Followers

Tuesday, April 2, 2019

क्या है कविता



कभी मन में धधकते दावानल की 
चिंगारी है कविता तो कभी 
सुलगते अंगारों पर पड़ी 
शीतल फुहार है कविता ! 
कभी वर्षों के मौन को 
मुखर करती 
कुछ कहती कुछ सुनती 
बातों की लड़ी है कविता 
तो कभी अनर्गल प्रलाप पर 
सहसा लगा एक 
पूर्णविराम भी है कविता !
तुम्हारी चुप्पी है कविता 
तो मेरी बकबक भी है कविता ! 
कभी फूलों की खुशबू है कविता 
तो कभी काँटों की चुभन है कविता !



साधना वैद

11 comments :

  1. व्वाहहह..
    सादर नमन...

    ReplyDelete
  2. हार्दिक धन्यवाद दिग्विजय जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (03-04-2019) को "मौसम सुहाना हो गया है" (चर्चा अंक-3294) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत ही सुन्दर
    ऐसे ही होती है कविता....

    ReplyDelete
  5. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  6. हार्दिक धन्यवाद रीना जी ! बड़े दिनों के बाद आना हुआ आपका ! हृदय से स्वागत है आपका !

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 02/04/2019 की बुलेटिन, " २ अप्रैल को राकेश शर्मा ने छुआ था अंतरिक्ष - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन रचना ,अनगिनत समस्या -समाधान और भावों का संगम संग्रह है कविता

    ReplyDelete
  9. हार्दिक धन्यवाद शिवम् जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  10. हार्दिक धन्यवाद ज्योति जी !

    ReplyDelete