Followers

Friday, June 24, 2016

परछाईं




जहाँ तुम कहोगे वहीं मैं चलूँगी
जिधर पग धरोगे उधर पग धरूँगी !

जो चाहोगे मैं खुद को छोटा करूँगी
मैं पैरों के नीचे समा के रहूँगी !

जो चाहोगे दीवार पर जा चढूँगी
मैं तुमसे भी बढ़ कर ज़मीं नाप लूँगी !

मैं पानी की लहरों पे चलती रहूँगी
मैं दुर्गम पहाड़ों पे चढ़ती रहूँगी ! 

जिधर तुम मुड़ोगे मैं संग में मुड़ूँगी
मैं हर एक कदम संग तुम्हारे बढूँगी !

अंधेरों में तुमको मैं घिरने न दूँगी
अकेला कभी तुमको रहने न दूँगी !

रहूँगी सदा साथ परछाईं बन कर
मगर शर्त है दीप बुझने न दूँगी !

मगर शर्त है दीप बुझने न दूँगी ! 


साधना वैद

10 comments :

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार मई 20, 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  3. वाह !बहुत ख़ूब दी जी
    सादर

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. रहूँगी सदा साथ परछाईं बन कर
    मगर शर्त है दीप बुझने न दूँगी
    बहुत ही सुंदर रचना ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
  6. बहुत ही उत्कृष्ट सृजन...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  7. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. हार्दिक धन्यवाद अनुराधा जी! आभार आपका !

    ReplyDelete
  9. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद कामिनी जी ! आभार आपका!

    ReplyDelete
  10. आपका तहे दिल से बहुत बहुत शुक्रिया सुधा जी! आभार आपका!

    ReplyDelete