Followers

Saturday, November 19, 2011

एक पन्ना --- डायरी का

दूर क्षितिज पर भुवन भास्कर सागर की लोल लहरियों में जलसमाधि लेने के लिये अपना स्थान सुनिश्चित कर संसार को अंतिम अभिवादन करते विदा होने को तत्पर हैं ! सूर्यास्त के साथ ही अन्धकार त्वरित गति से अपना साम्राज्य विस्तृत करता जाता है ! जलनिधि की चंचल तरंगों के साथ अठखेलियाँ करती अवसान को उन्मुख रवि रश्मियों का सुनहरा, रुपहला, रक्तिम आवर्तन-प्रत्यावर्तन हृदय को स्पंदित कर गया है ! संध्या के आगमन के साथ ही पक्षी वृन्दों को चहचहाते हुए अपने बसेरों की तरफ लौटते देख मन अवसाद से भर उठा है ! क्यों मेरा मन इतना निसंग, एकाकी और उद्भ्रांत है ! अंधकार की गहनता के साथ ही नीरवता भी पल-पल बढ़ती जाती है ! दूर-दूर तक अब कहीं प्रकाश की कोई रेखा दिखाई नहीं देती ! बच्चों का कलरव भी मंद हो चला है ! कदाचित सभी अपने-अपने घरों को लौट गये हैं ! मैं भी अनमनी सी शिथिल कदमों से लौट आई हूँ अपने अंतर के निर्जन सूने एकांतवास में जहाँ रात के इस गहन सन्नाटे में कहीं से भी कोई आहट, कोई आवाज़ सुनाई नहीं देती कि मैं खुद के ज़िंदा होने का अहसास महसूस कर सकूँ ! पंछी भी मौन हो गये हैं ! इसी तरह निर्निमेष अन्धकार में छत की कड़ियों को घूरते कितने घण्टे बीत गये पता ही नहीं चला ! अब कुछ धुँधला सा भी दिखाई नहीं देता ! जैसे मैं किसी अंधकूप में गहरे और गहरे उतरती चली जा रही हूँ ! मेरी सभी इंद्रियाँ घनीभूत होकर सिर्फ कानों में केंद्रित हो गयी हैं ! हल्की सी सरसराहट को भी मैं अनुभव करना चाहती हूँ शायद कहीं कोई सूखा पीला पत्ता डाल से टूट कर भूमि पर गिरा हो, शायद किसी फूल से ओस की कोई बूँद ढुलक कर नीचे दूब पर गिरी हो, शायद किसी शाख पर किसी घोंसले में किसी गौरैया ने पंख फैला कर अपने नन्हे से चूजे को अपने अंक में समेटा हो, शायद किसी दीपक की लौ बुझने से पूर्व भरभरा कर प्रज्वलित हुई हो ! इस घनघोर अन्धकार और भयावह सन्नाटे में वह कौनसी आवाज़ है जिसे मैं सुनना चाहती हूँ मैं नहीं जानती लेकिन इतना ज़रूर जानती हूँ कि साँसों की धीमी होती रफ़्तार को गति तभी मिल सकेगी जब मुझे वह आवाज़ सुनाई दे जायेगी !

साधना वैद



23 comments :

  1. सोच की गहनता कहूँ या उस अदृश्य खोज की गहनता ....जो एक आवाज़ की प्रतीक्षा में है

    ReplyDelete
  2. घने अन्धकार में ढूंढती धडकनों का स्पंदन ... इस डायरी का ये पन्ना स्तब्ध कर गया ...

    ReplyDelete
  3. ये बिखरे से ख्‍याल ..घने अंधकार में खोज रहे हैं प्रकाश की कोई किरण ...मन को छूते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही मार्मिक शब्दों का चयन बिलकुल दिल को छू गया !
    मेरी नई पोस्ट के लिए पधारे आपका हार्दिक स्वागत है !

    ReplyDelete
  5. aek pnna aesaa he to fir saari daayri kesi hogi .akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  6. डायरी के इस पन्ने के साथ बहुत अच्छा लगा।

    सादर

    ReplyDelete
  7. इस घनघोर अन्धकार और भयावह सन्नाटे में वह कौनसी आवाज़ है जिसे मैं सुनना चाहती हूँ मैं नहीं जानती लेकिन इतना ज़रूर जानती हूँ कि साँसों की धीमी होती रफ़्तार को गति तभी मिल सकेगी जब मुझे वह आवाज़ सुनाई दे जायेगी !

    मन के अद्भुत भाव है इस पन्ने में ...

    ReplyDelete
  8. कोमल भावो की बेहद खुबसूरत पोस्ट......

    ReplyDelete
  9. इतना अकेलापन जिसमें धड्र्कानें भी सुनाई दे जाएँ....मन विचलित हो गया.हर डूबता सूरज नई सुबह लेकर आता है......मैं आप के लिए खोज laungi ये मेरा विश्वास है......................

    ReplyDelete
  10. हम खुद नहीं जानते...
    क्या-क्या छुपा के रखा है हमने इन पन्नों में...!!
    khoobsoorat...!

    ReplyDelete
  11. घनघोर अँधेरे में सन्नाटे को चीरती हुई वह चिरप्रतीक्षित आवाज़ सुनाई दे..!

    ReplyDelete
  12. डायरी में सजाए हर पन्ने की अनोखी दास्ताँ होती है |यह एक ऐसी धरोहर है जिसे जितनी बार पढ़ा जाए कम ही लगता है |बहुत सुन्दर लिखा है |
    बहुत बहुत बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  13. एक पन्ना डायरी का ...ज़िन्दगी फिर से पढ़ने को मिल जाती है, कितना कुछ भुला याद आ जाता है

    ReplyDelete
  14. डायरी का यह पन्ना पहले भी पढ़ा ..टिप्पणी भी दी थी ..पर आज कल मेरी टिप्पणियाँ कई जगह से गायब हो रही हैं या पोस्ट ही नहीं हो पातीं ...


    इतना ज़रूर जानती हूँ कि साँसों की धीमी होती रफ़्तार को गति तभी मिल सकेगी जब मुझे वह आवाज़ सुनाई दे जायेगी !

    आपको यह आवाज़ ज़रूर सुनाई दी होगी ..तभी न गतिमान हैं ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. इतना ज़रूर जानती हूँ कि साँसों की धीमी होती रफ़्तार को गति तभी मिल सकेगी जब मुझे वह आवाज़ सुनाई दे जायेगी !

    -और पढ़वाईये डायरी के इतने गहरे पन्ने..जबरदस्त असर!!

    ReplyDelete
  16. Nice post .

    Please come to Blogger's meet weekly 18 .

    ReplyDelete
  17. ओह!! स्तब्ध कर गया यह डायरी का यह पन्ना ..इतनी गहनता से भावों को समेटा है....अद्भुत

    ReplyDelete
  18. खुद से सवाल और ज़वाब ढूँढने के क्रम से उत्पन्न सुंदर आलेख। डायरी के पन्ने ऐसे भी होते हैं।

    ReplyDelete
  19. shabd bhi.....bhaw bhi.....donon lazabab.

    ReplyDelete
  20. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१८) के मंच पर शामिल की गई है/.आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर स्वागत है /आइये /आभार /
    '

    ReplyDelete
  21. साहित्यिक भाषा से सजा डायरी का एक सुन्दर पन्ना

    ReplyDelete
  22. apki dayri ke panno me chhupi gahnta ko poorn roop se jaanNe samajhne ke liye mujhe shabd-kosh jarur paas rakhna padega...mujhe lekin dar hai ki mere shabd kosh k panno k palatne ki awaaz se apki dheemi sanso me badh rahi gati me kahin koi avrodh n ho jaye.

    :)

    aapke sath sath me bhi is ghup andhere me aati awazo me kahin doob hi gayi hun...aur nikalne ka bhi man nahi kar raha. chaah rahi hun....ye panne nirantar padhti jaaun aur khatam hone par hi baahar aaun.

    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  23. .....लाज़वाब....उत्कृष्ट भावाभिव्यक्ति..

    ReplyDelete