Followers

Wednesday, May 27, 2015

कसौटी




                
सोचा अगर उसको ‘कसौटी’ पर परखने का कभी ,
भारी पड़ेगी सब पे वह यह बात भी सुन लें सभी !
है आज की नारी निपुण हर कार्य में वह दक्ष है ,
वह है बनी घर के लिये यह सोच का इक पक्ष है !
हो चाँद सूरज की चमक नित क्षीण जिसकी आब से ,
यह विश्व आलोकित है उस जगदम्बिके के ताप से !
वह है सदय, कोमल, करुण, है वत्सला जग के लिये ,
पर चण्डिका भी है मनुज के शत्रु असुरों के लिये  !

साधना वैद