Followers

Friday, May 31, 2019

परास्त रवि



Image result for Sunset pictures

(१)
आततायी सूर्य का, यह अनचीन्हा रूप
लज्जित भिक्षुक सा खड़ा, क्षितिज किनारे भूप !
(२)
बाँध धूप की पोटली, काँधे पर धर मौन 
क्षुब्ध मना रक्ताभ मुख, चला जा रहा कौन !
(३)
बुन कर दिनकर थक गया, धूप छाँह का जाल
साँझ हुई करघा उठा, घर को चला निढाल !
(४)
करना पड़ता सूर्य को, सदा अहर्निश काम 
देश-देश जलता फिरे, बिना किये विश्राम !
(५)
ढूँढ रहा रवि प्रियतमा, गाँव, शहर, वन प्रांत
लौट चला थक हार कर, श्रांत, क्लांत, विभ्रांत !  
(६)
आँखमिचौली खेलता, दिनकर दिन भर साथ
परछाईं भी शाम को, चली छुड़ा कर हाथ !



साधना वैद 



17 comments :

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी !

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (02 -06-2019) को "वाकयात कुछ ऐसे " (चर्चा अंक- 3354) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ....
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  4. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  5. सूरज, धूप और रौशनी से बुने सुंदर दोहे

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार जून 01, 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरत दोहे..वाह 👌
    बिंब तो अति मोहक बन पड़े है..अति उत्तम।

    ReplyDelete
  10. हार्दिक धन्यवाद श्वेता जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना साधना जी...बधाई आपको 🌹

    ReplyDelete
  12. हार्दिक धन्यवाद उषा जी ! मेरी पोस्ट आपको मेरे ब्लॉग तक खींच लाई मन मुदित हुआ ! स्वागत है ! बहुत-बहुत आभार आपका !

    ReplyDelete
  13. ढूँढ रहा रवि प्रियतमा, गाँव, शहर, वन प्रांत
    लौट चला थक हार कर, श्रांत, क्लांत, विभ्रांत
    बहुत सुंदर रचना ,सादर नमस्कार दी

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर दोहें..

    ReplyDelete
  15. हार्दिक धन्यवाद कामिनी जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  16. हार्दिक धन्यवाद पम्मी जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  17. Thanks for sharing this valuable information with us. I will come back to your site and keep sharing this information with us
    See More .....

    ReplyDelete