Followers

Friday, January 20, 2012

ओपरा विनफ्रे और हमारा आगरा

कल अमेरिका की मशहूर टी वी होस्ट ओपरा विनफ्रे आगरा आईं ! उन्होंने ताजमहल देखा और उस पर अपने शो के लिये डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनाई ! इससे पूर्व वे वृंदावन भी गयी थीं और जहाँ पर उन्होंने विधवा आश्रमों में संत्रास का जीवन बिताने वाली विधवाओं की दुर्दशा का भी जायज़ा लिया ! उनसे बातचीत कर उनके दुखड़ों को सुना, उनकी जीवनचर्या की जाँच पड़ताल की और उन्हें क्या सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं इस पर भी अपनी पैनी नज़र डाली ! हमें पूरा विश्वास है ओपरा के आगमन का समाचार सुन कर इन आश्रमों के व्यवस्थापकों एवं संचालकों ने आश्रम के परिसरों और उनमें रहने वाले बाशिंदों के निस्तेज चेहरों को चमकाने की भरपूर कोशिश की होगी लेकिन कोई कितना भी छिपाने की चेष्टा कर ले चेहरों की झुर्रियाँ और शरीर के हर अंग से उभरी हड्डियाँ अपनी दुर्दशा की दास्तान खुद कह देती हैं ! ओपरा संचालकों की इस मशक्कत से कितनी भ्रमित हुईं, उन्होंने क्या देखा, क्या समझा और क्या फिल्माया यह तो उनका शो देख कर ही पता लगेगा लेकिन वे जो कुछ यहाँ कह गयीं वह हमारा सिर शर्मिंदगी से झुकाने के लिये पर्याप्त है !

वृन्दावन के अपने इस अभियान के बाद वे सड़क मार्ग से आगरा पहुँचीं ! इस क्षेत्र में रहने वाले निवासी उस मार्ग की दुर्दशा से भलीभाँति परिचित होंगे ! सारे मार्ग में जगह-जगह गन्दगी और कूड़े के अम्बार लगे हैं ! रास्ते पर मवेशी बेलगाम घूमते रहते हैं जो निश्चित रूप से उनके लिये बड़ा शॉकिंग अनुभव रहा होगा ! सड़कों पर बेतरतीब ट्रैफिकिंग की वजह से बार-बार जाम लग जाना तो साधारण सी बात है जिसे हमारे यहाँ बड़े धैर्य के साथ बर्दाश्त करने की आदत सबने डाल ली है ! ओपरा को ताजमहल बहुत सुन्दर लगा लेकिन आगरा शहर की गन्दगी उन्हें चौंका गयी ! आज के दैनिक जागरण की हेडलाइन उन्हीं के इस उद्गार को प्रतिध्वनित कर रही है, ‘काश ! गंदा न होता आगरा !’ उन्होंने कहा कि यदि यह शहर भी ताजमहल की तरह सुन्दर होता तो पूरा विश्व यहीं रह रहा होता ! समाचार पत्र का कहना है कि नेताओं के गाल पर तमाचे की तरह हैं अमेरिकी अदाकारा की बातें ! ओपरा ने अपने एक साक्षात्कार में रास्ते में कई जगह मिले जाम, गन्दगी और सड़कों पर लावारिस घूमते गधों और भैंसों का भी ज़िक्र किया ! उनका यह मानना है कि यह शहर गन्दगी और समस्याओं से घिरा हुआ है !

आगरा शहर पर्यटन की दृष्टि से विश्व का एक महत्वपूर्ण शहर है ! यहाँ आने वाले पर्यटकों को किन मुश्किलों का सामना करना पड़ता है इसके बारे में मैंने एक बार पहले भी अपने एक आलेख, ‘अतिथी देवो भव’, में लिखा था ! पाठकों की सुविधा के लिये उसका लिंक यहाँ दे रही हूँ !

http://sudhinama.blogspot.com/2009/08/blog-post.html

विश्व के सबसे बड़े शो की सबसे नामचीन हस्ती के मुख से अपने शहर के बारे में इतने स्पष्ट उद्गार सुन कर क्या हमारे नगरवासियों की आँखें खुलेंगी ? क्या यहाँ का नगरनिगम, पर्यटन गिल्ड और विकास प्राधिकरण कुछ हरकत में आयेगा या सिर्फ अपना गाल सहला कर इस चोट को भुला देगा ?

साधना वैद