Followers

Sunday, March 3, 2019

करे वंदन तुम्हें अभिनन्दन



करे वंदन 
तुम्हें अभिनन्दन 
कृतज्ञ राष्ट्र


ऋण चुकाया 
शूरवीर बेटे ने 
भारत माँ का


लक्ष्य संधान 
पूर्ण सतर्कता से 
शत्रु परास्त


कायम रखी 
पूरी गोपनीयता 
चतुराई से


बन बैठा वो 
शौर्य का प्रतिमान 
एक पल में


गायेगा राष्ट्र 
उसका यश गान 
पूर्ण निष्ठा से


गर्वित हम 
वीर ‘अभिनन्दन’ 
देश का मान


हर्षित हम 
लौटा ‘अभिनन्दन’ 
देश की जान



साधना वैद

3 comments :

  1. करें अभिनन्दन वीर सपूर अभिनन्दन का |
    शानदार हाईकू रचे हैं |

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (04-03-2019) को "शिव जी की त्रयोदशी" (चर्चा अंक-3264) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    महाशिवरात्रि की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete