Followers

Wednesday, May 13, 2020

व्योम के उस पार




दूर क्षितिज तक पसरे
तुम्हारे कदमों के निशानों पर
अपने पैर धरती
तुम तक पहुँचना चाहती हूँ !
सारी दिशाएँ खो जायें,
सारी आवाजें गुम हो जायें,
सारी यादें धुँधला जायें,
मेरी डायरी में लिखे
तुम्हारे पते की स्याही
वक्त के मौसमों की मार से
भले ही मिट जाये
मेरे मन की मरुभूमि की रेत पर
अंकित ये निशान आज भी
उतने ही स्पष्ट और ताज़े हैं
जितने वो उस दिन थे
जब वर्षों पहले मुझसे
आख़िरी बार मिल कर
तुम्हारे पल-पल दूर जाने से
मेरे मन पर बने थे !  
तुम्हारे कदमों के
उन्हीं निशानों पर पैर रखते हुए
चलते रहना मुझे बहुत
अच्छा लगता है !
विरह की ज्वाला 
कुछ शांत होने लगती है 
आस पास की हवा 
महकती सी लगती है 
फासले कुछ कम होते से
लगते हैं और
उम्मीद की शाख हरी
होने लगती है !
जानती हूँ राह अनन्त है
मंज़िल का कोई ओर छोर भी
दिखाई नहीं देता
लेकिन मुझे विश्वास है
तुम्हारे पैरों के इन निशानों पर
पैर रखते हुए मैं
एक न एक दिन ज़रूर  
तुम तक पहुँच जाऊँगी
फिर चाहे यह मुलाक़ात
इस लोक में हो या
व्योम के उस पार !


साधना वैद    

30 comments :

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद नीतीश जी !आभार आपका !

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 14.5.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3701 में दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद दिलबाग जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सादर वन्दे !

      Delete
  3. दार्शनिक भावों से सजी सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  4. कितनी सुँदर रचना🥰

    ReplyDelete
    Replies
    1. ओह ! आज आपको यहाँ का मार्ग मिल गया उषा जी ! बहुत बहुत स्वागत है आपका ! हार्दिक अभिनन्दन एवं हृदय से धन्यवाद एवं आभार !

      Delete
  5. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार विकास जी !

      Delete
  6. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार १५ मई २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ! आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार श्वेता जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीया दीदी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अनीता जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  8. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद केडिया जी ! आभार आपका !

      Delete
  9. बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद भारती जी ! बहुत बहुत आभार !

      Delete
  10. Replies
    1. हृदय से धन्यवाद शुभा जी ! आभार आपका !

      Delete
  11. सुखद एहसास करता सुंदर सृजन दी ,सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद कामिनी जी ! दिल से आभार !

      Delete
  12. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 18 मई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार यशोदा जी ! सप्रेम वन्दे !

      Delete
  13. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  14. हार्दिक धन्यवाद अनुराधा जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर सृजन
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद सुधा जी ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  16. Bahut achhi rachna hai Sadhana ji, dil ko chhoo gayi. Sach hai, kuch log jo hame bhool jaate hein, unhen bhoolana kabhi kabhi kathin ho jaata hai. Dil baar baar chahta hai ke kaise bhi, chahe pal bhar ke liye hi, wo pal phir se jiye jane ka ek mauka to mile. Aas hi mano-bal hai, chahe puri ho ya rahe adhuri, jine ka sahara to hai hi.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद मान्यवर ! आपको रचना अच्छी लगी मेरा लेखन सार्थक हुआ ! बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete