Followers

Monday, January 30, 2017

जो दर्द दिए तूने




जो दर्द दिए तूने वो हँस के पी रहे हैं,

आहें निकल न जाएँ होठों को सी रहे हैं,

तूने क़सर न छोड़ी थोड़ी भी मारने में,

पर देख बेमुरव्वत हम फिर भी जी रहे हैं !

साधना वैद