Followers

Wednesday, December 14, 2011

सपने


रफ्ता-रफ्ता सारे सपने पलकों पर ही सो गये ,

कुछ टूटे कुछ आँसू बन कर ग़म का दरिया हो गये !


कुछ शब की चूनर के तारे बन नज़रों से दूर हुए ,

कुछ घुल कर आहों में पुर नम बादल काले हो गये !


कुछ बन कर आँसू कुदरत के शबनम हो कर ढुलक गये ,

कुछ रौंदे जाकर पैरों से रेज़ा रेज़ा हो गये !


कुछ दरिया से मोती लाने की चाहत में डूब गये ,

कुछ लहरों ने लीले, कुछ तूफ़ाँ के हवाले हो गये !


कुछ ने उड़ने की चाहत में अपने पर नुचवा डाले ,

कुछ थक कर अपनी ही चाहत की कब्रों में सो गये !


कुछ गिर कर शीशे की मानिंद चूर-चूर हो बिखर गये ,

कुछ जल कर दुनिया की तपिश से रेत का सहरा हो गये !


अब तक जिन सपनों के किस्से तहरीरों में ज़िंदा थे ,

क़ासिद के हाथों में पड़ कर पुर्ज़ा-पुर्ज़ा हो गये !


अब इन आँखों को सपनों के सपने से डर लगता है ,

जो बायस थे खुशियों के रोने का बहाना हो गये !



साधना वैद


23 comments :

  1. वाह साधना जी आज की आपकी इस गज़ल की जितनी तारीफ़ की जाये कम है………अगर कोई गायक इसे स्वरबद्ध करे तो कमाल ही हो जाये……………शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब लिखा है आपने ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. इतने सरल शब्दों में इतनी गूढ़ बातें .... बेहतरीन !!!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  5. अच्छी गजल|सुन्दर शब्द संयोजन |
    बधाई उर्दू गजल लेखन के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  6. bahut dard bhari gazal....aur dard par to kuchh bhi kahna munasib nahi.

    ReplyDelete
  7. मौसीजी, नमस्ते आज की कविता वैसे तो खूब अच्छी है,पर इतनी उदास ?अरे भई अब तो नया साल आने को है नए-नए ख़्वाब बुनिए मुस्कुराइए ...

    ReplyDelete
  8. अब इन आँखों को सपनों के सपने से डर लगता है ,
    जो बायस थे खुशियों के रोने का बहाना हो गये !

    सच सपने कब रोने का बायस बन जाते हैं...पता भी नहीं चलता....

    सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  9. ओह ... सपनों का ऐसा हश्र ...भले ही आँखों को सपनों के सपने से डर लगता हो पर वो उन्हें देखना नहीं छोड़ सकतीं ... सपनों पर बहुत मार्मिक प्रस्तुति दी है ..

    ReplyDelete
  10. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 15 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... सपनों से है प्यार मुझे . .

    ReplyDelete
  11. कुछ दरिया से मोती लाने की चाहत में डूब गये कुछ लहरों ने लीले, कुछ तूफ़ाँ के हवाले हो गये !
    भावपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति है आपकी.

    संगीता जी की हलचल से यहाँ आकर
    मन प्रसन्न हो गया है साधना जी.

    आप मेरी पोस्ट 'हनुमान लीला'
    पर अभी तक भी नही आ पाई हैं.
    आपका इंतजार है.आपके आने से
    मेरा उत्साह बढ़ता है.महीने में एक
    ही पोस्ट लिखता हूँ.मेरी कोशिश है
    कि आप जैसे प्रेमी भक्त व नियमित
    पाठकों के दर्शन और सुवचनों से मैं
    वंचित न रहूँ.मेरी बात का बुरा न
    मानियेगा,प्लीज.

    ReplyDelete
  12. आप की माताश्री आ. किरण जी के संस्कारों को बहुत आगे ले जाएंगी आप।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर एवं उम्दा गजल !
    आभार !

    ReplyDelete
  14. वाह! खुबसूरत ग़ज़ल....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  15. अब तक जिन सपनों के किस्से तहरीरों में ज़िंदा थे ,

    क़ासिद के हाथों में पड़ कर पुर्ज़ा-पुर्ज़ा हो गये !

    ये पंक्तियाँ विशेष अच्छी लगीं।

    सादर

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्यारी गजल.........बहुत खूब ..

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लू भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूबेगा , नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें है तुमने, जनता सबक सिखायेगी,


    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  17. वाह साधना जी ! कैसे एक एक सपने को बुनाहाई आपने शब्दों में.
    बहुत ही खूबसूरत.

    ReplyDelete
  18. अब इन आँखों को सपनों के सपने से डर लगता है
    जो बायस थे खुशियों के रोने का बहाना हो गये !
    ..dari huyee ankhen sapno ko dekhne se darti hai...bahut achhi rachna...

    ReplyDelete
  19. अब इन आँखों को सपनों के सपने से डर लगता है ,
    जो बायस थे खुशियों के रोने का बहाना हो गये !

    कमाल की प्रस्तुति. गहरी बात भी.

    ReplyDelete
  20. bahut sunder bhavmai shandar rachanaa .bahut badhai aapko.

    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२२) में शामिल की गई है /कृपया आप वहां आइये .और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इसी तरह हमको मिलता रहे यही कामना है /लिंक है

    http://hbfint.blogspot.com/2011/12/22-ramayana.html

    ReplyDelete