Followers

Thursday, July 26, 2012

ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा आँख में भर लो पानी !

 

ऐ मेरे वतन् के लोगो! तुम खूब लगा लो नारा !
ये शुभदिन है हम सबका! लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर! वीरों ने है प्राण गँवाए!
कुछ याद उन्हें भी कर लो -२! जो लौट के घर न आए -२
ऐ मेरे वतन के लोगो! ज़रा आँख में भरलो पानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |प|
जब घायल हुआ हिमालय! खतरे में पड़ी आज़ादी!
जब तक थी साँस लड़े वो! फिर अपनी लाश बिछादी
संगीन पे धर कर माथा! सो गये अमर बलिदानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |१|
जब देश में थी दीवाली! वो खेल रहे थे होली!
जब हम बैठे थे घरों में! वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने! थी धन्य वो उनकी जवानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |२|
कोई सिख कोई जाट मराठा -२! कोई गुरखा कोई मदरासी -२!
सरहद पे मरनेवाला! हर वीर था भारतवासी
जो ख़ून गिरा पर्वत पर! वो ख़ून था हिंदुस्तानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |३|
थी खून से लथपथ काया! फिर भी बन्दूक उठाके!
दस-दस को एक ने मारा! फिर गिर गये होश गँवा के
जब अन्त समय आया तो! कह गये के अब मरते हैं!
ख़ुश रहना देश के प्यारो -२! अब हम तो सफ़र करते हैं -२
क्या लोग थे वो दीवाने! क्या लोग थे वो अभिमानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |४|
तुम भूल न जाओ उनको! Bold textइसलिये कही ये कहानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी
जय हिन्द। जय हिन्द की सेना -२!
जय हिन्द, जय हिन्द, जय हिन्द||[3]
"Aye Mere Watan Ke Logo" (ऐ मेरे वतन के लोगों; "O! the people of my country!") is an Indian patriotic song written in Hindi by Kavi Pradeep and composed by C. Ramchandra commemorating Indian soldiers who died during the Sino-Indian War. It was famously performed live by Lata Mangeshkar in the presence of Prime Minister Jawaharlal Nehru at the Ramlila grounds in New Delhi on Republic Day (26 January) 1963, several months after the end of the war.[1] A copy of the soundtrack spool was also gifted to Nehru on the occasion. According to popular legend, Nehru was moved to tears by the song.
The lyrics of the song not only reflected Kavi Pradeep's sentiments but his nationalistic thinking of the country at large. With singer Lata Mangeshkar and composer C Ramchandra he brought tears to every eye including Nehru's.
None of the artists and technicians involved with the song — including singers, musicians, music director, lyricist, recording studio, sound recordist — charged for the song, and later, lyricist Kavi Pradeep pledged the royalty of the song to the 'War Widows Fund'

महान क्रांतिकारी रामप्रसाद बिस्मिल की इन पंक्तियों को तोड़ने मरोड़ने की धृष्टता की क्षमा याचना के साथ ,

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे किस बरस मेले
वतन पे मरने वालों का कभी कोई निशाँ होगा ?

कहीं ऐसा तो नहीं जिन शहीदों के बलिदान के लिए हमें कृतज्ञ एवं आभारी होना चाहिए हम उन्हें भुला बैठे हैं ! ज़रा अपना ह्रदय टटोल कर देखिये !

साधना वैद