Followers

Thursday, April 27, 2017

मैं नदी हूँ


बहती रही 
अथक निरंतर 
मैं सदियों से 

करती रही 
धरा अभिसिन्चित
मैं सदियों से 


साधना वैद