Followers

Friday, April 19, 2019

अमिया के टिकोरे सी तुम

  


कितनी मासूम,
कितनी भोली,
कितनी प्यारी,
कितनी सुन्दर हो तुम
बिलकुल अमिया के टिकोरे सी !
खट्टी मीठी, कुरकुरी,
खुशबूदार और ताज़ी !  
तुम्हारी चंचल बातें
मुझे अक्सर
हैरान कर जाती हैं !
मेरे अंतर को
आनंद से भर जाती हैं !
देर तक उनका स्वाद
मेरे मन मस्तिष्क को
उद्दीप्त रखता है !
कभी मुझे अपनी
शरारती खटास से
झकझोर जाता है
तो कभी अपनी
मधु सी मिठास से
मुग्ध कर जाता है !
इसीलिये हरदम मुझे
तुम्हारे सामीप्य की
चाहत होती है !
जैसे स्कूल के बच्चे
अमिया की आस में
आम के पेड़ों के
इर्द गिर्द मंडराते हैं
मेरा बावरा मन
तुमसे बतियाने की
चाहत में हर वक्त
तुम्हारे ही आस पास
मंडराता है !
तुम्हारी चंचल बातों के
अनोखे स्वाद में 
  डूब जाना चाहता है !  


साधना वैद 

22 comments :

  1. मन की मिठास है इस रचना में

    सुंदर

    ReplyDelete

  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (20-04-2019) को "रिश्तों की चाय" (चर्चा अंक-3311) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    - अनीता सैनी

    ReplyDelete
  3. बचपन की याद दिलाती बहुत प्यारी रचना |

    ReplyDelete
  4. बहुत ख़ूबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  5. हार्दिक धन्यवाद आपका वर्मा जी !

    ReplyDelete
  6. हार्दिक धन्यवाद देवेन्द्र जी !

    ReplyDelete
  7. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  8. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  9. हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद आपका कैलाश जी ! आभार !

    ReplyDelete
  10. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सब को हनुमान जयंती की हार्दिक मंगलकामनाएँ !!

    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 19/04/2019 की बुलेटिन, " हनुमान जयंती की हार्दिक मंगलकामनाएँ - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शिवम् जी !

    ReplyDelete
  12. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २२ अप्रैल २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  13. वाह !बहुत सुन्दर आदरणीया दी जी
    सादर

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. हार्दिक धन्यवाद श्वेता जी ! आपका बहुत बहुत आभार सखी !

    ReplyDelete
  16. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी! दिल से आभार !

    ReplyDelete
  17. अनुराधा जी आपका तहे दिल से बहुत बहुत शुक्रिया !सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  18. वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  19. हार्दिक धन्यवाद सुधा जी! आभार आपका !

    ReplyDelete
  20. अति उत्तम साधना जी

    ReplyDelete