Followers

Wednesday, October 9, 2019

रावण की गुहार


मैं रावण हूँ लेकिन
तुमने मुझे रक्तबीज बना दिया है
हर वर्ष जलाते हो मुझे
और मैं हर वर्ष फिर नया जन्म लेता हूँ
फिर से मारे जाने के लिए !
मेरा वध करने के लिए तुम्हें भी
हर साल जन्म लेना पड़ता है राम
तुमने ही मुझे अजर अमर बना दिया है !
हर साल जहाँ मेरी जली देह के
अंश धरा पर गिरते हैं
मेरा प्रतिशोध लेने के लिये
असंख्यों रावण फिर से
उस धरती पर जन्म ले लेते हैं !
लेकिन इनका वध करने के लिए
तुम तो एक ही रह जाते हो राम
कितने रावण मारोगे ?
क्यों न इस सिलसिले को यहीं रोक दें ?
इस बार अंतिम रूप से
मेरे पुतले को जला कर
मुझे मोक्ष दे दो
मैं भी हर साल जल जल कर
बहुत थक गया हूँ राम
अब मुझ पर कृपा करो
और इस धरा पर जो
असंख्यों जीवित सदेह रावण
सज्जनों का मुखौटा चढ़ाए
समाज में छिपे बैठे हैं
तुम उनके संहार पर
अपना ध्यान केन्द्रित करो !
मेरी इतनी विनती सुन लो राम
इस बार तुम मुझे
निर्माण और विध्वंस की इस
त्रासदी से स्थायी रूप से
मुक्ति दे दो !

साधना वैद

11 comments :

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 09 अक्टूबर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार आपका यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  3. इस बार तुम मुझे
    निर्माण और विध्वंस की इस
    त्रासदी से स्थायी रूप से
    मुक्ति दे दो
    सुंदर सृजन ,सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद कामिनी जी ! आभार आपका !

      Delete
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 10.10.19 को चर्चा मंच पर चर्चा -3484 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ह्रदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी ! सादर वन्दे !

      Delete
  5. सही कहा दी, हृदय में रावण को जगह दे रखी है और हर वर्ष रावण का पुतला जलाने का नाटक करते हैं। अब यह नाटक बंद ही होना चाहिए। वैसे भी प्रदूषण ही फैलता है इससे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत हूँ आपसे मीना जी ! हार्दिक धन्यवाद एवं आभार !

      Delete
  6. आज पार्कों में, चौराहों पर, कालोनियों में या मैदानों में जो रावण के पुतले फूंके जाते हैं उनको फूंकने में अगुवाई करने वाले अधिकांश तो खुद बुराइयों के पुतले होते हैं ! उनकी तो खुद की अपनी लंकाऐं होती हैं, काम-क्रोध-मद-लोभ जैसी बुराइयों से भरपूर ! तो बुराई ही बुराई पर क्योंकर विजय पाएगी ?

    ReplyDelete
  7. हार्दिक धन्यवाद गगन जी ! इसीलिये इस खोखली प्रथा को अंत करने की इच्छा प्रकट की है क्योंकि अब यह तय करना मुश्किल होता जा रह़ा है कि रावण के मासूम काग़ज़ी पुतले पर असल जगत के 'राम' तीर चला रहे हैं या 'रावण' ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. रावण दहन करते करते अब कोई आकर्षण शेष नहीं रहा है सही कहा है |

    ReplyDelete