Followers

Wednesday, April 17, 2013

मन की बातें – कुछ और हाईकू




दिया औ' बाती
अँधियारा मिटाती
आस्था जगाती ! 


मानिनी हूँ मैं
हक से ही पाऊँगी
भिक्षा न देना ! 

मत कुरेदो
आग है अंतर में
जल जाओगे ! 

अस्त्र उठाओ
शत्रु को पहचानो
संधान करो ! 

मैं नहीं देवी
ना दिखा छद्म भक्ति
मानवी ही हूँ !

सपने देखो
तो साकार भी करो
टूटने ना दो ! 

साहस धारो
मन को हौसला दो
दुनिया जीतो ! 

हाँ जिद्दी हूँ मैं
यूँ चुप ना रहूँगी
लड़ मरूँगी ! 

देखना मुझे
जीत कैसी होती है
सीख भी लेना ! 

१०
चाँदनी हूँ मैं 
तो सूर्य भी मैं ही हूँ
अपनी जानो ! 

११
मत पुकारो 
दूर तक है जाना 
आ न पाऊँगी !



साधना वैद


 

24 comments :

  1. मानिनी हूँ मैं
    हक से ही पाऊँगी
    भिक्षा न देना ! .... कम लफ़्ज़ों में खुद्दारी

    ReplyDelete
  2. साहस धारो
    मन को हौसला दो
    दुनिया जीतो !

    जिद्दी हूँ मैं
    यूँ चुप ना रहूँगी
    लड़ मरूँगी !
    सभी हाइकु एक से बढ़कर एक ........

    ReplyDelete
  3. आज के आपके ये सारे हाइकु नारी के मन के भावों को कहने में सक्षम है .... जागरूक करती हुई रचनाएँ

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. जिद्दी हूँ मैं
    यूँ चुप ना रहूँगी
    लड़ मरूँगी !
    .एक से बढ़कर एक सभी हाइकु ....

    RECENT POST : क्यूँ चुप हो कुछ बोलो श्वेता.

    ReplyDelete
  5. देखना मुझे
    जीत कैसी होती है
    सीख भी लेना !
    सशक्त भाव से भरे सभी हाइकू ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर हाइकू | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया हाइकू
    आशा

    ReplyDelete
  8. आज की ब्लॉग बुलेटिन गूगल पर बनाइये अपनी डिजिटल वसीयत - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  9. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  10. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  11. साधना जी बहुत सुंदर हाइकू ......
    स्वाभिमान की सहस्त्र धारा सी बहती लगी....

    ReplyDelete
  12. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 20/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. जिद्दी हूँ मैं
    यूँ चुप ना रहूँगी
    लड़ मरूँगी !
    एक से बढ़कर एक ...सभी हाइकु

    ReplyDelete
  14. मानिनी हूँ मैं
    हक से ही पाऊँगी
    भिक्षा न देना !

    बेहतरीन प्रस्तुति!!
    पधारें बेटियाँ ...

    ReplyDelete
  15. सभी हाइकु बहुत सुंदर !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  16. वाह! सभी हाइकु एक से बढ़ कर एक...लाज़वाब

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर हैकु

    ReplyDelete
  18. हायकू के माध्यम से नारी मन के भावों की सशक्त प्रस्तुति..बहुत सुन्दर सार्थक हाइकु प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर हाइकु

    ReplyDelete
  20. नारी के भावनाओं को बहुत सशक्त रूप में पेश किया इन रचनाओं में. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete