Followers

Saturday, June 4, 2011

कब होता है


मेरा सोचा तुम सुन लो कब होता है ,
मेरा चाहा तुम चुन लो कब होता है ,
हम दो अलग-अलग राहों पर चलते हैं ,
हमराही बन साथ चलें कब होता है !

सपने तो मेरी आँखों ने देखे हैं ,
हाथों में मेरी किस्मत के लेखे हैं ,
सपने सारे कब किसके सच होते हैं ,
किस्मत मेरी तुम लिख दो कब होता है !

कितनी साध फुँकी दिल में तुम क्या जानो ,
कितना दग्ध हुआ अंतर तुम क्या जानो ,
चिर तृष्णा से शुष्क चटकते अधरों पर ,
स्वाति बूँद बन तुम बरसो कब होता है !

निर्जल गागर सा रीता जीवन मेरा ,
भीषण ज्वाला से झुलसा उपवन मेरा ,
उर प्रदेश की तप्त तृषित इस धरिणी पर ,
उमड़-घुमड़ रह-रह बरसो कब होता है !

दूर क्षितिज तक सिर्फ अँधेरा छाया है ,
मन परअवसादों का गहरा साया है ,
मेरे जीवन के सूने नीलांगन में
इन्द्रधनुष बन कर दमको कब होता है !



साधना वैद

22 comments :

  1. मेरे जीवन के सूने नीलांगन में
    इन्द्रधनुष बन कर दमको कब होता है
    bahut sundar bhav abhivyakt kiye hain is kavita ke dwara .aabhar

    ReplyDelete
  2. जो चाहो उसकी आकांक्षा ...उम्मीद ...कितनी गहरी चाहत है ...!!
    मैं डूब ही गयी हूँ इस रचना के भावों में ...
    बहुत सुंदर ,उत्कृष्ट अभिव्यक्ति है ...!!
    badhai .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर शब्द चयन और भाव |इस भाव पूर्ण मन को छूती रचना के लिए हार्दिक बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  4. मेरे जीवन के सूने नीलांगन में
    इन्द्रधनुष बन कर दमको कब होता है

    बहुत सुंदर गीत और गीत के माध्यम से अभिव्यक्त होती सुंदर भावनाएं. बहुत बढ़िया आभार.

    ReplyDelete
  5. कितनी साध फुँकी दिल में तुम क्या जानो ,
    कितना दग्ध हुआ अंतर तुम क्या जानो ,
    चिर तृष्णा से शुष्क चटकते अधरों पर ,
    स्वाति बूँद बन तुम बरसो कब होता है !

    जो मन चाहता है वो कब मिलता है ...इन भावों की पृष्ठभूमि पर सुन्दर रचना ...और यही नियति को स्वीकार कर बिता देते हैं ज़िंदगी ..

    ReplyDelete
  6. bhawbhini......dil ko choo gayee.

    ReplyDelete
  7. होता वही है जो जीवन में लिखा होता है.

    ReplyDelete
  8. सपने तो मेरी आँखों ने देखे हैं ,
    हाथों में मेरी किस्मत के लेखे हैं ,
    सपने सारे कब किसके सच होते हैं ,
    किस्मत मेरी तुम लिख दो कब होता है !

    सारा सच उतर आया है शब्दों में
    सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    ReplyDelete
  10. "कितनी साध फुँकी दिल में तुम क्या जानो ,
    कितना दग्ध हुआ अंतर तुम क्या जानो ,
    चिर तृष्णा से शुष्क चटकते अधरों पर ,
    स्वाति बूँद बन तुम बरसो कब होता है !"



    सुन्दर अभिव्यक्ति...!!

    ReplyDelete
  11. जो मन चाहा वो कब होता है ...
    मनमयूर नाच उठता है , जब होता है ...

    बेहद सुन्दर भाव ...उदासी होकर भी दिल नहीं दुखते ..सुन्दर !

    ReplyDelete
  12. साधना जी इस प्रस्तुति के लिए सिर्फ एक शब्द ही काफी है - "गज़ब"

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन....वाह!

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति्…..…. ह्र्दय से निकली सार्थक रचना……. धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. निर्जल गागर सा रीता जीवन मेरा ,
    भीषण ज्वाला से झुलसा उपवन मेरा ,..

    कुछ उदासी लिए ये भाव .. मन को दस्तक देते . ... सुंदर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  16. सच है जो चाहो वह कब होता है.................भावभीनी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. निर्जल गागर सा रीता जीवन मेरा ,
    भीषण ज्वाला से झुलसा उपवन मेरा ,
    उर प्रदेश की तप्त तृषित इस धरिणी पर ,
    उमड़-घुमड़ रह-रह बरसो कब होता है !


    ओह....क्या बात कही है...

    इस गहन भावमय प्रवाहमय कविता ने तो बस मन ही बाँध लिया...

    अतिसुन्दर अद्वितीय...क्या भाव क्या प्रवाह और क्या शिल्प...

    ReplyDelete
  18. दूर क्षितिज तक सिर्फ अँधेरा छाया है ,
    मन परअवसादों का गहरा साया है ,
    मेरे जीवन के सूने नीलांगन में
    इन्द्रधनुष बन कर दमको कब होता है !

    बहुत सुन्दर प्रवाहमयी प्रस्तुति..शब्दों और भावों का सुन्दर संयोजन...हर पंक्ति अंतर्मन को छू जाती है...आभार

    ReplyDelete
  19. मेरे जीवन के सूने नीलांगन में
    इन्द्रधनुष बन कर दमको कब होता है
    सुन्दर भावाव्यक्ति।
    बधाई हो आपको - विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete