Followers

Wednesday, June 10, 2020

मत करना आह्वान कृष्ण का



माना कि रण भूमि में उतरने के बाद
युद्ध करने के अलावा
कोई भी विकल्प शेष नहीं रहता !
किन्तु जीवन संग्राम में
किसी भी महासमर के लिये
अब किसी भी कृष्ण का
आह्वान मत करना तुम सखी !
किसी भी कृष्ण की प्रतीक्षा
मत करना !
इस युग में उनका आना
अब संभव भी तो नहीं !
और उस युग में भी
विध्वंससंहार और विनाश की
वीभत्स विभीषिका के अलावा
कौन सा कुछ विराट,
कौन सा कुछ दिव्य,
और कौन सा कुछ
गर्व करने योग्य
दे पाये थे वो ?
जीत कर भी तो
सर्वहारा ही रहे पांडव !
अपनी विजय का कौन सा
जश्न मना पाये थे वो ?
पांडवों जैसी विजय तो
अभीष्ट नहीं है न तुम्हारा !
इसीलिये किसी भी युग में
ऐसी विजय के लिये
तुम कृष्ण का आह्वान
मत करना सखी !
रण भूमि में विजय पताका
भले ही तुम्हारी फहर जाए
किन्तु विध्वंस की ऐसी विनाश लीला
अब देख नहीं सकोगी तुम,
संसार के किसी भी कोने में
अपना क्षोभ एवं ग्लानि विदीर्ण मुख
छिपा भी नहीं पाओगी तुम
और ना ही अब
हिमालय की गोद में
शरण लेने के लिये
तुममें शक्ति शेष बची है !



साधना वैद

14 comments :

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11.6.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3729 में दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज गुरुवार (11-06-2020) को     "बाँटो कुछ उपहार"      पर भी है।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  3. सच जीवन का महासमर खुद ही लड़ना होता है उसके लिए किसी से किसी से भी सहायता की उम्मीद बेमानी है
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद कविता जी ! आभार आपका !

      Delete
  4. "इसीलिये किसी भी युग में
    ऐसी विजय के लिये
    तुम कृष्ण का आह्वान
    मत करना सखी !
    रण भूमि में विजय पताका
    भले ही तुम्हारी फहर जाए
    किन्तु विध्वंस की ऐसी विनाश लीला
    अब देख नहीं सकोगी तुम," ...
    मिथक के प्रसंग के साथ भी मिथक से परे व्यवहारिकता से रूबरू कराती रचना/विचारधारा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका सुबोध जी ! बहुत बहुत धन्यवाद !

      Delete
  5. इसीलिये किसी भी युग में
    ऐसी विजय के लिये
    तुम कृष्ण का आह्वान
    मत करना सखी !
    रण भूमि में विजय पताका
    भले ही तुम्हारी फहर जाए
    किन्तु विध्वंस की ऐसी विनाश लीला
    अब देख नहीं सकोगी तुम," ...
    उत्कृष्ट रचना ,लाजवाब, बधाई हो आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद ज्योति जी ! आभार आपका !

      Delete
  6. युद्ध हमेशा ही अपने पीछे विनाश छोड़ जाता है
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल सत्य कहा आपने मान्यवर ! हार्दिक धन्यवाद एवं आभार आपका !

      Delete
  7. कटु सत्य बयान करती रचना |

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से बहुत बहुत धन्यवाद जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete