Followers

Sunday, January 5, 2020

राग - वैराग्य


हमने था शामिल किया अपनी दुआओं में तुझे
पर न शामिल हो सके तेरी दुआओं में कभी,
दूर था तेरा ठिकाना रास्ता दुश्वार था
हम जतन करते रहे तुझ तक पहुँचने के सभी !

पर मिली ना मंज़िलें, ना रास्तों का था पता
हम तेरी गलियों में यूँ बेआसरा भटका किये
आँख में तस्वीर तेरी, दिल में तेरी आरज़ू
बस तेरे साए को छूने का भरम मन में लिए !

अब ना तेरी आरज़ू, ना याद, ना कोई गिला
आज मन का राग ज्यों वैराग्य ही से युक्त है
नाम था तेरा मेरी जिन प्रार्थनाओं में कभी
पंक्तियाँ सारी वो उन गीतों से बिलकुल मुक्त हैं !

साधना वैद



10 comments :

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (06-01-2020) को 'मौत महज समाचार नहीं हो सकती' (चर्चा अंक 3572) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं…
    *****
    रवीन्द्र सिंह यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. शिकवा-गिला तो अब भी बाक़ी लग ही रहा है !

    इस फ़ैसले को सिर्फ़ रूठना मान लेते हैं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद गोपेश जी ! आभार आपका !

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 06 जनवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. बहुत सुंदर सृजन
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद ज्योति जी ! सादर आभार आपका !

      Delete
  5. बंधन से मुक्त होती सुंदर कविता.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार राकेश जी ! स्वागत है आपका इस ब्लॉग पर !

      Delete