Followers

Sunday, March 21, 2010

चूँ–चूँ ( बाल गीत )

विश्व गौरैया दिवस पर नन्हे–मुन्नों के लिये एक बाल गीत प्रस्तुत कर रही हूँ इस आशा से कि वे इसे अवश्य पसंद करेंगे और गुनगुनायेंगे !


प्यारी चूँ-चूँ आजा तू भोली चूँ-चूँ आजा तू ,
सबका दिल बहला जा तू नन्हीं चूँ-चूँ आजा तू !

सोने की प्याली में तुझको दाना दूँगी खाने को ,
चाँदी की प्याली में मीठा पानी दूँगी पीने को ,
आकर दाना खा जा चूँ-चूँ ठण्डा पानी पी जा तू !

प्यारी चूँ-चूँ आजा तू भोली चूँ-चूँ आ जा तू !

तेरे पैरों में चाँदी की पायल मैं पहनाउँगी ,
तेरे घुँघरू की लय पर मैं गीत प्रेम का गाउँगी ,
आकर नाच दिखा जा चूँ-चूँ मीठी तान सुना जा तू !

प्यारी चूँ-चूँ आ जा तू भोली चूँ-चूँ आ जा तू !

रंग बिरंगे तेरे डैने मेरे मन को भाते हैं ,
मैं भी तेरी तरह उड़ूँ ये सपने मुझको आते हैं ,
आसमान में अपने संग मुझको भी लेकर उड़ जा तू !

प्यारी चूँ-चूँ आ जा तू भोली चूँ-चूँ आ जा तू !
सबका दिल बहला जा तू नन्हीं चूँ-चूँ आ जा तू !

साधना