Followers

Monday, April 15, 2013

चंद हाईकू










सुमन खिले
शब्दों के रत्न जड़े
हृदय जुड़े !

बावरा मन
छूने चला गगन
पंछियों संग !

सजन मिले
मन के तार बजे
बंधन खुले !

बिटिया आई
खुशियाँ घर लाई
रौनक छाई !

जीवन धारा
सब कुछ सहती
बहती जाती !

बादल छाये
गोरिया मुस्कुराये  
जिया हर्षाये !

बरसा पानी
धरती हुलसानी
चूनर धानी !

सुबह हुई
पंछी चहचहाये
मनवा गाये !

प्रभु जो मिले  
भावों के दीप जले  
हृदय खिले !

१०
हूँ निडर मैं  
होगी भी ना हताशा  
प्रबल आशा !

११
राह निर्जन   
है सफर दुर्गम 
साहसी मन ! 



साधना वैद



22 comments :

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 17/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    नवरात्रों की बधाई स्वीकार कीजिए।

    ReplyDelete
  3. हूँ निडर मैं
    होगी भी ना हताशा
    प्रबल आशा !.....

    मैं गीत हूँ
    आवाज़ हूँ मन का
    रहूंगी हमेशा .... :)

    ReplyDelete
  4. अलग अलग रंग लिए भावों से परिपूर्ण सुंदर हाइकु ....

    ReplyDelete
  5. सुबह की धूप से गुनगुने ...
    सुन्दर चित्र भी !

    ReplyDelete
  6. राह निर्जन
    है सफर दुर्गम
    साहसी मन !

    एक से बढ़कर एक सभी हाइकु .... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर, भावपूर्ण हाईकु !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बेहतरीन हाइकू.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही शानदार हाइकू |
    आशा

    ReplyDelete
  10. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १६ /४/ १३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

    ReplyDelete
  11. राह निर्जन
    है सफर दुर्गम
    साहसी मन !

    प्रबल भाव ....बहुत सुन्दर हाइकु ....साधना जी ....

    ReplyDelete
  12. प्रभु जो मिले
    भावों के दीप जले
    हृदय खिले ! बहुत उम्दा हाइकू ,आभार

    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  13. बावरा मन छूने चला गगन पंछियों संग !
    एक से बढ़कर एक सभी हाइकु ...!!!

    ReplyDelete

  14. जाग उठे गीत,
    मंदिरों में गूँज रहे राग
    भक्ति की प्रतीति!

    ReplyDelete
  15. भावपूर्ण हाइकू

    ReplyDelete
  16. बावरा मन
    छूने चला गगन
    पंछियों संग ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  17. प्रभु जो मिले
    भावों के दीप जले
    हृदय खिले !
    बहुत सुन्दर...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  18. अप्रतिम हाइकू गढे है।
    सादर

    ReplyDelete
  19. बहुत ही गहरे भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  20. आपकी यह कला पूर्ण रचना 'निर्झर टाइम्स' पर लिंक की गई है।कृपया http://nirjhar-times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर प्रस्तुति ..

    ReplyDelete