Followers

Tuesday, November 12, 2019

विडम्बना - एक लघुकथा

Image may contain: 4 people, people on stage

टी वी पर धारावाहिक ‘महाभारत’ का प्रसारण चल रहा था ! आज का प्रसंग द्रौपदी के चीर हरण का था ! मुझे यह एपीसोड विशेष रूप से पसंद है ! द्रौपदी की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री का अभिनय भी कमाल का और संवाद तो बहुत ही बढ़िया ! जब द्रौपदी के आग्नेय प्रश्नों के सामने सभा में उपस्थित सभी विद्वान् निरुत्तर हो जाते हैं और माधव उसकी साड़ी बढ़ाते चले जाते हैं यह दृश्य भी मुझे विशेष प्रिय है ! सारा काम निबटा कर अपनी चाय का कप लेकर मैं इत्मीनान से टी वी के सामने आ बैठी !

द्रौपदी अपनी आँखें बंद कर गोविन्द का ध्यान कर रही है ! सारी सभा शोकमग्न और लज्जित दिखाई देती है बस दुर्योधन का क्रूर हास्य गूँज रहा है ! तभी मेरी काम वाली बाई रोनी शक्ल बना कर मेरे सामने आ खड़ी हुई ! कार्यक्रम में बाधा पड़ने से मैं खिन्न थी !
“क्या बात है ?” मैंने तिक्त स्वर में पूछा !
“कल रात फिर बेटे को तीन चार लौंडों के संग पुलिस ने पकड़ लिया ! छुड़ाने के लिए बहुत पैसे माँगते हैं ! आपकी मदद चाहिए ! ”
“अरे ! समझाती क्यों नहीं उसे ! जुआ खेलना कोई अच्छी बात है ?”
“सिखाती तो बहुत हूँ बहूजी पर कह देता है भगवान् भी तो खेलते थे ! वो तो अपना राज पाट, भाई, घरवाली सबको हार गए ! हम ऐसा तो नहीं करते ! सिर्फ हज़ार पाँच सौ का ही तो खेलते हैं !”
मैंने घबरा कर फ़ौरन टी वी बंद कर दिया !


साधना वैद

13 comments :

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (13-11-2019) को      "गठबन्धन की नाव"   (चर्चा अंक- 3518)     पर भी होगी। 
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. साधना दी, बहुत मासूम और तर्कपूर्ण सवाल कि भगवान भी तो खेलते थे। सही में कुछ सवाल ऐसे होते हैं जिनके जवाब नहीं होते। बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद ज्योति जी ! आभार आपका !

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में बुधवार 13 नवम्बर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शोभना जी ! आभार आपका !

      Delete
  5. वाह!!साधना जी ,बहुत खूब !तर्क तो उसका वाजिब ही था ,पर कुछ सवाल अनुत्तरित ही रह जाते हैं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी शुभा जी ! पलों के सुख में जीने वाले ये लोग दूरगामी परिणामों तक नहीं सोच पाते ! हार्दिक धन्यवाद आपका !

      Delete
  6. Replies
    1. यही तो विडम्बना है कि जो धर्म और आदर्श के शीर्ष पर बैठे हैं वही इतने दुष्कर्म करते हुए दिखाए जाते हैं ! लोग तो उन्हें ही अपना आदर्श मान लेते हैं ! हार्दिक धन्यवाद आपका !

      Delete