Followers

Wednesday, June 24, 2020

संध्या और चाँद




संध्या के चेहरे पर पड़ा
खूबसूरत सिंदूरी चूनर का
यह झीना सा अवगुंठन
आमंत्रित कर रहा है
प्रियतम चन्द्रमा को कि
वह अपनी स्निग्ध किरणों की
सुकोमल उँगलियों से 
सांध्य सुन्दरी के मुख पर पड़े
घूँघट के इस अवरोध को
हटा दे ,
और अपनी सम्पूर्ण ज्योत्सना
भव्यता और दिव्यता के साथ
विशाल गगन महल के
सुन्दर झरोखे पर आकर
अपनी प्रियतमा को दर्शन दे
प्रतीक्षा के इन विकल पलों की
अवधि को घटा दे ! 

संध्या की सतरंगी चूनर में
टाँकने के लिये लाखों सितारे
चन्द्रमा ने अपने हाथों से
गगन में बिखेर दिये हैं ,
और अनुरक्त प्रियतमा ने
वो सारे सितारे पुलक-पुलक कर
अपनी पलकों से दामन में
समेट लिये हैं ! 

चन्द्रमा की प्रतिदिन घटती बढ़ती
कलाओं के अनुरूप  
संध्या के हृदय में भी
हर्ष और विषाद की मात्रा
नित्य घटती बढ़ती है ,
पूर्णिमा के दिन सर से पाँव तक
सोलह श्रृंगार कर दुल्हन सी
सजी अति उल्लसित संध्या
अमावस्या की रात में
विरहाकुल हो अपने
प्रियतम की प्रतीक्षा में
व्याकुल मलिन मुख  
सारी रात रोती है ! 

संध्या और चन्द्रमा का
आकर्षण और विकर्षण 
अनुराग और वीतराग का 
यह खेल सदियों से 
इसी तरह
चल रहा है ,
सुख के समय में
संयत रहने का और
दुःख के समय में धैर्य
धारण करने का सन्देश
हमें दे रहा है !


चित्र - गूगल से साभार 
साधना वैद  

20 comments :

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार
    (26-06-2020) को
    "सागर में से भर कर निर्मल जल को लाये हैं।" (चर्चा अंक-3744)
    पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद मीना जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  2. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी ! दिल से आभार आपका ! सादर वन्दे !

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 25 जून 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  4. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनिल जी ! बहुत बहुत आभार !

      Delete
  5. इस कविता के माध्यम से आपने सांध्य का सुंदर वर्णन किया है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना आपको अच्छी लगी मेरी श्रम सार्थक हुआ ! हार्दिक धन्यवाद एवं आभार आपका नीतीश कुमार जी !

      Delete
  6. Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार गगन जी ! उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया !

      Delete
  7. बहुत सुंदर काव्य प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद राकेश जी ! उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  8. सुंदर काव्य प्रवाह 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रोली जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  9. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे
    Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक स्वागत है इस ब्लॉग पर नवीन जी ! हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार !

      Delete
  10. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद एवं हृदय से बहुत बहुत आभार आपका अभिलाषा जी ! उत्साहवर्धन हेतु आपका तहे दिल से शक्रिया !

      Delete