विषय हो सकता है ! अब इस नसीहत की ज़रूरत गरीबों को नहीं वरन उस वर्ग को अधिक है जिनके पास अथाह दौलत है लेकिन फिर भी उनके मन में ना तो संतोष है ना ही ‘और और’ की उनकी भूख पर कोई विराम है ! इतिहास पर नज़र डालें तो अतीत से लेकर वर्तमान तक भारत ने उत्थान और पतन के चरम बिंदुओं को अनेकों बार छुआ है लेकिन समाज के क्रीम वर्ग के मानसिक पतन का जो दृश्य आजकल उभर कर सामने आ रहा है वह अवश्य चौंकाने वाला है !
हमेशा से ही नैतिकता की तराजू के एक पलड़े में ईमान के साथ दूसरे पलड़े में अभाव, ज़रूरतें, मजबूरियाँ, विवशताएं तोली जाती रही हैं और तीस चालीस साल पहले तक एक सोच यह भी थी कि ज़रूरतों के आगे टूट कर अपने ईमान का सौदा कर लेने वाला व्यक्ति समाज के संवेदनशील व्यक्तियों की नज़र में अपराधी न होकर दया और सहानुभूति का पात्र माना जाता था ! फ़िल्में समाज का दर्पण होती हैं ! पचास एवँ साठ के दशक में इस थीम पर अनेकों फ़िल्में बनी जो ज़बरदस्त हिट हुईं ! राजकपूर, देवानंद आदि ने इस तरह की कई फिल्मों में काम कर खूब लोकप्रियता बटोरी ! बाद में इसी सिलसिले को अमिताभ बच्चन ने भी अपनी आरंभिक फिल्मों में आगे बढ़ाया और उनकी एंग्री यंगमैन की छवि को दर्शकों ने खूब सराहा ! इन फिल्मों में बुराई पर अच्छाई की जीत को दिखाया गया और किन हालातों में आम आदमी मजबूर होकर अपराध का रास्ता चुनता है इस पर भी संवेदनशील विचारकों ने पैनी नज़र डाली ! अपराध के रास्ते पर चला नायक अंत में बुराई को समाप्त करता है और एक सच्चा और अच्छा आदमी बन कर समाज के सामने मिसाल कायम करता है ! इस बात से यह तो सिद्ध हो जाता है कि ज़रूरतों के आगे यदि मनुष्य विवश होकर बेईमानी का रास्ता अपना लेता है तो उसके हालात का विश्लेषण कर उसे माफ भी किया जा सकता है और जब यह जागरूकता समाजशास्त्रियों में आ जाती है तो इन हालातों को सुधारने की दिशा में भी कुछ कदम उठाने की ज़रूरत के महत्त्व को समझा जाता है !
लेकिन आज भ्रष्टाचार, घोटाले, घपले और रिश्वतखोरी के जैसे मामले सामने आ रहे हैं और इन मामलों में जैसे लोगों की संलिप्तता उजागर हो रही है उसने पुरानी सारी मान्यताओं को तोड़ कर रख दिया है ! आज जो लोग इन गलत रास्तों पर चल रहे हैं वे ना तो हालात के मारे हुए हैं, ना कमज़ोर और शोषित वर्ग के हैं और ना ही गरीब या मजबूर हैं ! बल्कि ये सब अकूत संपत्ति के मालिक हैं और इनका सारा वक्त इसी चिंता में बीतता है कि कैसे इस धन को सरकार की नज़र से छिपा कर रखा जाये ! इसके अलावा और कैसे अधिक से अधिक धन बटोरा जाये !
आदमी किस कदर लालची हो गया है यह सोच कर हैरानी होती है ! हाल ही में आई. पी. एल मैचों में मैच फिक्सिंग के जो समाचार आ रहे हैं और जिस तरह से उसमें करोड़पति क्रिकेटर्स के संलिप्त होने के मामले उजागर हो रहे हैं उन्होंने हैरान कर दिया है ! राजनीति से लेकर खेल के मैदान तक जो लोग इन घोटालों में फँसे हुए हैं वे किसी अभाव, विवशता या ज़रूरत की वजह से इन आपराधिक गतिविधियों से जुड़े हैं ऐसा बिलकुल नहीं है ! इनके मन की महत्वाकांक्षायें इतनी अधिक और इतनी प्रबल हैं कि इन्हें कभी संतोष ही नहीं होता और उन्हें किसी भी तरह से पूरा करने के लिये ये अपने विवेक, संस्कार, नैतिक मूल्य सभीके साथ समझौता करने के लिये तैयार हो जाते हैं ! इन्हें तो येन केन प्रकारेण बस पैसा कमाना है ! किसी भी तरह से आये पैसा आना चाहिये ! ना इनके मन में दया माया बची है ना ही संतोष की भावना शेष रही है ! राजनेताओं से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक, आज के समय के तथाकथित संत महात्माओं से लेकर खिलाड़ियों तक, फ़िल्मी कलाकारों से लेकर बिजिनेस टाईकून्स तक अब किसीके भी पाँव धरती पर नहीं रहते ! जाने कबसे इनका नाता ज़मीनी हकीकतों और ज़मीनी ज़रूरतों से टूट चुका है ! इन्हें आम आदमी की दिक्कतें, तकलीफें, ज़रूरतें दिखाई नहीं देतीं ! समाज में कितनी असमानता है, कितने लोग भुखमरी और कुपोषण का शिकार हो रहे हैं कितने मरीज़ धन के अभाव में सुचारू रूप से दवा इलाज नहीं करवा पाते उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं देता ! बढती मँहगाई की वजह से आम इंसान कितनी ज़द्दोज़हद के साथ अपनी ज़िंदगी गुजार रहा है इन बातों से इनका कोई सरोकार नहीं है ! लोग आत्मकेंद्रित और स्वार्थी हो गये हैं ! उन्हें सिर्फ अपनी तिजोरियों में नोटों की गड्डियाँ चाहिये ! फिर वो चाहे कैसे भी आयें कहीं से भी आयें ! लाखों रुपये एक पार्टी में फूँकने से उनकी हैसियत में इजाफा होता है ! अपनी पत्नियों को विशिष्ट अवसरों पर करोड़ों रुपये के गिफ्ट देना उनकी प्रतिष्ठा में चार चाँद लगा देता है ! कोई हवाई जहाज गिफ्ट कर रहा है तो कोई अति मूल्यवान हीरे के आभूषण ! कोई अपने महलनुमा घर पर हैलीपैड बनवा रहा है तो कोई विश्व के सभी शानदार शहरों में ज़मीन जायदाद खरीदने में लगा हुआ है ! और इस मैराथन दौड में जो पीछे चल रहे हैं वे इन्हें अपना आदर्श मान इनसे भी आगे निकलने की जिद में हर गलत तरीके से धन जुटाने में लगे हैं ! लेकिन इसी समाज में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो पेट की आग बुझाने के लिये मात्र दो किलो चावल के बदले में अपने बच्चों को बेचने के लिये विवश हैं यह उन्हें दिखाई नहीं देता ! भरपेट खाना बच्चों को ना दे पाने के अपराध बोध से ग्रस्त कितने परिवार सामूहिक आत्महत्या जैसा भयावह कदम उठा लेते हैं ऐसे समाचार उनके हृदय को नहीं कचोटते ! अगर ऐसा होता तो भ्रष्ट तरीकों से धन जुटाने के स्थान पर वे ईमानदारी से कमाए हुए अपने थोड़े से धन को ही ऐसे अभावग्रस्त लोगों के साथ बाँटने के बारे में ज़रूर सोचते !
लोगों का इतना मानसिक पतन देख कर आत्मा कराहती है ! लोग क्यों भूल जाते हैं कि इंसान खाली हाथ ही संसार में आता है और खाली हाथ ही संसार से जाता भी है ! यह भौतिक सम्पदा, महल दुमहले, धन दौलत सब यहीं छूट जानी हैं फिर क्यों अधर्म और अपराध के रास्ते पर चल कर गलत तरीकों से उसे जोड़ कर रखने का आग्रह है ! मन में संतोष होना चाहिये और यह संतोष तभी आता है जब मन मस्तिष्क किसी भी तरह के अपराध बोध से उन्मुक्त होता है ! जो इंसान गलत काम करता है उसे चैन कैसे मिल सकता है ! ईमानदारी, मेहनत और सत्कर्म से कमाए धन में ही बरकत होती है ! जो ऐसा नहीं करते उनका हश्र तो सब देख ही रहे हैं ! सारे संसार में जगहंसाई हो रही है और जेल की हवा खानी पड़ रही है सो अलग ! अपने माता पिता व घर परिवार वालों को भी वे लज्जित ही कर रहे हैं ! यहाँ तक कि वे अपने कपूतों की करतूतों से इतने शर्मिंदा हैं कि अपना घर बंद कर पलायन करने के लिये विवश हो गये हैं ! हमारे पूर्वज ठीक ही कह गये हैं –

गोधन, गज धन, वाजि धन, और रतन धन खान,
जब आवै संतोष धन, सब धन धूरि सामान ! 

काश कोई इन्हें इस 'संतोष धन' का महत्त्व समझा देता और इसे कमाने के गुर सिखा देता तो ये भी आम आदमी के साथ मिल बाँट कर अपनी थाली की रूखी सूखी रोटी को परम संतोष के साथ खाते !


साधना वैद