Followers

Friday, June 5, 2020

महासंग्राम




भारत भूमि के विशाल समर क्षेत्र में
छिड़ गया है महासंग्राम
आमने सामने हैं दोनों सेनाएं
एक तरफ हैं सर्वशक्तिमान प्रभु
अपने सारे दिव्यास्त्र और ब्रह्मास्त्रों के साथ
कहीं कोरोना वायरस से तबाही मचाते
तो कहीं हाहाकारी अम्फान में सबको डुबाते
कभी टिड्डी दलों के माध्यम से
सारी फसलों का सर्वनाश करते
तो कभी निसर्ग तूफ़ान के सहारे
समस्त निरीह प्राणियों के जीवन में  
विप्लवकारी उथल पुथल मचाते !
ऐसा लगता है संहारकर्ता शिवजी ने
अपना तीसरा नेत्र खोल लिया है !
समर भूमि में ईश्वर की इस परम प्रबल
चतुरंगिनी सेना के सामने है
अत्यंत दीन हीन इंसानों की निहत्थी सेना
अत्यंत आतंकित और भयभीत
जिनके पास अस्त्र शस्त्र के नाम पर हैं
चंद मास्क, कुछ सेनीटाइज़र्स,
कुछ साबुन की बट्टियाँ,
कुछ खाँसी ज़ुकाम की गोलियाँ
और कूटनीतिक रणनीति के तहत
ढेर सारी नसीहतें, पाबंदियाँ और सख्तियाँ
इस महासमर में प्रभु की इतनी
प्रबल और शक्तिशाली सेना के सामने
आम इंसान की यह निर्बल असहाय सेना
कहीं नहीं ठहर सकती लेकिन इस
आम इंसान में हिम्मत और हौसला बहुत है,
इसकी जिजीविषा ज़बरदस्त है !
जो ये एक बार ठान ले तो 
हर आपदा को परे ढकेल
माउंट एवरेस्ट तक को लाँघ जाने की और
अतल अथाह सागरों को पार कर लेने की
अद्भुत क्षमता है इस आम इंसान में !
तभी ना भारत की सारी सड़कों पर
हर विपदा को चुनौती देने के लिए
यह सर्व साधारण सेनानी सीना ताने
चला जा रहा है अपने गंतव्य की ओर !
देखना है महासंग्राम के अंत में
इस समरभूमि में विजय पताका
किसकी लहरायेगी
सर्वशक्तिमान प्रभु की या
सर्वहारा इस आम इंसान की !  

साधना वैद

10 comments :

  1. विचारणीय पोस्ट।
    पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से धन्यवाद शास्त्री जी ! पर्यावरण दिवस की आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं !

      Delete
  2. महासंग्राम एक पूर्ण रचना |पर्यावरण दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! बहुत बहुत आभार !

      Delete
  3. सुन्दर सार्थक रचना साधनावैद जी 👌👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद उर्मिला जी ! आभार आपका !

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 08 जून 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete