Followers

Thursday, November 14, 2019

आहट



कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

घटाटोप अन्धकार में
आसमान की ऊँचाई से
मुट्ठी भर रोशनी लिये
किसी धुँधले से तारे की
एक दुर्बल सी किरण
धरा के किसी कोने में टिमटिमाई है !
कहीं यह तुम्हारी आने की आहट तो नहीं !

गहनतम नीरव गह्वर में
सुदूर ठिकानों से
सदियों से स्थिर
सन्नाटे को चीरती
एक क्षीण सी आवाज़ की
प्रतिध्वनि सुनाई दी है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

सूर्य के भीषण ताप से
भभकती , दहकती
चटकती , दरकती ,
मरुभूमि को सावन की
पहली फुहार की एक
नन्हीं सी बूँद धीरे से छू गयी है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !

पतझड़ के शाश्वत मौसम में
जब सभी वृक्ष अपनी
नितांत अलंकरणविहीन
निरावृत बाहों को फैला
अपनी दुर्दशा के अंत के लिये
प्रार्थना सी करते प्रतीत होते हैं
मेरे मन के उपवन में एक
कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है !
कहीं यह तुम्हारे आने की आहट तो नहीं !


साधना वैद

16 comments :

  1. बहुत खूब लिखा है |"कोमल सी कोंपल ने जन्म लिया है
    कहीं यह तुम्हारे आने की आहात तो नहीं |"

    ReplyDelete
  2. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! बहुत बहुत आभार आपका !

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(१६-११ -२०१९ ) को " नये रिश्ते खोजो नये चाचा में नया जोश होगा " (चर्चा अंक- ३५२१) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….

    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. वाह बहुत खूब लिखा है आपने!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद उर्मिला जी ! स्वागत है आपका ! दिल से आभार !

      Delete
  5. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 18 नवंबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद दिग्विजय जी ! दिल से आभार एवं सादर वन्दे !

      Delete
  7. वाह वाह वाह...
    सबसे बेहतरीन।
    बूंद का छूना
    कोंपल का फूटना
    गजब।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रोहितास जी ! आभार आपका !

      Delete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनुराधा जी ! दिल से आभार आपका !

      Delete
  9. जी बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुजाता जी ! बहुत बहुत आभार !

      Delete