Followers

Friday, April 1, 2011

मेरा कमरा

कितना अच्छा लगता है
जब अपने चहरे पर टँगी
औपचारिक मुस्कुराहटों को
सायास उतार मैं बाहर
खूँटी पर टाँग आती हूँ
और विशुद्ध रूप से भावहीन हो
अपने इस अंतरमहल में
प्रवेश करती हूँ
जिसकी दीवारों पर
अनगिनत भावभीनी
यादों के भित्ती चित्र बड़े करीने से
चप्पे-चप्पे पर सजे हुए हैं !
इसमें आने से पहले
मध्य से तार सप्तक में
तैरने वाली अपनी
चहकती आवाज़ को
मैं छत की अलगनी पर ही
लटका आती हूँ
क्योंकि यहाँ आने पर
मेरे स्वर स्वत: ही
मंद्र सप्तक पर उतर कर
फुसफुसाहट में बदल जाते हैं !
जिस तरह नौ से पाँच
ऑफिस में काम करने वाली
कामकाजी महिला घर लौटने पर
अपने चहरे पर लगाए हुए
प्रसाधनों को व्यग्रता से
धो डालती है
उसी तरह अपने निजी कक्ष में
प्रवेश करने से पहले मैं भी
अपने चहरे से
बनावटी हर्ष और उल्लास,
हँसी और खुशी तथा
औपचारिक शिष्टाचार
के दिखावटी प्रसाधनों को
मल-मलकर
छुड़ा देना चाहती हूँ !
मेरे इस कमरे में
किसी का भी प्रवेश
सर्वथा वर्जित है
शायद इसीलिये यहाँ मैं
स्वयं को बहुत सुरक्षित पाती हूँ !
इस कमरे के एकांत में
बिलकुल अकेले
नि:संग, नि:शब्द, शिथिल
आँखें मूँदे यहाँ की खामोशी को
बूँद-बूँद पीना मुझे
बहुत अच्छा लगता है !
मुझे अपना यह कमरा
बहुत अच्छा लगता है
जहाँ मैं खुद से
रू-ब-रू हो पाती हूँ
जहाँ मेरे चहरे पर
कोई मुखौटा नहीं होता !


साधना वैद

26 comments :

  1. मुझे अपना यह कमरा
    बहुत अच्छा लगता है
    जहाँ मैं खुद से
    रू-ब-रू हो पाती हूँ
    जहाँ मेरे चहरे पर
    कोई मुखौटा नहीं होता !....

    ऑफिस में काम करने वाली कामकाजी महिला के घर लौटने पर बनने वाली मानसिकता के मनोभावों को खूबसूरती से पिरोया है। बधाई।

    ReplyDelete
  2. आदरणीय साधना वैद जी
    नमस्कार !
    क्या बात है...बड़ी ही प्यारी सी रचना
    कामकाजी महिला के मनोभावों को खूबसूरती से पिरोया है। बधाई।
    .......दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    ReplyDelete
  3. खूँटी और अलगनी का बेहतर प्रयोग ...
    स्वरों का मंद सप्तक स्वर में उतरना ....खामोशी को बूंद बूंद पीना ...और बिना मुखौटे के खुद से मिलना ..कुल मिला कर यह रचना बहुत अच्छी लगी ...मुझे लगा कि कहीं ये मेरे भाव ही तो नहीं ...आभार अच्छी प्रस्तुति के लिए

    ReplyDelete
  4. मंद्र सप्तक में आप खुद से कुछ कहतीं हैं -
    तभी तार सप्तक इतना साफ और खिला हुआ है -
    इतनी सुंदर कल्पना के लिए बधाई .-
    संगीत है तो आप अकेली कहाँ हैं -
    नाद ही नाद है -
    गूँज ही गूँज है -
    शांति ही शांति है ....!!

    ReplyDelete
  5. ab tak kee sabhee rachanaaon men mujhe yah rachanaa bahut prabhaavee lagee| sach hee jab ham apane mukhauton ko utaar fenkate hain aur svayam apane aatam men nimagn ho jaate hain us aanand kaa koee saanee naheen hotaa | bahtar rachanaa

    ReplyDelete
  6. स्मिताApril 1, 2011 at 5:45 PM

    अपनें कमरे में खुद को दायरों से मुक्त कर आडम्बर विहीन होकर निज को पानां बहुत बड़ी उपलब्धि है |
    सादगी से मनोंभावों की अभिव्यक्ति यही है आपकी रचनाओं की पहचान बधाई |

    ReplyDelete
  7. बहुत भावपूर्ण रचना और यथार्थ चित्रण |
    बधाई सतत लिखने के लिए
    आशा

    ReplyDelete
  8. औपचारिक मुस्कुराहटों को
    सायास उतार मैं
    खूँटी पर टाँग आती हूँ
    और विशुद्ध भावहीन हो
    अपने इस अंतरमहल में
    प्रवेश करती हूँ

    हर महिला के मन की वेदना...जब झूठी मुस्कराहट उसे सायास ओढ़नी पड़ती है...
    बहुत ही संवेदनशील अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. इस कमरे के एकांत में
    बिलकुल अकेले
    नि:संग, नि:शब्द, शिथिल
    आँखें मूँदे यहाँ की खामोशी को
    बूँद-बूँद पीना मुझे
    बहुत अच्छा लगता है !
    मुझे अपना यह कमरा
    बहुत अच्छा लगता है..

    परिस्थितियों का वास्तविक वर्णन....सार्थक प्रस्तुति के लिए आभार....

    ReplyDelete
  10. मुझे अपना यह कमरा
    बहुत अच्छा लगता है
    जहाँ मैं खुद से
    रू-ब-रू हो पाती हूँ
    जहाँ मेरे चहरे पर
    कोई मुखौटा नहीं होता !....

    सुन्दर अभिव्यक्तियों से सजी बेहतरीन कविता, सीधे सादे शब्द, शुभकामनाये

    ReplyDelete
  11. working woman ka satik chitran kiya hai

    ReplyDelete
  12. बहुत भावपूर्ण रचना और यथार्थ चित्रण, परिस्थितियों का वास्तविक वर्णन, बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  13. जहाँ मैं खुद से
    रू-ब-रू हो पाती हूँ
    जहाँ मेरे चहरे पर
    कोई मुखौटा नहीं होता
    ekdam napi-tuli hui saaf-saaf kavita.bahut pasand ayee.

    ReplyDelete
  14. aapka swayam se ru ba ru hona accha laga.......

    ReplyDelete
  15. आपके उस कमरे के बगलवाला कमरा मेरा है.
    कुछ आप जैसा,कुछ थोडा सा जुदा...

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...............!

    ReplyDelete
  16. खुद से रूबरू हों कभी कभी डरावना भी हो जाता है ...
    बहुत गहरी बात उतारी है रचना में ...

    ReplyDelete
  17. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. mujhe aapki rachnao ne nishabd kiya hai aur bahut se sawalo ne janm bhi liya apko padh kar....aap itna acchha kaise likh leti hain...bhaav sabhi ke paas hote hain...aur aapke bhaav har istri ke man ki baat hi hote hain..lekin ham me vo hunar nahi ki itni kushalta se shabdo ki itni sunder mala goonth paaye...mujhe to bas isi baat ka bahut bahut afsos hai sacchhiiiiii :(:(:(

    (ha.ha.ha.)

    इस कमरे के एकांत में
    बिलकुल अकेले
    नि:संग, नि:शब्द, शिथिल
    आँखें मूँदे यहाँ की खामोशी को
    बूँद-बूँद पीना मुझे
    बहुत अच्छा लगता है !

    aur han ant me in lines ko padh kar bhi ek baat jaroor kahungi.....

    MAY I COME IN PLEEEEEEEEEEEEASE ?

    :)

    ReplyDelete
  19. बेहद सुन्दर रचना.बधाई.

    ReplyDelete
  20. क्योंकि वहां सिर्फ़ आप होते हैं

    ReplyDelete
  21. मुझे अपना यह कमरा
    बहुत अच्छा लगता है
    जहाँ मैं खुद से
    रू-ब-रू हो पाती हूँ
    जहाँ मेरे चहरे पर
    कोई मुखौटा नहीं होता !
    ...
    इस कमरे के एकांत में
    बिलकुल अकेले
    नि:संग, नि:शब्द, शिथिल
    आँखें मूँदे यहाँ की खामोशी को
    बूँद-बूँद पीना मुझे
    बहुत अच्छा लगता है
    apna ghar phir apna ghar hai... apna sahi swaroop khuli hawa sa lagta hai

    ReplyDelete
  22. मनोभावों को बहुत ही सुन्दरता से संजोया है………हर नारी की मन:स्थिति का जीवन्त चित्रण कर दिया।

    ReplyDelete
  23. आँखें मूँदे यहाँ की खामोशी को
    बूँद-बूँद पीना मुझे
    बहुत अच्छा लगता है !

    बहुत खूब कहा है आपने इन पंक्तियों में ...बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  24. अंतर्मन के कक्ष को बखूबी बखाना है आपने| बधाई साधना जी|
    http://samasyapoorti.blogspot.com

    ReplyDelete
  25. लाजवाब..क्या बात है साधना जी...बेहतरीन लेखनी.....

    ReplyDelete
  26. अपने लिए समय निकालना ही आजकल बड़ी बात हो गयी है.. और उस समय में अपने आपको समझना उससे भी बड़ी..
    विडम्बना है कि जिस ख़ुशी के लिए पैसा कम रहे हैं वही नहीं मिल रही है पर इस बात को दरकिनार कर रहे हैं हम..
    अच्छी रचना हर उस शख्स के लिए जो अपने लिए समय ढूंढ रहा है..

    पढ़े-लिखे अशिक्षित पर आपके विचार का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete