Followers

Tuesday, December 6, 2011

एक सच

जाने क्यों

आज सारे शब्द चुप हैं ,

सपने मूर्छित हैं ,

भावनायें विह्वल हैं ,

कल्पनाएँ आहत हैं ,

गज़लें ग़मगीन हैं ,

इच्छाएं घायल हैं ,

अधर खामोश हैं ,

गीतों के सातों

स्वर सो गये हैं

और छंद बंद

लय ताल सब

टूट कर

बिखर गये हैं !

मेरे अंतर के

चिर परिचित

निजी कक्ष के

नितांत निर्जन,

सूने, नीरव,

एकांत में

आज यह कैसी

बेचैनी घिर आई है

जो हर पल व्याकुल

करती जाती है !

कहीं कुछ तो टूटा है ,

कुछ तो बिखर कर

चूर-चूर हुआ है ,

जिसे समेट कर

एक सूत्र में पिरोना

मुश्किल होता

जा रहा है !

मुझे ज़रूरत है

तुम्हारी मुट्ठी में

बँधी उज्ज्वल धूप की ,

तुम्हारी आँखों में

बसी रेशमी नमी की ,

तुम्हारे अधरों पर

खिली आश्वस्त करती

मुस्कुराहट की ,

और तुम्हारी

उँगलियों के

जादुई स्पर्श की !

क्योंकि मेरे मन पर

छाये हर अवसाद का

घना कोहरा तभी

छँटता है

जब मेरे मन के

आकाश पर

तुम्हारा सूरज

उदित होता है !

साधना वैद

25 comments :

  1. ek k bina sach me dusra adhura mehsoos karta hai...kaise ajeeb bat hai na ki apne hi man ki kaliya khilne k liye dusre ke sparsh aur ujale ki jarurat hoti hai. lekin yahi pyar ka saty hai. koi kitna bhi magroor ban le...lekin pyar sare garoor aur sari magroorta par havi ho jata hai.

    marmsparshi abhivyakti.

    ReplyDelete
  2. "मेरे मन पर छाए अवसाद का कोहरा जभी हटता है
    ------तुम्हारा सूरज उदित होता है "
    बहुत सुन्दर पंक्ति |
    अच्छी रचना |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब.क्या बात है.

    ReplyDelete
  4. जब मेरे मन के

    आकाश पर

    तुम्हारा सूरज

    उदित होता है !

    यादों से घिरी सुंदर प्रस्तुति ...
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. सूर्य निकले तभी तो कोहरा हटेगा और रात में चाँद भी चमकेगा !
    बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण !
    आभार ..!

    ReplyDelete
  6. har ek shabd men jaan daal di hai aapne.....bahot khoobsurat kavita hai......

    ReplyDelete
  7. मन पर सूरज उदित हो और कल्पनाएँ साकार हों ..शब्द गुंजरित हों यही कामना है ..

    ReplyDelete
  8. अवसाद ग्रसित ह्रदय को किसी सूरज के स्नेहिल स्पर्श की जरूरत होती ही है...पर सब इतने भाग्यशाली कहाँ होते हैं.
    बहुत ही सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर ,भाव पूर्ण कविता

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर साधना जी,...
    सुंदर पन्तियों से सजी बेहतरीन रचना,...बधाई
    मेरे नए पोस्ट में आपका स्वागत है,....

    ReplyDelete
  11. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 08 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... अजब पागल सी लडकी है .

    ReplyDelete
  12. क्योंकि मेरे मन पर

    छाये हर अवसाद का

    घना कोहरा तभी

    छँटता है

    जब मेरे मन के

    आकाश पर

    तुम्हारा सूरज

    उदित होता है !



    वाह! अवसाद का सुन्दर हल.
    निश्छल समर्पण.

    आपकी भावपूर्ण प्रस्तुति से मन मग्न हो गया है जी.

    आपकी अनुपम प्रस्तुति संगीता जी की हलचल का
    नायाब नगीना है,साधना जी.

    आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  13. वाह ...बहुत बढि़या ।

    ReplyDelete
  14. अवसाद का कोहरा और तुम्हारा सूरज ..... बहुत खूब !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर जितनी तारीफ की जाय कम ही है

    ReplyDelete
  16. क्योंकि मेरे मन पर

    छाये हर अवसाद का

    घना कोहरा तभी

    छँटता है

    जब मेरे मन के

    आकाश पर

    तुम्हारा सूरज

    उदित होता है ! वाह वाह ……………नारी मन के कोमल भावो का सशक्त चित्रण्।

    ReplyDelete
  17. भावों से नाजुक शब्‍द......बेजोड़ भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
  18. इन पलों में आदमी खुद को जीता है। खुद को पाता है। तभी सब कुछ संवर जाता है।

    ReplyDelete
  19. अपनी तन्हाई में बसे बेकल मन के संबल को तलाशती , प्रतीक्षरत ..................

    ReplyDelete
  20. अपनी तन्हाई में बसे बेकल मन के संबल को तलाशती , प्रतीक्षरत ..................

    ReplyDelete
  21. एक नयी सुबह की शरुआत करती सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  22. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति के साथ उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete