Followers

Monday, April 30, 2018

नभ के चंदा



आसमान में
झिलमिल करता
चमका चन्दा

तारों के संग
दूर क्षितिज तक
दमका चन्दा

शीतल चंदा
गगन से उतरी
अमृत धारा

प्लावित होता
तृषित अवनि का
अंतर सारा

विहँँस उठा
सम्पूर्ण प्रकृति का
हरेक छौना

दमक उठा
सम्पूर्ण जगति का
हरेक कोना

झूम उठी है
धरा मुदित मन
इठलाई सी

शुभ्र वस्त्र में
नख से शिख तक
इतराई सी

माना तुमको
प्रियतम इसने
नभ के चन्दा

मिले कभी ना
बेहतर इससे
तुमको चन्दा



साधना वैद










Post a Comment