Followers

Wednesday, January 29, 2020

नमन माँ शारदे



ऐ हंसवाहिनी
माँ शारदे
दे दो ज्ञान !
सद्मति और संस्कार से
अभिसिंचित करो
हमारे मन प्राण !
गूँजे दिग्दिगंत में
चहुँ ओर
तुम्हारा यश गान !
शरण में आये माँ
उर में धर
तेरा ही ध्यान !
तू ही मान हमारा माँ
तू ही अभिमान !
हर लो तम और
जला दो ज्ञान की
ज्योति अविराम !
दूर कर दो माँ
जन जन का अज्ञान !
चरणों में
शीश नवाऊँ मैं
स्वीकार करो माँ
मेरा प्रणाम !

साधना वैद

14 comments :

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 30.1.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3596 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद दिग्विजय जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  3. बहुत सुन्दर !
    हमारा बचपन तो 'वर दे वीणा वादिनी वर दे' सुनते बीता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिलकुल ! उन दिनों कई स्कूलों की प्रार्थना हुआ करती थी ! आपका हार्दिक धन्यवाद एवं आभार गोपेश जी !

      Delete
  4. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 30 जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  5. बसंतपंचमी की शुभ कामनाएं |उम्दा लिखा है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! आभार आपका !

      Delete
  6. बहुत सुन्दर...
    माँ शारदे की कृपा बनी रहे!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ! हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद आपका कविता जी ! आभार !

      Delete
  7. अति उत्तम प्रार्थना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! स्वागत है आपका इस ब्लॉग पर !

      Delete