Followers

Friday, April 19, 2019

अमिया के टिकोरे सी तुम

  


कितनी मासूम,
कितनी भोली,
कितनी प्यारी,
कितनी सुन्दर हो तुम
बिलकुल अमिया के टिकोरे सी !
खट्टी मीठी, कुरकुरी,
खुशबूदार और ताज़ी !  
तुम्हारी चंचल बातें
मुझे अक्सर
हैरान कर जाती हैं !
मेरे अंतर को
आनंद से भर जाती हैं !
देर तक उनका स्वाद
मेरे मन मस्तिष्क को
उद्दीप्त रखता है !
कभी मुझे अपनी
शरारती खटास से
झकझोर जाता है
तो कभी अपनी
मधु सी मिठास से
मुग्ध कर जाता है !
इसीलिये हरदम मुझे
तुम्हारे सामीप्य की
चाहत होती है !
जैसे स्कूल के बच्चे
अमिया की आस में
आम के पेड़ों के
इर्द गिर्द मंडराते हैं
मेरा बावरा मन
तुमसे बतियाने की
चाहत में हर वक्त
तुम्हारे ही आस पास
मंडराता है !
तुम्हारी चंचल बातों के
अनोखे स्वाद में 
  डूब जाना चाहता है !  


साधना वैद 

22 comments :

M VERMA said...

मन की मिठास है इस रचना में

सुंदर

देवेन्द्र पाण्डेय said...

वाह!

Anita saini said...


जी नमस्ते,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (20-04-2019) को "रिश्तों की चाय" (चर्चा अंक-3311) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
आप भी सादर आमंत्रित है
- अनीता सैनी

Asha Lata Saxena said...

बचपन की याद दिलाती बहुत प्यारी रचना |

Kailash Sharma said...

बहुत ख़ूबसूरत रचना...

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद आपका वर्मा जी !

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद देवेन्द्र जी !

Sadhana Vaid said...

आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद जीजी ! आभार आपका !

Sadhana Vaid said...

हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद आपका कैलाश जी ! आभार !

शिवम् मिश्रा said...

ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सब को हनुमान जयंती की हार्दिक मंगलकामनाएँ !!

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 19/04/2019 की बुलेटिन, " हनुमान जयंती की हार्दिक मंगलकामनाएँ - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Sadhana Vaid said...

आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शिवम् जी !

Sweta sinha said...

जी नमस्ते,
आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
२२ अप्रैल २०१९ के लिए साझा की गयी है
पांच लिंकों का आनंद पर...
आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

Anita saini said...

वाह !बहुत सुन्दर आदरणीया दी जी
सादर

Anuradha chauhan said...

बेहतरीन प्रस्तुति

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद श्वेता जी ! आपका बहुत बहुत आभार सखी !

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद अनीता जी! दिल से आभार !

Sadhana Vaid said...

अनुराधा जी आपका तहे दिल से बहुत बहुत शुक्रिया !सप्रेम वन्दे !

sudha devrani said...

वाह!!!
बहुत ही सुन्दर...

Sadhana Vaid said...

हार्दिक धन्यवाद सुधा जी! आभार आपका !

संजय भास्‍कर said...

ख़ूबसूरत रचना...

ज्योति सिंह said...

अति उत्तम साधना जी