Followers

Friday, June 12, 2020

अब तो जागो



कब तक तुम
अपने अस्तित्व को
पिता या भाई
पति या पुत्र
के साँचे में ढालने के लिये
काटती छाँटती
और तराशती रहोगी ?
तुम मोम की गुड़िया तो नहीं !

कब तक तुम
तुम्हारे अपने लिये
औरों के द्वारा लिये गए
फैसलों में
अपने मन की अनुगूँज को
सुनने की नाकाम कोशिश
करती रहोगी ?
तुम गूंगी तो नहीं !

कब तक तुम
औरों की आँखों में
अपने अधूरे सपनों की
परछाइयों को
साकार होता देखने की
असफल और व्यर्थ सी
कोशिश करती रहोगी ?
नींदों पर तुम्हारा भी हक है !

कब तक तुम
औरों के जीवन की
कड़वाहट को कम
करने के लिये
स्वयम् को पानी में घोल
शरबत की तरह
प्रस्तुत करती रहोगी ?
क्या तुम्हारे मन की
सारी कड़वाहट धुल चुकी है ?
तुम कोई शिव तो नहीं !

कब तक तुम
औरों के लिये
अपना खुद का वजूद मिटा
स्वयं को उत्सर्जित करती रहोगी ?

तुम बेड़ियों में जकड़ी 
कोई परतंत्र बंदिनी तो नहीं !

क्यों ऐसा है कि
तुम्हारी कोई आवाज़ नहीं?
तुम्हारी कोई राय नहीं ?
तुम्हारा कोई निर्णय नहीं ?
तुम्हारा कोई सम्मान नहीं ?
तुम्हारा कोई अधिकार नहीं ?
तुम्हारा कोई हमदर्द नहीं ?
तुम्हारा कोई अस्तित्व नहीं ?

अब तो जागो
तुम कोई बेजान गुडिया नहीं
जीती जागती हाड़ माँस की
ईश्वर की बनायी हुई
तुम भी एक रचना हो
इस जीवन को जीने का
तुम्हें भी पूरा हक है !
उसे ढोने की जगह
सच्चे अर्थों में जियो !

अब तो जागो 
तुम भी स्वतंत्र हो 
औरों की ही तरह खुद को 
तलाशने के लिये 
 सँवारने के लिये 
निखारने के लिये
स्थापित करने के लिये !

अब तो जागो
नयी सुबह तुम्हें अपने
आगोश में समेटने के लिये
बाँहे फैलाए खड़ी है !
दैहिक आँखों के साथ-साथ
अपने मन की आँखें भी खोलो !
तुम्हें दिखाई देगा कि
जीवन कितना सुन्दर है !


साधना वैद

14 comments :

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१३-0६-२०२०) को 'पत्थरों का स्रोत'(चर्चा अंक-३७३१) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  2. जो जागना चाहे उसे जगाया जा सकता है न दीदी जिसने जो मिला वही नियति का प्रसाद मान लिया हो उसे जगाना तो नामुमकिन है शायद।
    ओजपूर्ण सराहनीय सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही तो विडम्बना है श्वेता जी ! फिर भी जगाने की अलख तो हमें जलाये रखनी ही होगी ! हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार आपका !

      Delete
  3. बहुत शानदार रचना |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  4. Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी !

      Delete
  5. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  6. बहुत ही सुंदर रचना साधना जी ,ऐसा सोचते सभी है परंतु करना आसान नहीं ,अपने को बनाने में बहुत कुछ बिगड़ जाता है ,जिस पर गुजरती है वही जानता है ,
    जलते हैं अरमान मेरा दिल रोता है
    किस्मत का दस्तूर निराला होता है ,
    आई ऐसी मौज की साहिल डूब गया
    वरना अपनी कश्ती कौन डुबोता है ।

    ।कहने -करने में बहुत फर्क होता है ,नमन आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक कह रही हैं ज्योति जी ! मशाल हाथ में लेकर रास्ते रोशन करना हमारा काम है ! अगर दो चार को भी राह मिल जाए तो समझ लेंगे कि लक्ष्य मिल गया ! बाकी लोगों की राह वो रोशन करेंगे ! इस मशाल को जलाने में अक्सर अपनी उंगलियाँ भी कई बार झुलस जाती हैं ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  7. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 15 जून 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete